ताज़ा खबर
 

Ayodhya Verdict Today Live News Updates: स्वरुपानंद सरस्वती का बयान- फैसले से खुश नहीं, इससे अयोध्या में झगड़े होंगे

Ayodhya Verdict Today, Ram Mandir-Babri Masjid Case Verdict Today Latest News Live updates:  : रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली बेंच ने सुनाया फैसला। इससे पहले, संविधान पीठ ने अयोध्या में 2.77 एकड़ विवादित भूमि तीन पक्षकारों- सुन्नी वक्फ बोर्ड, निर्मोही अखाड़ा और राम लला विराजमान में बराबर-बराबर बांटने के हाईकोर्ट के सितंबर, 2010 के निर्णय के खिलाफ दायर अपीलों पर 40 दिन तक सभी पक्षों की दलीलें सुनी।

Author नई दिल्ली | Updated: Nov 09, 2019 10:19:44 pm
Mandir-Babri Masjid Case Verdict live: जानिए मामले से जुड़ा पल पल का अपडेट

Ayodhya Ram Mandir-Babri Masjid Case Verdict Latest News Today Live Updates: शंकराचार्य स्वरुपानंद सरस्वती ने अयोध्या मसले पर आए फैसले से नाखुशी जाहिर की है। स्वरुपानंद सरस्वती ने कहा कि वह फैसले से खुश नहीं है। दरअसल वह मस्जिद के लिए अयोध्या में 5 एकड़ जमीन दिए जाने के फैसले से खुश नहीं हैं। उन्होंने कहा इससे अयोध्या में झगड़े होंगे।

अयोध्या फैसले पर पीएम मोदी ने देश को संबोधित किया। अपने संबोधन में पीएम मोदी ने कहा कि आज का दिन देश की न्यायपालिका के स्वर्णिम अध्याय के रुप में दर्ज होगा। कोर्ट ने सर्वसम्मति से यह फैसला दिया है। देश के न्यायाधीश, न्यायालय और न्यायिक प्रणाली अभिनंदन के अधिकारी हैं। प्रधानमंत्री ने अपने संबोधन में कहा कि लोगों ने खुले दिल से फैसले को स्वीकार किया है। पीएम ने कहा कि उन्हें देश की विविधता में एकता पर गर्व है और आज का ऐतिहासिक दिन इसका प्रमाण है। सवा सौ करोड़ देशवासी आज नया इतिहास लिख रहे हैं।

अयोध्या मामले में उच्चतम न्यायालय ने फैसला सुना दिया है। कोर्ट ने कहा कि विवादित जमीन रामलला की है। न्यायालय ने अयोध्या में 2.77 एकड़ की पूरी विवादित जमीन राम लला को दी। कोर्ट ने मंदिर निर्माण का आदेश दिया है। वहीं सुप्रीम कोर्ट ने अयोध्या में ही मस्जिद के लिए वैकल्पिक जगह देने के निर्देश दिए हैं। केन्द्र या राज्य सरकार यह जमीन मस्जिद के लिए देगी। वहीं एआईएमआईएम चीफ असदुद्दीन ओवैसी ने इस पर अपनी नाराजगी जतायी है। उन्होंने मस्जिद के लिए 5 एकड़ जमीन देने के निर्देश पर कहा कि जमीन की खैरात नहीं चाहिए। ओवैसी ने कहा कि यह तथ्यों की नहीं बल्कि आस्था की जीत है।

बता दें कि कोर्ट ने कहा कि ट्रस्ट बनाकर सरकार की ओर से मंदिर निर्माण करवाया जाए। इसके लिए तीन महीने में योजना तैयार की जाए। साथ ही कहा कि मुस्लिम पक्ष को मस्जिद बनाने के लिए कहीं और पांच एकड़ जमीन दे दी जाए। विवादित 2.77 एकड़ जमीन का कब्जा केंद्र सरकार के रिसीवर के पास बना रहेगा।

Ayodhya Verdict LIVE News Updates: जानें मामले से जुड़ा हर अपडेट 

चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने फैसला पढ़ा। गोगोई ने बताया कि कोर्ट ने 1946 के फैजाबाद कोर्ट के फैसले के खिलाफ शिया वक्फ बोर्ड की ओर से दाखिल स्पेशल लीव पेटिशन को खारिज कर दिया है। सुप्रीम कोर्ट ने यह भी कहा कि आर्कियोलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया के साक्ष्यों को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता। न्यायालय ने कहा कि पुरातात्विक साक्ष्यों को महज राय बताना एएसआई के प्रति बहुत अन्याय होगा। कोर्ट ने कहा, एएसआई यह नहीं बता पाया कि क्या मंदिर को तोड़कर मस्जिद बनाई गई थी। एएसआई ने इस तथ्य को स्थापित किया कि गिराए गए ढांचे के नीचे मंदिर था।

Ayodhya verdict LIVE UPDATES

 

शुरू से पढ़ें

Live Blog

Highlights

    22:19 (IST)09 Nov 2019
    फैसले के बाद अयोध्या में सुरक्षा के कड़े इंतजाम, स्थिति शांतिपूर्ण

    अयोध्या पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद शहर में सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर दी गई है। वहीं पुलिस अधिकारियों का कहना है कि स्थिति सामान्य और शांतिपूर्ण है। अयोध्या के सर्किल ऑफिसर अमर सिंह ने बताया है कि हिंसा या हंगामे की एक भी घटना रिपोर्ट नहीं हुई है फिर चाहे वो मुस्लिमों की तरफ से हो या फिर हिंदुओं की तरफ से। सभी ने फैसले को स्वीकार कर लिया है। हमें किसी भी तरह की चुनौती का सामना नहीं करना पड़ रहा है। हम सभी इलाको में गश्त कर रहे हैं और स्थिति सामान्य है।

