ताज़ा खबर
 

‘लाभ के दोहरे पद’ के आरोप को लेकर आजम खान पर फैसला करेगा उच्च न्यायालय

इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने कथित रूप से ‘लाभ के दोहरे पद’ पर बने होने के लिए उत्तर प्रदेश के कैबिनेट मंत्री आजम खान को विधायक के तौर पर अयोग्य ठहराने और मंत्री पद से दूर रखने से जुड़े निर्देश की मांग करने वाली एक जनहित याचिका पर अपना आदेश जारी करने के लिए 15 जुलाई […]

Author July 15, 2015 9:55 AM

इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने कथित रूप से ‘लाभ के दोहरे पद’ पर बने होने के लिए उत्तर प्रदेश के कैबिनेट मंत्री आजम खान को विधायक के तौर पर अयोग्य ठहराने और मंत्री पद से दूर रखने से जुड़े निर्देश की मांग करने वाली एक जनहित याचिका पर अपना आदेश जारी करने के लिए 15 जुलाई की तारीख तय की है।

मुख्य न्यायाधीश डी वाई चंद्रचूड़ और न्यायमूर्ति श्रीनारायण शुक्ला की एक खंडपीठ ने यहां याचिका पर आदेश जारी किया।
याचिकाकर्ता एच एस जैन के अनुसार, विधायक और कैबिनेट मंत्री होने के कारण आजम को उत्तर प्रदेश जल निगम का प्रमुख नियुक्त नहीं किया जा सकता क्योंकि यह ‘लाभ के दोहरे पद’ संभालने के दायरे में आता है।

इस आरोप को गलत बताते हुए राज्य सरकार का कहना है कि आजम खान उप्र जल निगम के अध्यक्ष के तौर पर कोई मानदेय नहीं ले रहे हैं इसलिए वह ‘लाभ के दोहरे पर रहने’ के दायरे में नहीं आते।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 झारखंड: 1,000 किलोमीटर से अधिक राज्य राजमार्ग को राष्ट्रीय राजमार्ग में बदला जाएगा
2 कश्मीर में उग्रवादियों ने सेवानिवृत्त पुलिस अधिकारी की गोली मारकर की हत्या
3 आपातकाल का बचाव करने वाले खुर्शीद पर जावडेकर का हमला
ये पढ़ा क्या ?
X