ताज़ा खबर
 

Ayodhya Ram Mandir-Babri Masjid Case: जस्टिस यूयू ललित हुए केस से अलग, अब 29 जनवरी को होगी सुनवाई

Ayodhya Ram Mandir-Babri Masjid Case: बाबरी विध्वंस से जुड़े आपराधिक मामले में एक पक्ष की ओर से बतौर वकील पेश हुए जस्टिस यूयू ललित ने केस से खुद को अलग करने की इच्छा जताई। चीफ जस्टिस ने भी माना कि सभी जजों की राय है कि ललित का इस मामले में सुनवाई का हिस्सा बनना सहीं नहीं है।

तस्वीर का इस्तेमाल केवल प्रतीकात्मक रूप से किया गया है। (एक्सप्रेस फाइल फोटो)

Ayodhya Ram Mandir-Babri Masjid Case: उच्चतम न्यायालय की पांच न्यायाधीशों की संविधान पीठ ने अयोध्या में राम जन्म भूमि-बाबरी मस्जिद भूमि विवाद मामले की गुरुवार (10 जनवरी, 2018) को सुनवाई की। मुस्लिम याचिकाकर्ताओं की ओर पेश वकील राजीव धवन ने जब कहा कि वे बहस शुरू करेंगे तो चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने कहा कि यह सुनवाई की तारीख नहीं है। दरअसल, गुरुवार को सिर्फ सुनवाई का शिड्यूल तय होना था। वहीं, बाबरी विध्वंस से जुड़े आपराधिक मामले में एक पक्ष की ओर से बतौर वकील पेश हुए जस्टिस यूयू ललित ने केस से खुद को अलग करने की इच्छा जताई।

चीफ जस्टिस ने भी माना कि सभी जजों की राय है कि ललित का इस मामले में सुनवाई का हिस्सा बनना सहीं नहीं है। चीफ जस्टिस ने कहा कि चूंकि ललित इस मामले से नहीं जुड़े रहना चाहते इसलिए सुनवाई टाले जाने की जरूरत है। बता दें कि राजीव धवन ने भी ललित के 1997 में बाबरी विध्वंस मामले में बतौर वकील पेश होने का जिक्र किया था। अब 29 जनवरी को सुनवाई होगी। बता दें कि प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली इस पांच सदस्यीय संविधान पीठ के अन्य सदस्यों में न्यायमूर्ति एस ए बोबडे, न्यायमूर्ति एन वी रमण और न्यायमूर्ति धनन्जय वाई चन्द्रचूड़ के अलावा न्यायमूर्ति उदय यू ललित शामिल थे।

Live Blog

Ayodhya Ram Mandir-Babri Masjid Case LIVE Updates

11:40 (IST)10 Jan 2019
सुनवाई से खुद अलग हुए यूयू ललित

पीठ के बैठते ही मुस्लिम पक्ष की ओर से पेश वरिष्ठ वकील राजीव धवन ने प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पीठ को बताया कि न्यायमूर्ति ललित उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह की पैरवी करने के लिए 1994 में अदालत में पेश हुए थे। हालांकि धवन ने कहा कि वह न्यायमूर्ति ललित के मामले की सुनवाई से अलग होने की मांग नहीं कर रहे, लेकिन न्यायाधीश ने स्वयं को मामले की सुनवाई से अलग करने का फैसला किया।

11:16 (IST)10 Jan 2019
इस बात पर केस से अलग न्यायमूर्ति यू यू ललित

वरिष्ठ वकील राजीव धवन के यह कहने पर कि न्यायमूर्ति यू यू ललित एक संबंधित मामले में कल्याण सिंह की पैरवी करने के लिए अदालत में उपस्थित हुए थे, जिसके बाद न्यायमूर्ति ललित ने खुद को सुनवाई से अलग कर लिया।

11:12 (IST)10 Jan 2019
1994 में कल्याण सिंह के वकील थे यूयू ललित: मुस्लिम पक्षकार राजीव धवन