    20:30 (IST)09 Nov 2019
    अशोक सिंघल को भारत रत्न देने की उठी मांग

    बीजेपी सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने विहिप के दिवंगत नेता अशोक सिंहल को 'भारत रत्न' देने की मांग की। स्वामी ने कहा कि ऐतिहासिक घड़ी में उन्हें भी याद किया जाना चाहिए।

    20:29 (IST)09 Nov 2019
    आडवाणी से मिलकर उनका आशीर्वाद लेंगे उद्धव ठाकरे

    शिवसेना चीफ उद्धव ठाकरे ने अयोध्या विवाद पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर खुशी जताते हुए कहा कि यह दिन भारत के इतिहास में स्वर्ण अक्षरों में लिखा जाएगा। ठाकरे ने कहा कि वह 24 नवंबर को अयोध्या जाएंगे। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि वह लालकृष्ण आडवाणी से मिलकर उन्हें धन्यवाद और बधाई भी देंगे। उन्होंने ही इसके लिए रथ यात्रा निकाली थी। मैं उनसे मिलकर आशीर्वाद लूंगा।

    19:19 (IST)09 Nov 2019
    सुन्नी वक्फ बोर्ड फैसले को नहीं देगा चुनौती

    यूपी सुन्नी वक्फ बोर्ड ने सुप्रीम कोर्ट के फैसले को चुनौती नहीं देने का ऐलान किया है। वक्फ बोर्ड के चेयरमैन जफर फारुखी ने कहा कि बोर्ड सुप्रीम कोर्ट का फैसला स्वीकार करते हैं और इस फैसले को चुनौती नहीं देंगे। बता दें कि इससे पहले सुन्नी वक्फ बोर्ड ने अयोध्या पर सुप्रीम कोर्ट के ताजा फैसले को चुनौती देने की बात कही थी।

    19:19 (IST)09 Nov 2019
    मुनव्वर राणा बोले- फैसले को सलाम है

    मशहूर शायर मुनव्वर राणा ने अयोध्या मामले पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर कहा कि मैं आज के फैसले को सलाम करता हूं। बाबरी मस्जिद एक राजनैतिक मुद्दा बन गई थी। आज इस मसले का अंत हुआ और मैं कहना चाहूंगा कि देश अब इससे आगे बढ़ेगा।

    18:09 (IST)09 Nov 2019
    सर्वोच्च अदालत का फैसला नया सवेरा लेकर आएगा

    पीएम ने कहा कि सर्वोच्च न्यायलय का फैसला नया सवेरा लेकर आएगा। अब नई पीढ़ी एक नए भारत के निर्माण में जुटेगी। हमें अपना विश्वास इस बात से तय करना है कि हमें सबको साथ लेकर, सबका विश्वास हासिल कर आगे बढ़ते जाना है। पीएम ने कहा कि फैसले के बाद राष्ट्र निर्माण की जिम्मेदारी और बढ़ गई है। 

    18:07 (IST)09 Nov 2019
    9 नवंबर का दिन है खास

    प्रधानमंत्री ने कहा कि 9 नवंबर को ही बर्लिन की दीवार गिरी थी। आज ही करतारपुर कॉरिडोर खुला है और आज ही के दिन अयोध्या विवाद पर फैसला आया है। पीएम ने कहा कि विवाद को लेकर यदि कभी कटुता रही हो तो आज उसे भी तिलांजलि देने का दिन है। पीएम ने कहा कि कठिन से कठिन विवाद का भी हल संविधान के द्वारा हल हो सकता है। 

    18:05 (IST)09 Nov 2019
    न्यायपालिका के इतिहास में भी आज का दिन स्वर्णित अध्याय के रुप में दर्ज होगा

    पीएम मोदी ने कहा कि आज का दिन देश की न्यायपालिका के स्वर्णिम अध्याय के रुप में दर्ज होगा। कोर्ट ने सर्वसम्मति से यह फैसला दिया है। देश के न्यायाधीश, न्यायालय और न्यायिक प्रणाली अभिनंदन के अधिकारी हैं। 

    18:04 (IST)09 Nov 2019
    लोगों ने खुले दिल से फैसले को स्वीकार किया है- पीएम मोदी

    प्रधानमंत्री ने अपने संबोधन में कहा कि लोगों ने खुले दिल से फैसले को स्वीकार किया है। पीएम ने कहा कि उन्हें देश की विविधता में एकता पर गर्व है और आज का ऐतिहासिक दिन इसका प्रमाण है। सवा सौ करोड़ देशवासी आज नया इतिहास लिख रहे हैं। 

    18:02 (IST)09 Nov 2019
    अयोध्या मामले पर मोदी देश को संबोधित कर रहे हैं

    अयोध्या मसले पर पीएम मोदी देश की जनता को संबोधित कर रहे हैं। इस दौरान पीएम मोदी ने कहा कि वर्षों तक चली न्याय प्रक्रिया का आज समापन हो गया है। दुनिया ये मानती है कि भारत दुनिया का सबसे बड़ा लोकतंत्र है, आज दुनिया ने ये भी जान लिया है कि है कि भारत का लोकतंत्र कितना मजबूत है।

    17:48 (IST)09 Nov 2019
    माकपा ने कहा फैसले से विवाद का अंत हुआ

    न्यायालय का फैसला सुनाये जाने के बाद माकपा पोलित ब्यूरो द्वारा जारी बयान में कहा गया है कि देश में वर्षों से चल रहे इस विवाद का सर्वोच्च अदालत के निर्णायक फैसले से अंत हुआ है। पोलित ब्यूरो ने कहा कि अदालत ने अयोध्या में हिंदू पक्ष को एक ट्रस्ट के माध्यम से मंदिर निर्माण के लिये विवादित 2.77 एकड़ जमीन दी है, साथ ही सुन्नी वक्फ बोर्ड को मस्जिद के निर्माण के लिये पांच एकड़ जमीन दिए जाने का फैसला दिया है।

