ताज़ा खबर
 

अटल की अस्थि कलश यात्रा पर बोले आजम खान- आज खुद की जान लेना पसंद करुंगा

भाजपा पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की पूरे देश में अस्थि कलश यात्रा निकाल रही है। इस दौरान देश के अलग-अलग कोनों में और करीब 100 नदियों में अटल बिहारी वाजपेयी की अस्थियां विसर्जित की जा रही हैं।

azam khanसपा नेता आजम खान (image source-ANI)

सपा नेता आजम खान अक्सर अपने बयानों को लेकर चर्चा में रहते हैं। अब एक बार फिर उन्होंने एक ऐसा बयान दिया है, जिसने उन्हें चर्चाओं में ला दिया है। दरअसल आजम खान ने पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की अस्थि कलश यात्राओं के मुद्दे पर बोलते हुए कहा कि “यदि मुझे पता चल जाए कि मेरी मौत के बाद मुझे इतनी ज्यादा इज्जत दी जाएगी, तो मैं आज ही खुद की जान लेना पसंद करूंगा।” माना जा रहा है कि आजम खान ने अपने इस बयान के द्वारा भाजपा द्वारा निकाली जा रही अस्थि कलश यात्राओं पर तंज कसा है। हालांकि आजम खान के इस बयान की आलोचना भी हो रही है।

बता दें कि भाजपा पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की पूरे देश में अस्थि कलश यात्रा निकाल रही है। इस दौरान देश के अलग-अलग कोनों में और करीब 100 नदियों में अटल बिहारी वाजपेयी की अस्थियां विसर्जित की जा रही हैं। इसके साथ ही भाजपा विसर्जन से पहले जगह-जगह अस्थि कलश यात्रा निकाल रही है। हाल ही में दिल्ली में हुए एक कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने पार्टी के सभी प्रदेश अध्यक्षों को अटल बिहारी वाजपेयी के अस्थि कलश सौंपे। इन अस्थि कलशों को देश के हर कोने में विसर्जित करने की भाजपा की योजना है।

हाल ही में उत्तर प्रदेश के पूर्वांचल में अटल बिहारी वाजपेयी की अस्थि कलश यात्रा का आयोजन किया गया। जहां कई शहरों और जिलों से होते हुए यह अस्थि कलश यात्रा गंगा नगरी काशी में संपन्न हुई। जहां भाजपा प्रदेश अध्यक्ष महेंद्र नाथ पांडेय ने कई अन्य नेताओं के साथ अटल बिहारी वाजपेयी की अस्थियों को गंगा में प्रवाहित किया। हालांकि विपक्षी पार्टियां भाजपा की अस्थि कलश यात्राओं की आलोचना कर रही हैं और इसे चुनावी स्टंट तक बता रही हैं। वहीं दूसरी तरफ भाजपा अस्थि विसर्जन के बाद वाराणसी में पूर्व प्रधानमंत्री की तेरहवीं के आयोजन में जुट गई है। यह आयोजन 29 अगस्त को आयोजित होगा, जिसमें भाजपा नेता ब्राह्मण भोज के अलावा काशी में 51 हजार लोगों को भी भोज कराने की व्यवस्था करेगी। बता दें कि अटल बिहारी वाजपेयी के परिजन उनके पैतृक गांव बटेश्वर में भी तेरहवीं का आयोजन करेगा।

Next Stories
1 बरेली: मुस्लिम बहुल इलाके से कांवड़ यात्रा निकालने पर विवाद, 750 पर मुकदमा दर्ज
2 यूपी: आरोपी को पकड़ने गई पु‍ल‍िस को बीजेपी विधायक ने रोका, समर्थकों ने दारोगा को पीटा!
3 योगी सरकार के ‘गड्ढामुक्त सड़कों’ के दावों पर भड़का लोगों का गुस्सा, सड़क पर ‘बोया’ धान
ये पढ़ा क्या?
X