ताज़ा खबर
 

बदायूं कांड में बड़ा खुलासा: बहनों ने की थी खुदकुशी

इस साल मई में उत्तर प्रदेश के बदायूं जिले में पेड़ से लटकी पाई गर्इं दो चचेरी बहनों की मौत की जांच कर रही सीबीआइ इस नतीजे पर पहुंची है कि उन दोनों ने आत्महत्या की थी। सामूहिक बलात्कार और हत्या के आरोपों को लेकर सबूत नहीं मिला। सीबीआइ प्रवक्ता कंचन प्रसाद ने गुरुवार को […]

बहनों ने की थी खुदकुशी: सीबीआइ

इस साल मई में उत्तर प्रदेश के बदायूं जिले में पेड़ से लटकी पाई गर्इं दो चचेरी बहनों की मौत की जांच कर रही सीबीआइ इस नतीजे पर पहुंची है कि उन दोनों ने आत्महत्या की थी। सामूहिक बलात्कार और हत्या के आरोपों को लेकर सबूत नहीं मिला। सीबीआइ प्रवक्ता कंचन प्रसाद ने गुरुवार को बताया कि करीब 40 वैज्ञानिक रिपोर्ट के आधार पर सीबीआइ का निष्कर्ष है कि बदायूं मामले में दोनों नाबालिग लड़कियों से बलात्कार नहीं हुआ था और उनकी हत्या नहीं की गई, जैसा कि एफआइआर में आरोप था। उन्होंने कहा कि जांच से नतीजा निकला है कि यह आत्महत्या का मामला है।

जून में जांच का जिम्मा संभालने वाली सीबीआइ ने कहा कि लड़कियों पर यौन हमले और हत्या का कोई सबूत नहीं है। एजंसी बदायूं की अदालत में 28 नवंबर को अपनी अंतिम रिपोर्ट दाखिल कर सकती है।

सीबीआइ कटरा गांव में दो किशोरियों की कथित हत्या और बलात्कार के मामले में उत्तर प्रदेश पुलिस के गिरफ्तार किए गए पांच लोगों-पप्पू, अवधेश और उर्वेश यादव (तीनों भाई) और कांस्टेबलों छत्रपाल यादव व सर्वेश यादव के खिलाफ आरोपपत्र दायर नहीं करने का फैसला पहले ही कर चुकी है। एक लड़की की उम्र 14 साल और दूसरी की उम्र 15 साल थी।

घटना पर देशभर में प्रदर्शन हुए। कानून व्यवस्था के मुद्दे पर राज्य की समाजवादी पार्टी सरकार चारों ओर से घिर गई थी। सीबीआइ सूत्रों ने बताया कि आरोपियों को हत्या से जोड़ने का कोई सबूत नहीं है। सीबीआइ के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि मेडिकल बोर्ड इस नतीजे पर पहुंचा कि किसी भी पीड़िता पर यौन हमले का मामला संदिग्ध प्रतीत होता है। सीबीआइ ने हैदराबाद स्थित सेंटर फॉर डीएनए फिंगर प्रिंटिंग एंड डायग्नोस्टिक्स (सीडीएफडी) की मदद ली थी जिसने दोनों लड़कियों पर यौन हमले को खारिज कर दिया। लाई डिटेक्शन टेस्ट में पांच लोगों के खिलाफ कुछ सबूत नहीं मिला।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App