    17:48 (IST)09 Nov 2019
    फैसले के बाद दिल्ली में सुरक्षा व्यवस्था कड़ी की गई

    राम जन्मभूमि बाबरी मस्जिद भूमि विवाद में उच्चतम न्यायालय के फैसले के मद्देनजर राष्ट्रीय राजधानी के कुछ हिस्सों में निगरानी के लिए शनिवार को ड्रोन का इस्तेमाल किया गया।अधिकारियों ने बताया कि पूर्वोत्तर दिल्ली समेत शहर के कई हिस्सों में लोगों के साथ बैठक की गयी और विभिन्न क्षेत्रों में गश्त के साथ साथ ड्रोन से निगरानी की गई। पुलिस ने बताया कि व्यवस्था बनाये रखने के लिए पूरे राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में निषेधाज्ञा लागू की गयी है ।

    17:19 (IST)09 Nov 2019
    पीएम बोले- सब मिलकर भारत के प्रति समर्पण को मजबूत करें

    फैसले के बाद पीएम नरेंद्र मोदी ने भी प्रतिक्रिया दी। पीएम ने कहा कि ‘न्याय के मंदिर’ ने दशकों पुराने विवाद को सौहार्दपूर्ण तरीके से सुलझा दिया और न्यायालय के फैसले को किसी की हार या जीत के तौर पर नहीं देखा जाना चाहिए। आस्था राम के प्रति हो या रहीम के प्रति, अब समय है कि सब मिलकर भारत के प्रति समर्पण को मजबूत करें। पीएम ने कहा कि अयोध्या मामले में न्यायालय के फैसले से लोगों का न्यायिक प्रणाली पर भरोसा मजबूत होगा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अयोध्या मामले में न्यायालय के फैसले के बाद देशवासियों से शांति, एकता और मैत्रीभाव बनाए रखने की अपील की।

    16:52 (IST)09 Nov 2019
    रामलला के वकील सीएस वैद्यनाथन बोले- यह भारत के लिए बड़ा दिन है

    सुप्रीम कोर्ट में अयोध्या केस पर सुनवाई के दौरान रामलला का पक्ष रखने वाले वकील सीएस वैद्यनाथन ने कहा कि यह भारत के लिए बड़ा दिन है। सुप्रीम कोर्ट ने अपने फैसले में सभी पार्टियों के के हितों का ध्यान रखा है और यह सुनिश्चित किया है कि देश में एकता और समावेश बना रहे और भाईचारा हो। यह कानून के राज की जीत है।

    16:23 (IST)09 Nov 2019
    उद्धव ठाकरे बोले- यह दिन भारत के इतिहास में स्वर्ण अक्षरों में लिखा जाएगा

    शिवसेना चीफ उद्धव ठाकरे ने अयोध्या पर आए सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर कहा कि आज का दिन भारत के इतिहास में स्वर्ण अक्षरों में लिखा जाएगा। सभी ने इस फैसले को स्वीकार किया है। मैं आगामी 24 नवंबर को अयोध्या जाऊंगा।

    15:53 (IST)09 Nov 2019
    सुप्रीम कोर्ट ने कहा- इलाहाबाद हाईकोर्ट का फैसला तार्किक नहीं था

    अयोध्या मुद्दे पर अपने ऐतिहासिक फैसले में सुप्रीम कोर्ट ने शनिवार को कहा कि साल 2010 में इलाहाबाद हाईकोर्ट द्वारा दिया गया फैसला तार्किक नहीं था। बता दें कि इलाहाबाद हाईकोर्ट ने अपने फैसले में अयोध्या की विवादित भूमि को दावेदारों में बांटने का आदेश दिया था। इस फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में अपील हुई थी।

    15:20 (IST)09 Nov 2019
    शिया धर्मगुरु मौलाना कल्बे जव्वाद बोले- हम सुप्रीम कोर्ट के फैसले को स्वीकार करते हैं

    शिया धर्मगुरु मौलाना कल्बे जव्वाद ने अयोध्या मसले पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर कहा है कि हमें सुप्रीम कोर्ट का फैसला मंजूर है। मैं ऊपर वाले का शुक्रगुजार हूं कि अधिकतर मुस्लिमों ने फैसले को स्वीकार कर लिया है और अब यह विवाद खत्म हो चुका है। हालांकि यह उनका (मुस्लिम पर्सनल बोर्ड) अधिकार है कि वह इस मामले में पुनर्विचार याचिका दाखिल कर सकते हैं। मुझे लगता है कि अब इस मसले का अंत होना चाहिए।

    14:57 (IST)09 Nov 2019
    राहुल गांधी ने दी यह प्रतिक्रिया

    अयोध्या मामले पर उच्चतम न्यायालय का निर्णय आने के बाद कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने शनिवार को कहा कि इस फैसले का सम्मान होना चाहिए और परस्पर सद्भाव बनाए रखा जाना चाहिए। गांधी ने ट्वीट कर कहा, ‘‘उच्च्तम न्यायालय ने अयोध्या मुद्दे पर अपना फैसला सुना दिया है। कोर्ट के इस फैसले का सम्मान करते हुए हम सब को आपसी सद्भाव बनाए रखना है। ये वक्त हम सभी भारतीयों के बीच बन्धुत्व,विश्वास और प्रेम का है।’’

