ताज़ा खबर
 

भूमि पूजन के लिए अयोध्या तैयार

श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय ने बताया कि अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए होने वाले भूमि पूजन कार्यक्रम के लिए 175 प्रतिष्ठित अतिथियों को आमंत्रित किया गया है।

महानगर क्षेत्र में लगभग एक लाख ध्वज पताकाएं लगाई हैं।

अयोध्या में भव्य श्रीराम मंदिर निर्माण के लिए बुधवार को भूमि पूजन कार्यक्रम को लेकर देशभर में जबरदस्त उत्साह का माहौल है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मंदिर की आधारशिला रखेंगे। सोमवार से ही इसकी तैयारियां शुरू हो गईं और मंगलवार से अयोध्या में मेहमानों का तांता भी लगना शुरू हो गया।

अयोध्या में हेलिपैड से लेकर राम जन्मभूमि परिसर तक के मार्ग को सजाया गया है। सड़कों पर पताकाएं फहरा रही हैं। आम के पत्तों से सजाए 5100 मिट्टी के रंग-बिरंगे घड़ों पर दीप जलाकर रखे गए हैं। सड़क के दोनों ओरसुरक्षा के लिए दो स्तर की रेलिंग लगाई गई हैं, जिन पर भगवा कपड़े लपेटे गए हैं। दो किलोमीटर का क्षेत्र प्रधानमंत्री के स्वागत में भगवा हो गया है। भारी संख्या में सुरक्षाकर्मियों को तैनात किया गया है।

भूमि पूजन कार्यक्रम का सीधा प्रसारण बुधवार 11 बजे से दूरदर्शन पर होगा। इसके लिए 45 अत्याधुनिक कैमरे, दो हाईटेक एचडीओवी रखी बाकी पेज 8 पर गई हैं, जिनसे प्रसारण कराया जाएगा। राम की पैड़ी पर दीपोत्सव के कार्यक्रम को दिखाने के लिए ओवी वैन की व्यवस्था की गई है। पूरे अयोध्या नगर निगम क्षेत्र में 3000 ध्वनि प्रसारक बिजली के खंभों में बांधे गए हैं, जिनसे मंत्रोचार लगातार प्रसारित किया जा रहा है। बुधवार को इन्हीं से प्रधानमंत्री का भाषण लोगों को सुनाने की व्यवस्था की गई है।

महानगर क्षेत्र में लगभग एक लाख ध्वज पताकाएं लगाई हैं। मठ-मंदिरों में हवन-पूजन और घर-घर रंगोली और दीपावली मनाने की व्यवस्था भी की गई है। नगर निगम के मेयर ऋषिकेश उपाध्याय ने दलित बस्ती में पहुचकर दिया, तेल और बाती का वितरण किया। राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट द्वारा कार्यक्रम संपन्न होने के बाद प्रसाद वितरण की व्यवस्था की गई है।

अयोध्या में उसी अभिजीत मुहूर्त में भूमि पूजन होगा जिस मुहूर्त में भगवान श्री राम का जन्म हुआ था। शिलान्यास के बाद प्रधानमंत्री मोदी रामलला के दर्शन करेंगे और मंदिर परिसर में पारिजात वृक्ष का रोपण करेंगे। प्रधानमंत्री सुबह 9:35 बजे दिल्ली से विशेष विमान से लखनऊ जाएंगे। लखनऊ हवाई अड्डे से हेलिकॉप्टर के जरिए अयोध्या पहुंचेंगे। अयोध्या में प्रधानमंत्री तीन घंटे तक रुकेंगे। वहां हेलिपैड पर उनका स्वागत मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, राज्यपाल राज्यपाल आनंदीबेन पटेल, जिलाधिकारी अनुजा झा के साथ ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय करेंगे। राम जन्मभूमि पर स्वागत अयोध्या के राजा विमलेंद्र मोहन, राम मंदिर भवन निर्माण समिति के अध्यक्ष नृपेंद्र मिश्रा और ट्रस्ट के अध्यक्ष नृत्य गोपाल दास करेंगे।

