ताज़ा खबर
 

IMA के मानहानि दावे पर बोले रामदेव- इनकी क्या इज्जत, दावा तो मुझे करना चाहिए था

बाबा रामदेव ने यह भी कहा कि इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आईएमए) पूरे मेडिकल साइंस का प्रतिनिधित्व नहीं करता है। यह अंग्रेजों के समय का बनाया गया एनजीओ है।

टीवी डिबेट के दौरान आईएमए के द्वारा मानहानि नोटिस भेजे जाने के सवाल पर बाबा रामदेव ने कहा कि जिसकी इज्जत होती है उसकी कोई बेइज्जती करता है। (एक्सप्रेस फोटो: प्रेम नाथ पांडेय)

एलोपैथी डॉक्टरों को लेकर दिए गए विवादित बयान के बाद आईएमए ने बाबा रामदेव को 1000 करोड़ का मानहानि नोटिस भेजा है और अपने बयान को लेकर लिखित माफ़ी मांगने को कहा गया है। इसी बीच मानहानि नोटिस को लेकर बाबा रामदेव ने कहा है कि इनकी क्या इज्जत है जो बेइज्जती होगी। साथ ही बाबा रामदेव ने कहा कि मानहानि का दावा तो मुझे करना चाहिए था।

न्यूज18 इंडिया पर आयोजित एक कार्यक्रम में जब एंकर अमिश देवगन ने बाबा रामदेव से आईएमए के मानहानि नोटिस को लेकर सवाल पूछा। तो बाबा रामदेव ने जवाब देते हुए कहा कि जो मेरे से माफ़ी की मांग कर रहे हैं..जिसकी इज्जत होगी, उसकी कोई बेइज्जती करेगा ना। आगे रामदेव ने कहा कि स्वामी रामदेव की इज्जत, प्रतिष्ठा और योगदान क्या है..इसके बारे में मुझे कुछ कहने की आवश्यकता नहीं है। साथ ही बाबा रामदेव ने कहा कि मानहानि का मुकदमा तो मुझे करना चाहिए था। 

इस दौरान बाबा रामदेव ने यह भी कहा कि इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आईएमए) पूरे मेडिकल साइंस का प्रतिनिधित्व नहीं करता है। यह अंग्रेजों के समय का बनाया गया एनजीओ है और यह कोई क़ानूनी संस्था भी नहीं है। ये लोग वैज्ञानिक मान्यता की बात करते हैं आखिर ये लोग होते कौन हैं ऐसी बात करने वाले। इनको अपने मर्यादा में रहना चाहिए। इसके अलावा बाबा रामदेव ने कहा कि आईएमए में 90% लोग पॉलिटिकल हैं और यह राजनीतिक संस्था है। इसलिए इसको इतनी गंभीरता से नहीं लेना चाहिए। 

बाबा रामदेव ने आईएमए पर आयुर्वेद से घृणा करने का आरोप भी लगाया। रामदेव ने इस दौरान एलोपैथी पर निशाना साधते हुए कहा कि एलोपैथ में महंगी दवा दी जाती है, लोगों को फार्मा इंडस्ट्री के द्वारा लूटा जाता है। साथ ही उन्होंने कहा कि हमेशा ही आयुर्वेद को एलोपैथी से कमतर आंका जाता है।

बता दें कि एलोपैथी डॉक्टरों को लेकर दिए गए विवादित बयान के बाद इंडियन मेडिकल एसोसिएशन की उत्तराखंड शाखा ने 1000 करोड़ रुपये का मानहानि नोटिस भेजा है। नोटिस में रामदेव से उनके बयान का खंडन वीडियो और लिखित माफी मांगने को कहा गया है। इंडियन मेडिकल एसोसिएशन ने कहा कि बाबा रामदेव के बयान से करीब 2000 के चिकित्सकों की प्रतिष्ठा को नुकसान पहुंचा है।

Next Stories
1 बारहवीं के एग्जाम रद कराने के लिए 521 छात्र पहुंचे सुप्रीमकोर्ट, बोले- प्रक्रिया जीवन के लिए खतरा
2 महाराष्ट्रः कांग्रेस के मंत्री ने कहा- गडकरी एक बेहतरीन व्यक्ति, पर वो गलत पार्टी में, मोदी ने कतरे उनके पर
3 शेखर गुप्ता ने कोरोना मौतों के आंकड़े पर उठाए सवाल, बोले भारत ही नहीं अमेरिका भी छिपा रहा डेटा
ये पढ़ा क्या?
X