    14:52 (IST)09 Nov 2019
    नकवी बोले, जुनूनी जश्न से बचिए

    अयोध्या मामले पर उच्चतम न्यायालय के फैसले का स्वागत करते हुए केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने शनिवार को कहा कि इस न्यायिक निर्णय को ‘हार के हाहाकार और जीत के जुनूनी जश्न’ से बचाना चाहिए। नकवी ने एक बयान में कहा, ‘‘ दशकों पुराने अयोध्या मामले के निपटारे के लिए सर्वोच्च न्यायालय का फैसला स्वागत योग्य है। हम सभी को इसे तहेदिल से स्वीकार और इसका सम्मान करना चाहिए। अपने मुल्क की एकता, सौहार्द, भाईचारे की ताकत को मजबूत करना हम सबकी सामूहिक जिम्मेदारी है।’’उन्होंने कहा, ‘‘इस फैसले को किसी की हार और किसी की जीत के रूप में नहीं देखना चाहिए, यह एक न्यायिक फैसला है। इस न्यायिक फैसले को हार के हाहाकार और जीत के जुनूनी जश्न से बचाना चाहिए।’’

    14:32 (IST)09 Nov 2019
    वामदलों ने भी किया स्वागत, की शांति और अमन चैन कायम करने की अपील

    वामदलों ने अयोध्या मामले में उच्चतम न्यायालय के फैसले का शनिवार को स्वागत करते हुये सभी पक्षों से इसे स्वीकार कर देश में अमन चैन कायम रखने की अपील की है। न्यायालय का फैसला सुनाये जाने के बाद माकपा पोलित ब्यूरो द्वारा जारी बयान में देश में वर्षों से चल रहे इस विवाद का सर्वोच्च अदालत के निर्णायक फैसले से पटाक्षेप होने पर खुशी जतायी। पार्टी ने कहा कि उच्चतम न्यायालय के पांच न्यायाधीशों की पीठ ने इस विवाद को खत्म करने की स्वागतयोग्य पहल की है ताकि इस मामले को ढाल बनाकर व्यापक पैमाने पर ंिहसा फैलाने वाली ताकतें जनधन की हानि न कर सकें। भाकपा के राष्ट्रीय सचिव अतुल कुमार अंजान ने अदालत के फैसले पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुये कहा, ‘‘अदालत का फैसला सभी पक्षों के लिये स्वीकार्य होना चाहिये। समाज के सभी वर्गों की जिम्मेदारी है कि वे शांति और सौहार्द बनाये रखें, जो कि भारतीय संस्कृति के मूल में है और यही वक्त की पुकार है।’’

    14:15 (IST)09 Nov 2019
    शंकराचार्य ने किया फैसले का स्वागत

    द्वारका-शारदा पीठ के शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती ने शनिवार को अयोध्या मामले पर उच्चतम न्यायालय के फैसले का स्वागत किया है। शंकराचार्य ने यहां संवाददाताओं से कहा, ‘‘मैं उच्चतम न्यायालय के फैसले से खुश हूं। न्यायालय ने पुष्टि की है कि यह भगवान राम का जन्म स्थान है।’’उन्होंने कहा कि इसमें कोई शक नहीं है कि भगवान राम का जन्म अयोध्या में हुआ था। संत ने अयोध्या में मुसलमानों को पांच एकड़ जमीन आवंटित करने के न्यायालय के निर्देश पर आपत्ति जताते हुए कहा कि उन्होंने (मुसलमान कम क्षेत्र के लिए दावा किया था। उन्होंने कहा कि अयोध्या में बड़ी संख्या में हिंदू मंदिर हैं। मंदिर निर्माण के लिए न्यास के गठन जैसे अन्य मुद्दों पर शंकराचार्य ने कहा कि उन्हें अभी न्यायालय के आदेश का अध्ययन करना है। उन्होंने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री पीवी नरसिम्हा राव के कार्यकाल में स्थापित हुआ एक न्यास पहले से ही मौजूद है।

    14:02 (IST)09 Nov 2019
    फैसले पर भड़के ओवैसी

    इस फैसले से एआईएमआईएम चीफ असदुद्दीन ओवैसी बेहद नाराज नजर आए। उन्होंने कहा कि पांच एकड़ जमीन की खैरात नहीं चाहिए। उन्होंने कहा कि वह फैसले से संतुष्ट नहीं हैं और कोर्ट से एकराय न रखना उनका संवैधानिक हक है। 

    13:40 (IST)09 Nov 2019
    महाराष्ट्र के गवर्नर ने फडणवीस से जानी कानून-व्यवस्था की हालात

    महाराष्ट्र के कार्यवाहक मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने शनिवार को राज्यपाल भगत ंिसह कोश्यारी से राज भवन में मुलाकात की और अयोध्या मामले पर उच्चतम न्यायालय के फैसले के मद्देनजर राज्य में कानून व्यवस्था बनाये रखने के लिए उठाये जा रहे कदमों से उन्हें अवगत कराया। शीर्ष अदालत ने शनिवार को अयोध्या में विवादित स्थल पर राम मंदिर के निर्माण का रास्ता साफ कर दिया और केंद्र को सुन्नी वक्फ बोर्ड को एक मस्जिद बनाने के लिए 5 एकड़ जमीन आवंटित करने का निर्देश दिया।

    13:16 (IST)09 Nov 2019
    पीएम ने कहा, न्याय के मंदिर ने सुलझा लिया मामला

    फैसले के बाद पीएम नरेंद्र मोदी ने भी इस पर प्रतिक्रिया दी। पीएम ने कहा कि ‘न्याय के मंदिर’ ने दशकों पुराने विवाद को सौहार्दपूर्ण तरीके से सुलझा दिया और न्यायालय के फैसले को किसी की हार या जीत के तौर पर नहीं देखा जाना चाहिए। आस्था राम के प्रति हो या रहीम के प्रति, अब समय है कि सब मिलकर भारत के प्रति समर्पण को मजबूत करें। पीएम ने कहा कि अयोध्या मामले में न्यायालय के फैसले से लोगों का न्यायिक प्रणाली पर भरोसा मजबूत होगा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अयोध्या मामले में न्यायालय के फैसले के बाद देशवासियों से शांति, एकता और मैत्रीभाव बनाए रखने की अपील की।

