ताज़ा खबर
 

बाबर रोड का नाम हो 5 अगस्त मार्ग- भूमि पूजन से पहले BJP नेता विजय गोयल ने उठाई मांग

विजय गोयल ने ट्वीट करते हुए लिखा है, मैंने सरकार से माँग रखी है की बाबर एक विदेशी आक्रांता था। जिसने प्राचीन राम मंदिर का विध्वंस करवाया था। इसलिए दिल्ली के बंगाली मार्केट में बाबर रोड का नाम बदल कर 5 अगस्त मार्ग रखा जाना चाहिए।

Babar Road, Vijay Goel,विजय गोयल ने बाबर रोड का नाम बदलने की मांग की है। (फोटो-ट्विटर)

अयोध्या में राम मंदिर भूमि पूजन से पहले बीजेपी नेता ने दिल्ली में बाबर रोड का नाम बदलने की मांग की है। दिल्ली बंगाली मार्केट स्थिति बाबर रोड का नाम बदलकर पांच अगस्त रोड रखने की मांग की है। उन्होंने ट्वीट करते हुए लिखा है, मैंने सरकार से माँग रखी है की बाबर एक  विदेशी आक्रांता था। जिसने प्राचीन राम मंदिर का विध्वंस करवाया था। इसलिए दिल्ली के बंगाली मार्केट में बाबर रोड का नाम बदल कर 5 अगस्त मार्ग रखा जाना चाहिए।

एक और ट्वीट में उन्होंने लिखा है, दिल्ली के बंगाली मार्किट में “बाबर रोड” का नाम बदलकर “5 अगस्त मार्ग” रखा जाये। बाबर विदेशी आक्रांता था, उसने अयोध्या में राम मंदिर का विध्वंस करवाया।कल 5 अगस्त को अयोध्या में श्री राम के भव्य मंदिर का शिलान्यास प्रधानमंत्री करेंगे ऐसे में NDMC को बाबर रोड का नाम बदलना चाहिए।

गौरतलब है कि विजय गोयल ने दिल्ली में बाबर रोड का नाम बदलने का प्रस्ताव ऐसे समय में रखा है जब अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए 5 अगस्त को भूमि पूजन का कार्यक्रम होना है। इस कार्यक्रम में पीएम नरेंद्र मोदी भी शामिल होंगे।

बता दें कि यह पहली दफा नहीं है जब राजधानी दिल्ली में रोड का नाम बदले जाने की मांग की जा रही है। इससे पहले दिल्ली में औरंगजेब रोड का नाम बदला गया था। तत्कालीन सांसद महेश गिरि की मांग पर 28 अगस्त 2015 को नई दिल्ली नगर निगम ने औरंगजेब रोड का नाम बदल कर डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम रोड कर दिया था।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 PAK का नया नक्शाः लद्दाख-सियाचिन और जूनागढ़ को बताया अपना, तो बोला भारत- ये मूर्खता की कोशिश
2 बजरंगबली का हनुमान से बड़ा कोई भक्त नहीं- जब चैनल पर ‘प्रवचन’ करते एंकर ने कहा ऐसा तो हुई किरकिरी
3 नए इलाकों से आए COVID-19 केस, पर 82% मामले सिर्फ 10 सूबों मेंः स्वास्थ्य मंत्रालय
ये पढ़ा क्या?
X