ताज़ा खबर
 

रेप की वजह है मोबाइल फोनः आजम खान

यूपी के कैबिनेट मंत्री आजम खान एक बार फिर से अपने बयान के चलते विवादों में आ गए हैं।

Author रामपुर/ नई दिल्ली | October 23, 2015 6:55 PM
(File Pic)

यूपी के कैबिनेट मंत्री आजम खान एक बार फिर से अपने बयान के चलते विवादों में आ गए हैं। हाल ही उन्होंने महिलाओं पर आपत्तिजनक बयान दे डाला। उन्होंने कहा कि देश में मोबाइल फोन की वजह से रेप हो रहे हैं।

गांव के लोग भी अब मोबाइल फोन में आपत्तिजनक चीजें डाउनलोड कर लेते हैं। छोटे-छोटे बच्चों के पास भी मोबाइल फोन उपलब्ध रहता है। ऐसे में रेप जैसे जघन्य अपराध तेजी से होने लगे हैं।

मौजूदा हालात पर चिंता जताते हुए आजम ने कहा कि पूरा देश लगभग जल रहा है। पंजाब, हरियाणा, दिल्ली, कश्मीर, दादरी सब आपके सामने है।

ढाई साल की बच्चियों के साथ रेप की घटनाएं हो रही है। क्यों? इसकी वजह मोबाइल फोन हैं। यहां तक कि गांवों में भी लोग डाउनलोड कर चीजें देख सकते हैं।

आजम ने कहा कि कम उम्र के बच्चे भी गांव,मोहल्लों में, राह चलते मोबाइल पर इंटरनेट के जरिए गंदगी देखते हैं और घटनाएं होती हैं।

हमारी जानकारी में तो यहां तक है कि दो–ढाई साल की बच्चियों तक से दरिंदगी की घटनाओं को भी मोबाइल पर इंटरनेट के जरिए देखा जा रहा है। इस सब गंदगी से कैसे निपटा जाएगा।

ये बातें खान ने रामपुर के एक चैनल के दौरान बयां की। उन्होंने कहा कि रेप के मामलों में यह भी देखने की जरूरत है कि कितने केस फर्जी दर्ज कराए गए हैं और असली कितने हैं। उन्होंने कहा, “उनसे जो पाप हो रहा है, उससे बहुत बुरा समाज बन रहा है।”

आजम ने दादरी और फरीदाबाद जैसी घटनाओं के लिए मोबाइल फोन को जिम्मेदार ठहराया। कोई भी ऐसा माहौल नहीं चाहता। कोई अफरा-तफरी या सिविल वॉर नहीं चाहता।

उन्होंने कहा कि यूपी में विधानसभा चुनाव होने वाले हैं, इसलिए निशाने पर है, यहां माहौल खराब करने की कोशिश की जा रही है, यदि बिहार देश को रास्ता दिखा रहा है, तो यूपी को भी रास्ता देखना चाहिए।

इतना ही नहीं आजम ने बीजेपी नेताओं पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि बिहार में देश के बादशाह ने जो भाषा बोली वो नहीं बोलनी चाहिए।

वीके सिंह, साध्वी प्राची और साक्षी महाराज ने जो शब्द इस्तेमाल किए, क्या उन्हें करना चाहिए था। वे कहते हैं कि दलितों को कुत्ता नहीं कहा, तो क्या मुसलामानों को पिल्ला भी नहीं कहा था?

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App