    12:27 (IST)09 Nov 2019
    कांग्रेस बोली- बीजेपी की राजनीति का अंत

    अयोध्या मामले पर आए बीजेपी के फैसजले पर कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि वह राम मंदिर के निर्माण के पक्ष में हैं। इस फैसले से न केवल मंदिर निर्माण का रास्ता खुला है, बल्कि बीजेपी और दूसरी ऐसी पार्टियों द्वारा इस मुद्दे का राजनीतिकरण करने की प्रक्रिया का भी अंत हो गया है। वहीं, सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर अंसतुष्टि जताते हुए ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के जफरयाब जिलानी ने कहा कि अगर कमेटी सहमत हुई तो फैसले के खिलाफ रिव्यू पेटिशन दाखिल करेंगे। वहीं, अयोध्या मामले में पैरवीकार इकबाल अंसारी ने भी फैसले पर खुशी जताई और कहा कि वे इसका सम्मान करते हैं।

    12:13 (IST)09 Nov 2019
    मुंबई में धारा 144

    संवेदनशील राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद मामले में उच्चतम न्यायालय का फैसला आने के बाद मुंबई में शनिवार को सीआरपीसी की धारा 144 लागू की गयी जिसके तहत चार से अधिक लोगों के एकत्रित होने पर पाबंदी है। मुंबई पुलिस के एक प्रवक्ता ने बताया कि निषेधाज्ञा आदेश सुबह 11 बजे से लागू हुआ और अगले 24 घंटे के लिए लागू रहेगा। इस आदेश के चलते जन सभा करना या चार से अधिक लोगों के एकत्रित होने या जुलूस निकालने पर रोक है। इसमें ऐसी गैरकानूनी सभाओं में भाग लेने के इरादे से लोगों को ले जाने वाले सभी तरह के वाहनों के प्रवेश पर रोक है। वित्तीय राजधानी में भारी सुरक्षा बल तैनात किया गया है। 1993 में अयोध्या में विवादित ढांचा गिराए जाने के बाद यहां साम्प्रदायिक दंगे हुए थे।

    11:52 (IST)09 Nov 2019
    निर्मोही अखाड़े ने कहा, अफसोस नहीं

    निर्मोही अखाड़े ने कहा है कि अयोध्या में विवादित जमीन पर मालिकाना हक का अपना दावा खारिज होने का उसे कोई अफसोस नहीं है। निर्मोही अखाड़े के वरिष्ठ पंच महंत धर्मदास ने ''भाषा'' से बातचीत में कहा कि विवादित स्थल पर अखाड़े का दावा खारिज होने का कोई अफसोस नहीं है, क्योंकि वह भी रामलला का ही पक्ष ले रहा था। उन्होंने कहा कि न्यायालय ने रामलला के पक्ष को मजबूत माना है। इससे निर्मोही अखाड़े का मकसद पूरा हुआ है। मालूम हो कि उच्चतम न्यायालय ने शनिवार को राजनीतिक दृष्टि से संवेदनशील राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद भूमि विवाद में यह कहते हुए निर्मोही अखाड़े का दावा खारिज किया कि निर्मोही अखाड़ा राम लला की मूर्ति का उपासक या अनुयायी नहीं है। प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पांच सदस्यीय संविधान पीठ ने अपने फैसले में कहा कि निर्मोही अखाड़े का दावा कानूनी समय सीमा के तहत प्रतिबंधित है।

    11:50 (IST)09 Nov 2019
    सीजेआई की अदालत के सामने लगे जय श्री राम के नारे

    न्यायालय ने अयोध्या में 2.77 एकड़ की पूरी विवादित जमीन राम लला को दी।  कुछ वकीलों ने उच्चतम न्यायालय में प्रधान न्यायाधीश की अदालत के बाहर ‘जय श्री राम’ के नारे लगाए।

    11:39 (IST)09 Nov 2019
    निर्मोही अखाड़ा को ट्रस्ट में भूमिका देने का सुझाव

    कोर्ट ने कहा कि केंद्र और उप्र सरकार साथ मिलकर प्राधिकार की आगे की कार्रवाई की निगरानी कर सकती हैं। साथ ही केंद्र न्यास स्थापित करने में निर्मोही अखाड़े को भी किसी तरह का प्रतिनिधित्व देने पर विचार करे।

    11:35 (IST)09 Nov 2019
    धर्मगुरु गिरफ्तार

    महाराष्ट्र के धुले जिले में संवेदनशील राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद मुकदमे पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने के पहले दीवार पर सांप्रदायिक बात लिखने वाले एक स्वयंभू धर्मगुरु को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। अधिकारी ने बताया कि आरोपी राजेंद्र मराठे उर्फ राजू महाराज ने शुक्रवार को धुले शहर में एक दीवार पर ‘‘श्रीराम’’ लिख कर रंग दिया। उसे तुरंत गिरफ्तार कर लिया गया। पुलिस ने फैसले के मद्देनजर लोगों से शांति और सौहार्द बनाए रखने की अपील की है। इसी तरह की एक अन्य घटना में धुले पुलिस ने कथित रूप से फेसबुक पर ‘‘एससी का निर्णय इतिहास पर लगा एक काला ­धब्बा हटा देगा’’ का आपत्तिजनक पोस्ट लिखने के लिए 56 वर्षीय व्यक्ति को गिरफ्तार किया था।

    11:30 (IST)09 Nov 2019
    बाबरी विध्वंस पर कोर्ट की टिप्पणी

    कोर्ट ने कहा कि साक्ष्यों से पता चलता है कि मुसलमान मस्जिद में जुमे की नमाज अदा करते थे जो यह संकेत देता है कि उन्होंने यहां कब्जा नहीं खोया है। वहीं, स्थल पर 1856-57 में लोहे की रेलिंग लगाई गई थी जो यह संकेत देते हैं कि हिंदू यहां पूजा करते रहे हैं। कोर्ट ने कहा कि हिंदू ये स्थापित करने में सफल रहे कि बाहरी बरामदे पर उनका कब्जा था। कोर्ट ने बाबरी विध्वंस पर भी टिप्पणी की। कोर्ट ने कहा कि बाबरी मस्जिद को नुकसान पहुंचाना कानून के खिलाफ था।

    11:24 (IST)09 Nov 2019
    वीडियो में जानें अयोध्या विवाद की पूरी कहानी

    11:23 (IST)09 Nov 2019
    अमित शाह ने की हाई लेवल मीटिंग

    केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने रामजन्मभूमि-बाबरी मस्जिद मालिकाना हक मामले पर उच्चतम न्यायालय के फैसले के मद्देनजर देशभर में सुरक्षा हालात की शनिवार को समीक्षा की। अधिकारियों ने बताया कि गृह मंत्री ने कुछ मुख्यमंत्रियों से भी बात की और उनसे उनके राज्यों के हालात की जानकारी ली। शाह ने उनसे यह सुनिश्चित करने को कहा कि पुलिस एवं प्रशासन सतर्क रहें और कोई अप्रिय घटना नहीं हो। गृह मंत्रालय के एक अधिकारी ने बताया कि समीक्षा बैठक में गृह मंत्री को देश के विभिन्न हिस्सों, खासकर उत्तर प्रदेश में कानून-व्यवस्था की मौजूदा स्थिति के बारे में विस्तृत जानकारी दी गई। शाह ने कुछ मुख्यमंत्रियों से भी बात की जिन्होंने उन्हें शांति सुनिश्चित करने के लिए उठाए जा रहे कदमों से अवगत कराया। राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल, केंद्रीय गृह सचिव अजीत भल्ला, खुफिया ब्यूरो के निदेशक अरंिवद कुमार और कई अन्य अधिकारी भी बैठक में मौजूद थे।

    11:18 (IST)09 Nov 2019
    निर्मोही अखाड़ा राम लला की मूर्ति का उपासक या अनुयायी नहीं : न्यायालय

    उच्चतम न्यायालय ने शनिवार को राजनीतिक दृष्टि से संवेदनशील राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद भूमि विवाद में कहा कि निर्मोही अखाड़ा राम लला की मूर्ति का उपासक या अनुयायी नहीं है। प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पांच सदस्यीय संविधान पीठ ने अपने फैसले में कहा कि निर्मोही अखाड़े का दावा कानूनी समय सीमा के तहत प्रतिबंधित है। संविधान पीठ के अन्य सदस्यों में न्यायमूर्ति एस ए बोबडे, न्यायमूर्ति धनन्जय वाई चन्द्रचूड, न्यायमूर्ति अशोक भूषण और न्यायमूर्ति एस अब्दुल नजीर शामिल हैं।

    10:55 (IST)09 Nov 2019
    कोर्ट ने और क्या कहा

    न्यायालय ने सर्वसम्मति से शिया वक्फ बोर्ड की अपील खारिज की। शिया वक्फ बोर्ड का दावा विवादित ढांचे को लेकर था जिसे न्यायालय ने खारिज कर दिया। न्यायालय ने कहा कि राजस्व रिकार्ड के अनुसार विवादित भूमि सरकारी है । न्यायालय ने कहा कि निर्मोही अखाड़े की याचिका कानूनी समय सीमा के दायरे में नहीं, न ही वह रखरखाव या राम लला के उपासक।

    10:49 (IST)09 Nov 2019
    सुप्रीम कोर्ट ने एएसआई की दी तवज्जो

    सुप्रीम कोर्ट ने यह भी कहा कि आर्कियोलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया की बातों को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता। कोर्ट ने कहा कि एएसआई की रिपोर्ट में इस बात के पर्याप्त सबूत हैं कि बाबरी मस्जिद खाली जमीन पर नहीं बनी। विवादित स्थल पर एक ढांचा था। दबा हुए स्ट्रक्चर कोई इस्लामिक ढांचा नहीं था। 

    10:39 (IST)09 Nov 2019
    चीफ जस्टिस ने फैसला पढ़ना शुरू किया

    मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, कोर्ट ने कहा कि मस्जिद कब बनी इससे फर्क नहीं पड़ता। कोर्ट ने निर्मोही अखाड़ा का दावा खारिज कर दिया। चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया रंजन गोगोई ने कहा कि उन्होंने 1946 के फैजाबाद कोर्ट के फैसले के खिलाफ शिया वक्फ बोर्ड की ओर से दाखिल स्पेशल लीव पेटिशन को खारिज कर दिया।

    10:23 (IST)09 Nov 2019
    तमिलनाडु के सीएम ने की शांति बरतने की अपील

    राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद मामले में उच्चतम न्यायालय का फैसला आने के मद्देनजर तमिलनाडु के मुख्यमंत्री के पलानीस्वामी ने समाज के सभी वर्गों से शांति एवं सौहार्द्र बनाए रखने की अपील की है। उन्होंने एक बयान में कहा कि सभी को फैसले का सम्मान करना चाहिए। पलानीस्वामी ने कहा, ‘‘अम्मा (दिवंगत जयललिता) सरकार तमिलनाडु में कानून एवं व्यवस्था की अच्छी स्थिति सुनिश्चित कर रही है और लोग साम्प्रदायिक सौहार्द्र तथा भाईचारा बना रहे हैं।’’ उन्होंने कहा कि न्यायालय अपना अंतिम फैसला सुनाने वाला है। उन्होंने अनुरोध किया कि ‘‘सभी को इसका सम्मान करना चाहिए और कानून एवं व्यवस्था के मुद्दे में किसी भी चूक को जगह नहीं देनी चाहिए तथा सुनिश्चित करना चाहिए कि तमिलनाडु शांतिपूर्ण रहे।’’उन्होंने इस संबंध में लोगों के अलावा विभिन्न धर्मों और राजनीतिक दलों के नेताओं समेत सभी वर्गों का सहयोग मांगा।