सुप्रीम कोर्ट में मुस्लिम पक्ष के वकील राजीव धवन ने संविधान पीठ में जस्टिस उदय यू ललित के होने पर सवाल उठाए थे। उन्होंने कहा कि वह पूर्व में कल्याण सिंह की तरफ से पेश हो चुके हैं। धवन की इस आपत्ति के बाद यूयू ललित ने पीठ से खुद को अलग कर लिया। अब 29 जनवरी को सुप्रीम कोर्ट नई बेंच मामले में सुनवाई करेगी।

11:04 (IST)10 Jan 2019
चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने कहा कि यह सुनवाई की तारीख नहीं

मुस्लिम याचिकाकर्ताओं की ओर पेश वकील राजीव धवन ने जब कहा कि वे बहस शुरू करेंगे तो चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने कहा कि यह सुनवाई की तारीख नहीं है। दरअसल, गुरुवार को सिर्फ सुनवाई का शिड्यूल तय होना था। वहीं, बाबरी विध्वंस से जुड़े आपराधिक मामले में एक पक्ष की ओर से बतौर वकील पेश हुए जस्टिस यूयू ललित ने केस से खुद को अलग करने की इच्छा जताई।

11:03 (IST)10 Jan 2019
चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने कहा कि यह सुनवाई की तारीख नहीं

मुस्लिम याचिकाकर्ताओं की ओर पेश वकील राजीव धवन ने जब कहा कि वे बहस शुरू करेंगे तो चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने कहा कि यह सुनवाई की तारीख नहीं है। दरअसल, गुरुवार को सिर्फ सुनवाई का शिड्यूल तय होना था। वहीं, बाबरी विध्वंस से जुड़े आपराधिक मामले में एक पक्ष की ओर से बतौर वकील पेश हुए जस्टिस यूयू ललित ने केस से खुद को अलग करने की इच्छा जताई।

10:43 (IST)10 Jan 2019
सुनवाई में समयसीमा तय करने पर होगी बात

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक सुप्रीम कोर्ट में पांच जजों की संविधान पीठ ने राम मंदिर-बाबरी मस्जिद विवाद की सुनवाई शुरू कर दी है। खबर के मुताबिक यह भी कहा जा रहा है कि सुप्रीम कोर्ट में आज सुनवाई के लिए समयसीमा तय करने पर बात होगी होगी। 

10:22 (IST)10 Jan 2019
दोनों पक्षों के वकील सुप्रीम कोर्ट पहुंचे

टीवी चैनलों की खबरों के मुताबिक मंदिर-मस्जिद मामले की सुनवाई के लिए दोनों पक्षों के वकील सुप्रीम कोर्ट पहुंच चुके हैं। जफरयाब जिलानी और राजीव धवन सुप्रीम कोर्ट पहुंच चुके हैं। इसके अलावा पीएस नरसिम्हन और वैधनाथ सुप्रीम कोर्ट पहुंच चुके हैं।

10:18 (IST)10 Jan 2019
कुछ देर में सुनवाई

अयोध्या मामले में सुनवाई सुप्रीम कोर्ट में थोड़ी देर में शुरू होने की उम्मीद है। पांच जजों की पीठ इस मामले में सुनवाई करने वाले हैं।

10:03 (IST)10 Jan 2019
सुवनाई से पहले सुप्रीम कोर्ट के बाहर सुरक्षा पुख्ता

राम मंदिर-बाबरी मस्जिद मामले की सुनवाई से पहले सुप्रीम कोर्ट के बाहर सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए हैं। आज सुप्रीम कोर्ट की पांच जजों की पीठ विवादित जमीन के मामले में सुनवाई करने वाली है। न्यूज एजेंसी एएनआई ने कोर्ट परिसर के बाहर की तस्वीरें शेयर की है। तस्वीरों में नजर आ रहा है कि महिला और पुरुष सुरक्षाकर्मियों को भारी तादाद में तैनात किया गया है।