ताज़ा खबर
 

बलात्कारी राम रहीम को मिली 20 साल की सजा तो योगगुरु रामदेव ने दिया ये बयान

बलात्कारी बाबा राम रहीम को सजा सुनाए जाने के बाद अब योग गुरु स्वामी रामदेव ने प्रतिक्रिया दी है।

कोर्ट के फैसले के बाद राम रहीम को अब बीस साल जेल की कोठरी में काटने होंगे

बलात्कारी बाबा राम रहीम को सजा सुनाए जाने के बाद अब योग गुरु स्वामी रामदेव ने प्रतिक्रिया दी है। न्यूज एजेंसी एनएनआई के अनुसार रामदेव ने कहा, ‘कोर्ट ने एक उदाहण पेश किया है। इससे कोई बच नहीं सकता। ये फैसला लोगों के बीच एक उदाहरण स्थापित करेगा कि कोई भी व्यक्ति कितना भी ताकतवर हो लेकिन वो कोर्ट और कानून से बच नहीं सकता।’ योग गुरु बाबा रामदेव ने आगे कहा कि धर्म के नाम पर गैर धार्मिक गतिविधियों नहीं होनी चाहिए। इंसाफ मिलने में देर हो सकती है लेकिन इससे बचा नहीं जा सकता। हमारी न्याय प्रणाली ने एक उदाहरण पेश किया है कि कोई भी शख्स अपराध करने के बाद बच नहीं सकता। कानून जरूर उसे सजा देता है। कोर्ट ने ऐसा ही एक उदाहरण पेश किया है। ताकतवर लोगों को इससे सबक लेना चाहिए। उन्हें ऐसे अपराधों से बचना चाहिए। क्योंकि अगर आप दोषी हैं तो सजा के लिए भी तैयार रहिए।

गौरतलब है कि डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम सिंह को सोमवार को सीबीआई की विशेष अदालत ने रेप के दो मामलों में 10-10 साल की सजा सुनाई। कोर्ट ने बचाव पक्ष की दलीलों को मानने से इनकार कर दिया। सजा सुनाए जाने से पहले राम रहीम ने जज के सामने हाथ जोड़े और माफी की मांग की। उसके वकीलों ने अच्छे कामों का हवाला देकर नरमी की मांग भी की लेकिन कोर्ट उससे सहमत नहीं हुआ। सजा सुनाने के लिए रोहतक की जेल में बनी विशेष अदालत में जज जगदीप सिंह हेलीकॉप्टर से पहुंचे थे। जानकारी के लिए बता दें कि कोर्ट ने 25 अगस्त को राम रहीम को दो महिलाओं से बलात्कार के मामले में दोषी माना था।

कोर्ट के फैसले के बाद राम रहीम को अब बीस साल जेल की कोठरी में काटने होंगे। उसे सामान्य कैदियों की तरह जेल के छोटे कमरे में रखा गया है। सूत्र बताते हैं कि क्योंकि बाबा वीआईपी कैदी है इसलिए उसके सुरक्षा के लिए दो सुरक्षा अधिकारियों को तैनात किया गया है। बलात्कारी बाबा को जेल की जिस कोठरी में रखा गया वो जेल प्रशासन ऑफिस काफी करीब है। ऐसा इसलिए हैं क्योंकि जेल में बाबा को अन्य कैदियों से खतरा हो सकता है।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App