अयोध्या में डाक टिकट जारी करेंगे मोदी
प्रधानमंत्री कार्यालय ने मंगलवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के अयोध्या कार्यक्रम का ब्योरा जारी किया। बुधवार को अयोध्या में ‘श्री राम जन्मभूमि मंदिर’ के शिलान्यास के मौके पर आयोजित एक जन समारोह में शामिल होंगे। वे सुबह 11:30 बजे अयोध्या पहुंचेंगे। प्रधानमंत्री कार्यालय की ओर से जारी एक विज्ञप्ति में कहा गया कि इस कार्यक्रम से पहले मोदी हनुमानगढ़ी में ‘पूजा’ और ‘दर्शन’ करेंगे। मंदिर निर्माण की आधारशिला रखने के लिए वे एक पट्टिका का अनावरण करेंगे और इस मौके पर ‘श्री राम जन्मभूमि मंदिर’ पर एक स्मारक डाक टिकट भी जारी करेंगे।

आडवाणी, जोशी, उमा, कल्याण नहीं पहुंचेंगे
श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट द्वारा राम जन्मभूमि मंदिर के भूमि पूजन कार्यक्रम में राम मंदिर आंदोलन के लिए महती भूमिका निभाने वाले प्रमुख नेताओं में से कई समारोह में नहीं पहुंचेंगे। ये लोग वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए कार्यक्रम से जुड़ सकेंगे। इन लोगों में प्रमुख हैं- राम मंदिर आंदोलन के दौरान भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष रहे डॉ मुरली मनोहर जोशी, केंद्र में नेता विपक्ष रहे लाल कृष्ण आडवाणी, मध्य प्रदेश की मुख्यमंत्री रहीं उमा भारती, यूपी के मुख्यमंत्री रहे कल्याण सिंह।

175 अतिथि आमंत्रित, इनमें 135 संत
श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय ने बताया कि अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए होने वाले भूमि पूजन कार्यक्रम के लिए 175 प्रतिष्ठित अतिथियों को आमंत्रित किया गया है। अतिथियों में से 135 संत हैं। ये संत जिन परंपरा और अखाड़ों से जुड़े हैं, वे हैं- दशनामी सन्यासी परंपरा, रामानंद वैष्णव परंपरा, रामानुज परंपरा, नाथ परंपरा, निम्बार्क, माधवाचार्य, वल्लभाचार्य, रामसनेही, उदासीन, निर्मल संत, कबीर पंथी, चिन्मय मिशन, रामकृष्ण मिशन, लिंगायत, वाल्मीकि संत, रविदासी संत, आर्य समाज, सिख परंपरा, बौद्घ, जैन, संत कैवल्य ज्ञान, संत पंथ, इस्कान, स्वामी नारायण, वारकरी, एकनाथ, बंजारा संत, वनवासी संत, आदिवासी गौड़, गुरू परंपरा, भारत सेवाश्रम संघ, आचार्य समाज, संत समिति, सिंधी संत व अखाड़ा परिषद।

भागवत पहुंचे अयोध्या
राम मंदिर के शिलान्यास समारोह में शामिल होने के लिए संघ प्रमुख मोहन भागवत अयोध्या पहुंच गए हैं। भागवत, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, राज्यपाल आनंदीबेन पटेल और राम मंदिर ट्रस्ट के अध्यक्ष नृत्य गोपाल दास कार्यक्रम के दौरान मंच पर मौजूद रहेंगे।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 Non Chinese Smartphone: Lava Z66 बजट फोन भारत में लॉन्च, कीमत 8 हजार से कम, जानें फीचर्स
2 राम के रंग में रंगे कमलनाथ: भूमिपूजन से पहले टि्वटर पर भगवावस्त्र में लगाया फोटो, अयोध्या भेज रहे 11 चांदी की ईंटें
ये पढ़ा क्या?
X