    10:13 (IST)09 Nov 2019
    अदालत के बाहर वकीलों का जमावड़ा

    फैसले से पहले चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया रंजन गोगोई की अदालत के सामने वकीलों की भीड़ लग गई।

    10:05 (IST)09 Nov 2019
    रवाना हुए सीजेआई

    चीफ जस्टिस रंजन गोगोई फैसला सुनाने के लिए सुप्रीम कोर्ट रवाना हुए।

    10:04 (IST)09 Nov 2019
    शांति कायम रखना हमारी जिम्मेदारी: प्रियंका गांधी

    कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने शनिवार को कहा कि अयोध्या मामले पर जो भी फैसला आये, लेकिन देश में शांति एवं सद्भाव बनाए रखना सबकी जिम्मेदारी है। उन्होंने ट्वीट किया, '''' जैसा कि आप सबको पता है, अयोध्या मामले पर आज उच्चतम न्यायालय का फैसला आने वाला है। इस घड़ी में न्यायालय का जो भी निर्णय हो, देश की एकता, सामाजिक सद्भाव, और आपसी प्रेम की हजारों साल पुरानी परम्परा को बनाए रखने की जÞम्मिेदारी हम सबकी है ।" प्रियंका ने कहा, '''' यह महात्मा गांधी का देश है। अमन और अंिहसा के संदेश पर कायम रहना हमारा कर्तव्य है।"

    09:47 (IST)09 Nov 2019
    सोशल मीडिया पर पैनी नजर

    यूपी में सोशल मीडिया पर खास तौर पर नजर रखी जा रही और अफवाह तथा भड़काऊ सामग्री पोस्ट करने के आरोपों में अब तक 71 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। अधिकारी ने बताया कि अयोध्या मामले पर आने वाले निर्णय को लेकर किसी भी तरह की आशंका पालने की जरूरत नहीं है। सरकार यह विश्वास दिलाती है कि कहीं कोई गड़बड़ी नहीं होने दी जाएगी। अफसर के मुताबिक, सभी जिलों में जिलाधिकारी और वरिष्ठ पुलिस अफसरों ने विभिन्न धर्म गुरुओं से शांति व्यवस्था बनाए रखने में सहयोग देने की अपील की है। धर्मगुरुओं ने खुद भी पहल करते हुए समाज के विभिन्न वर्गों से उच्चतम न्यायालय के फैसले को पूरा सम्मान देने की अपील की है।

    09:47 (IST)09 Nov 2019
    राजस्थान में भी हुई छुट्टी

    अयोध्या मामले में शनिवार सुबह आने वाले उच्चतम न्यायालय के फैसले के मद्देनजर राजस्थान के सभी स्कूलों, कॉलेजों और अन्य शिक्षण संस्थानों में अवकाश घोषित किया गया है। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने शुक्रवार देर रात अधिकारियों को शनिवार को अवकाश घोषित करने के निर्देश दिए। पुलिस महानिदेशक (कानून व्यवस्था) एम एल लाठर ने बताया कि संभावित फैसले को देखते हुए सुरक्षा कड़ी कर दी गयी है और संवेदनशील इलाकों में अतिरिक्त बल तैनात किया गया है।

    09:36 (IST)09 Nov 2019
    कांग्रेस की बैठक, संघ प्रमुख करेंगे प्रेस कॉन्फ्रेंस

    राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रमुख मोहन भागवत सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने के बाद 1 बजे मीडिया को संबोधित करेंगे। वहीं, निर्णय से पहले शनिवार को कांग्रेस की सर्वोच्च नीति निर्धारण इकाई कांग्रेस कार्य समिति (सीडब्ल्यूसी) की बैठक भी हो रही है जिसमें इस मुद्दे पर पार्टी का रुख तय होगा। पहले सीडब्ल्यूसी की बैठक रविवार को प्रस्तावित थी, लेकिन न्यायालय के शनिवार को निर्णय सुनाना तय होने के बाद बैठक शनिवार सुबह बुलाई गयी। कांग्रेस के महासचिव केसी वेणुगोपाल ने ट्वीट कर कहा,‘‘ सीडब्ल्यूसी की बैठक पुर्निनर्धारित की गई है और अब यह नौ नवंबर को सुबह पौने नौ बजे 10 जनपथ पर होगी। बैठक में सीडब्ल्यूसी के सदस्य, स्थायी आमंत्रित सदस्य और विशेष आमंत्रित सदस्य हिस्सा लेंगे।''

    09:33 (IST)09 Nov 2019
    झारखंड के सीएम ने भी की अपील

    झारखंड के मुख्यमंत्री रघुवर दास ने अयोध्या मामले में सर्वोच्च न्यायालय के शनिवार को आने वाले ऐतिहासिक फैसले के मद्देनजर राज्य के सभी नागरिकों से शांति और सद्भाव बनाये रखने की अपील करते हुए कहा कि जो भी फैसला आए उसे सभी सहर्ष स्वीकार करें। मुख्यमंत्री ने शुक्रवार देर रात जारी संदेश में कहा, ‘‘अयोध्या मामले पर आने वाले फैसले पर झारखंड के सभी नागरिकों से अपील है कि फैसला जो भी हो हम उसे सहर्ष स्वीकार करें। किसी प्रकार की अफवाह पर ध्यान न दें। कोई अफवाह फैलाये तो इसकी सूचना प्रशासन को दें।’’ मुख्यमंत्री ने प्रशासन को भी किसी भी शिकायत पर त्वरित कार्यवाही करने का निर्देश दिया। दास ने कहा, ‘‘झारखंड ने हमेशा अमन और भाईचारे की मिसाल पेश की है। आइये, इस बार भी हम सब झारखंडवासी पूरे देश को एकता, अमन और भाईचारे का संदेश दें।’’

