रामदेव के वैक्सीन वाले बयान पर बोला दिल्ली हाई कोर्ट, बेच रहे थे कोरोनिल लेकिन टीका लगवाने से नहीं रोका

दिल्ली हाईकोर्ट ने टिप्पणी करते हुए कहा कि अगर यह मान भी लिया जाए कि रामदेव ने कोरोनिल को कोरोना वायरस की दवा कह कर बेचा भी लेकिन फिर भी रामदेव की तरफ से कोरोना को लेकर चलाए जा रहे टीकाकरण अभियान को लेकर कोई गलत बयानबाजी नहीं की गई।

Supreme Court India, Supreme Court Judgment, Indian Legal, Delhi High Court, Allahabad High Court, Patna High Court, Bombay High Court, Karnataka High Court, Madras High Court, Legal India, Law India, Indian Legal news, Latest Legal News, Breaking News, bar and bench, Live Court Updates, Litigation News, Supreme Court News, High Court News India, coronavirus, coronil, coronil vaccine, coronil drug, coronil covid 19, coronil patanjali, patanjali coronil, what is coronil, coronil patanjali kit, coronil kit, coronavirus vaccine, corona medicine, coronavirus medicine, patanjali vaccine, patanjali vaccine, patanjali corona vaccine, coronavirus vaccine update, covid-19 vaccine, covid-19 vaccine, jansatta
रामदेव ने कोरोनिल को कोरोना वायरस की दवा कह कर बेचा था। (Express File Photo by Praveen Khanna)

दिल्ली हाई कोर्ट ने मंगलवार को कहा कि बाबा रामदेव ने सरकार के कोविड टीकाकरण अभियान को प्रोत्साहित किया है और लोगों को अस्पतालों में जाने से कभी नहीं रोका। कोर्ट ने यह टिप्पणी रामदेव की कोरोनिल दवा और पतंजलि द्वारा किए जा रहे दावों को भ्रामक बताने वाली ऋषिकेश एम्स के रेजीडेंट डॉक्टर्स एसोसिएशन की याचिका पर सुनवाई करते हुए की है।

दिल्ली हाईकोर्ट ने टिप्पणी करते हुए कहा कि अगर यह मान भी लिया जाए कि रामदेव ने कोरोनिल को कोरोना वायरस की दवा कह कर बेचा भी लेकिन फिर भी रामदेव की तरफ से कोरोना को लेकर चलाए जा रहे टीकाकरण अभियान को लेकर कोई गलत बयानबाजी नहीं की गई। कोर्ट ने कहा कि अभी कोर्ट ये नहीं कह सकती कि रामदेव ने कोरोनिल को लेकर जो दावा किया था वह तकनीकी तौर पर सही था या नहीं। लेकिन इतना जरूर कहा जा सकता है कि रामदेव ने लोगों को कोरोना टीकाकरण को लेकर किसी तरह के भ्रम में नहीं डाला।

न्यायाधीश ने कहा, “वे कह रहे हैं कि उन्होंने (रामदेव) कोरोनिल का विज्ञापन किया था लेकिन उन्होंने कभी नहीं कहा कि टीकाकरण के लिए मत जाओ। दूसरी ओर, उन्होंने सरकार के टीकाकरण अभियान को भी प्रोत्साहित किया। उन्होंने स्पष्ट रूप से किसी को अस्पताल जाने से नहीं रोका। हां, उन्होंने कोरोनिल को बढ़ावा दिया और इसे कोरोना के इलाज के रूप में विज्ञापित किया। हालांकि, मैं इस बात पर नहीं जा रहा हूं कि उन्होंने किसी विज्ञापन कानून का उल्लंघन किया है या नहीं।”

मामले की पिछली सुनवाई के दौरान कोर्ट ने रामदेव को एलोपैथिक मेडिसिन को लेकर किसी भी तरह के बयान देने से रोक लगाने की मांग को मानने से इनकार कर दिया था। कोर्ट ने कहा कि रामदेव ने अगर एलोपैथिक मेडिसिन को लेकर कोई बयान दिया है तो यह उनका निजी बयान हो सकता है।

कोर्ट ने कहा था कि यह उनकी निजी राय या बयान हो सकता है लेकिन ये लोगों को तय करना है कि उनकी निजी राय है बयान को मानना है या नहीं. क्योंकि वो अपनी निजी राय जबरन किसी पर नहीं थोप रहे. अब इस मामले की अगली सुनवाई 5 अक्टूबर को होगी

पढें राष्ट्रीय समाचार (National News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट