Baba ramdev says if Rohingya settles here then 10 Kashmiris will be ready - रामदेव बोले- रोहिंग्‍या यहां बस गए तो 10 कश्‍मीर और तैयार हो जाएंगे - Jansatta
ताज़ा खबर
 

रामदेव बोले- रोहिंग्‍या यहां बस गए तो 10 कश्‍मीर और तैयार हो जाएंगे

बाबा रामदेव ने रोहिंग्या मुसलमानों को लेकर बड़ी टिप्पणी की है। उन्होंने कहा कि यदि रोहिंग्या यहां बस गए तो 10 कश्मीर और तैयार हो जाएंगे।

रोहिंग्या मुसलमानों को लेकर बाबा रामदेव ने की टिप्पणी (Photo source- ANI)

देश में एनआरसी को लेकर शुरू हुआ विवाद अभी थमता नहीं दिख रहा है। कुछ इसे राष्ट्र हित में बता रहे हैं तो कुछ इसे वोट की राजनीति बता रहे हैं। इस बीच योग गुरु बाबा रामदेव ने हरियाणा के रोहतक में बड़ा बयान दिया है। उन्हाेंने कहा कि, “3 से 4 करोड़ लोग भारत में अवैध तरीके से रहते हैं। इनमें रोहिंग्या उपर से और आ गए, जिनको गलत तरीके से ट्रेनिंग दी गई है। वो यहां पर बस गए तो 10 कश्मीर और तैयार हो जाएंगे।” बाबा रामदेव ने असम में एनआरसी को देश में अवैध रूप से रह रहे लोगों की संख्या नियंत्रित करने की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम बताया। उन्होंने मीडिया से बात करते हुए कहा कि, “चाहे वह बांग्लादेशी हो या पाकिस्तानी हो, रोहिंग्या हो या अमेरिकी, सभी अवैध घुसपैठियों को देश से बाहर किया जाना चाहिए। सभी अवैध घुसपैठियों ने भारत की सुरक्षा के लिए खतरा पैदा किया है। कश्मीर की समस्या अभी तक सुलझी नहीं है। यदि यहां रोहिंग्याओं को बसने दिया गया तो 10 और कश्मीर जैसी समस्याएं पैदा हो जाएगी।”

रोहतक में मीडिया से बात करते हुए बाबा रामदेव ने आरक्षण पर भी अपनी प्रतिक्रिया दी। उन्होंने कहा कि आरक्षण की व्यवस्था में बदलाव होना चाहिए। दलितों और पिछड़े वर्ग के समर्थ लोगों को आरक्षण नहीं मिलना चाहिए। इसमें क्रीमी लेयर को परिभाषित किया जाना चाहिए। जब तक गरीबी दूर नहीं होगा, आरक्षण की आग नहीं बुझेगी।

 

बता दें कि असम में एनआरसी जारी किया गया है, जिसमें 40 लाख से अधिक लोगों के नाम को शामिल नहीं किया गया है। इन 40 लोगों की नागरिकता पर सवाल खड़े हो गए हैं। हालांकि, इस बाबत केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि, “घबराने की कोई जरूरत नहीं है। सभी वास्तविक भारतीयों को अपनी नागरिकता साबित करने के लिए पर्याप्त अवसर दिए जाएंगे। किसी को परेशान नहीं किया जाएगा। यह असम में अवैध प्रवासियों की पहचान के मकसद से किया जा रहा है।” वहीं, दूसरी ओर विपक्ष इस मसले पर आक्रोशित है। विपक्षी पार्टियों का कहना है कि मोदी सरकार बांटो और राज करो की नीति अपना रही है। सरकार के इस कदम से देश में गृह युद्ध छिड़ सकता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App