    09:21 (IST)09 Nov 2019
    रामलला के अस्थायी मंदिर के पुजारी यह बोले

    अयोध्या मामले पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले से पहले रामलला के अस्थाई मंदिर के प्रधान पुजारी महेंद्र सत्येंद्र दास ने सभी से अपील की कि वे अदालत के फैसले का सम्मान करें और शांति कायम रखें। उनके मुताबिक, पीएम का कहना सही है कि यह फैसला किसी की जीत या हार नहीं है।

    09:11 (IST)09 Nov 2019
    अयोध्या की सुरक्षा पर यह बोले अफसर

    अयोध्या की सुरक्षा के प्रभारी एडीजी अभियोजन ने बताया, ''''अयोध्या में सुरक्षा के लिये 60 कंपनी पीएसी और अर्धसैनिक बल तैनात किए गये हैं। इसमें 15 कंपनी पीएसी, 15 कंपनी सीआरपीएफ और 10 कंपनी आरएएफ हाल में अयोध्या आयी है जबकि 20 कंपनी पीएसी पहले से ही यहां तैनात थी। इसके अलावा दूसरे जनपदों से आये सुरक्षार्किमयों में 1500 सिपाही, 250 सब इंस्पेक्टर, 150 इंस्पेक्टर, 20 डिप्टी एसपी, 11 एडिशनल एसपी तथा दो एसपी तैनात किये गये हैं। इसके अलावा अयोध्या के विभिन्न थानों में तैनात सुरक्षा बल तो पहले से ही यहां पर है।’’

    09:09 (IST)09 Nov 2019
    अयोध्या शहर में देखें कैसी है सुरक्षा

    सुप्रीम कोर्ट के फैसले के मद्देनजर शहर में सुरक्षा के तगड़े इंतजाम किए गए हैं।आसमान से निगरानी के लिये कैमरे युक्त 10 ड्रोन तैनात किए गए हैं। शहर के सभी 30 चौराहों पर सीसीटीवी लगाये गये हैं। इनकी निगरानी के लिए चौबीसों घंटे काम करने वाला नियंत्रण कक्ष स्थापित किया गया है। इसके अलावा प्रदेश सरकार ने एक हेलीकॉप्टर भी अगले आदेश तक अयोध्या में रखने के निर्देश दिये हैं, ताकि आपात स्थिति में उसकी सेवा ली जा सके। आईपीएस आशुतोष पांडेय पहले अयोध्या के वरिष्ठ पुलिस रह चुके हैं और शहर के चप्पे-चप्पे तथा मिजाज से अच्छी तरह से वाकिफ हैं। इसके अलावा नवंबर 2018 में अयोध्या में धर्म संसद के आयोजन के दौरान उनकी सुरक्षा की जिम्मेदारी भी इन्हीं की थी। पांडेय ने बताया कि जिस स्थान पर रामलला विराजमान हैं उसके आसपास के इलाके को ''यलो जोन'' बनाया है और वहां पर बैरिकेंिडग कर सुरक्षा व्यवस्था को काफी मजबूत किया गया है। इस इलाके में राम लला के दर्शन करने जा रहे लोगों की गहन जांच की जा रही है और हर व्यक्ति पर कड़ी नजर रखी जा रही है।

    09:07 (IST)09 Nov 2019
    सुप्रीम कोर्ट में भी तगड़ी सुरक्षा

    दिल्ली पुलिस के जॉइंट सीपी आईडी शुक्ला ने कहा कि अर्धसैनिक बदलों की मदद से राजधानी में सुरक्षा के मद्देनजर समुचित कदम उठाए गए हैं। सुप्रीम कोर्ट, हाई कोर्ट से लेकर वीआईपी और वीवीआईपीज की सुरक्षा चाक चौबंद है।

    09:00 (IST)09 Nov 2019
    अयोध्या में क्या हालात

    पूरे अयोध्या शहर को तीन जोन, 31 सेक्टर और 35 सब सेक्टर में बांटा गया है। उन्होंने बताया कि रामलला के दर्शन के लिये अधिक लोगों के आ जाने पर शहर के बाहर होंिल्डग एरिया बनाया गया है, जहां दर्शनार्थियों के जत्थों को रोका जायेगा और उन्हें छोटे-छोटे समूहों में दर्शन करने के लिये भेजा जायेगा ताकि एकदम से अयोध्या में भीड़ ना बढ़े। शहर के बाहर पार्किंग के लिये भी कई स्थान चिन्हित किये गये हैं ताकि बाहर से आने वाले वाहनों को वहां रोका जा सकें और वहां से श्रद्धालुओं को पैदल दर्शन करने के लिये भेजा जा सके। पांडेय ने बताया कि अयोध्या में रामलला के दर्शन के लिए आने पर कोई रोक नहीं है और रोजाना हजारों की तादाद में लोग आ रहे हैं।

    Ayodhya Verdict Today Live Updates: जानें पल पल के अपडेट्स
    Next Stories
    1 लता मंगेशकर को सीने में दर्द के बाद अस्पताल में भर्ती कराया गया
    2 Weather Forecast Today, Cyclone Bulbul LIVE Updates: ‘बुलबुल’ के मद्देनजर अलर्ट, पश्चिम बंगाल के तटीय इलाकों में सुरक्षा मजबूत
    3 करतारपुर गलियारे का आज उद्घाटन करेंगे प्रधानमंत्री