ताज़ा खबर
 

Ram Temple Trust के नए अध्यक्ष चुने गए महंत नृत्यगोपाल दास, PM मोदी के पूर्व सहयोगी नृपेंद्र मिश्रा को निर्माण समिति की कमान

महंत नृत्य गोपाल दास, श्री राम मंदिर निर्माण से जुड़े आंदोलन का नेतृत्व कर चुके हैं।

श्री राम जन्म भूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट की पहली बैठक प्रमुख के.परासरण के आवास पर बुधवार को हुई। (फोटोः पीटीआई)

Ram Mandir Trust (श्री रामजन्म भूमि तीर्थ क्षेत्र) का अध्यक्ष महंत नृत्य गोपाल दास को चुना गया है, जबकि ट्रस्ट का महामंत्री Vishva Hindu Parishad के नेता चंपत राय को बनाया गया है। वहीं,  स्वामी गोविंद देव गिरि कोषाध्यक्ष बनाए गए हैं। भवन निर्माण समिति के चेयरमैन नृपेंद्र मिश्रा होंगे, जो कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पूर्व में प्रिंसिपल सेक्रेट्री रहे हैं।

ये फैसले बुधवार को राजधानी नई दिल्ली में श्री राम जन्म भूमि तीर्थ क्षेत्र को लेकर हुई पहली बैठक में लिए गए। ट्रस्ट के प्रमुख के.परासरण के आवास पर हुई इस बैठक में मंदिर निर्माण के मुहूर्त सहित कई विषयों पर विचार किया गया।

जानकारी के मुताबिक, समिति की रिपोर्ट पर मंदिर निर्णाण की तारीख तय होगी। महंत नृत्य गोपाल दास, श्री राम मंदिर निर्माण से जुड़े आंदोलन का नेतृत्व कर चुके हैं।

बैठक के बाद राय ने समाचार एजेंसी PTI-Bhasha को बताया, “अयोध्या में State Bank of India की शाखा में ट्रस्ट का बैंक खाता खोलने का निर्णय किया गया है।”

हालांकि, पहले खबरों में कहा गया था कि न्यास की पहली बैठक दिल्ली में होगी, जिसमें मंदिर निर्माण के मुहूर्त सहित कई विषयों पर विचार किया जा सकता है।

Ram Mandir Trust, Ram Mandir, Ayodhya, Mahant Nitya Gopal Das, Ram Mandir Trust President, in First Meet, Champat Rai, Nripendra Mishra, Narendra Modi, BJP, NDA, Ram Mandir Trust, India News, National News महंत नृत्य गोपाल दास, मंदिर आंदोलन के नेतृत्वकर्ता रहे हैं। (फाइल फोटोः fb/ShriNrityaGopalDas)

कौन हैं नृत्य गोपाल दास?:

– राम मंदिर आंदोलन के संरक्षक की भूमिका दशकों तक निभाई।

– मंदिर निर्माण से जुड़े कामों में अगुवा के तौर पर रहे हैं।

– श्री राम मंदिर के लिए इनकी अगुवाई में पूर्व में काफी चंदा भी जुटा है।

– बाबरी मस्जिद विध्वंस कांड में शामिल होने का आरोप है।

– लखनऊ स्थित CBI कोर्ट में इसी मसले से जुड़े केस भी चल रहा है।

बता दें कि इस न्यास का गठन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली NDA सरकार ने किया है। इससे पहले, सुप्रीम कोर्ट द्वारा राम मंदिर के पक्ष में फैसला देने और मंदिर निर्माण के लिए न्यास के गठन के आदेश पर पांच फरवरी को केंद्र सरकार ने ट्रस्ट का ऐलान किया था।

न्याय के प्रमुख वरिष्ठ अधिवक्ता के. परासरण बनाए गए थे। अन्य सदस्यों में जगदगुरु शंकराचार्य, ज्योतिषपीठाधीश्वर स्वामी वासुदेवानंद सरस्वती जी महाराज (इलाहाबाद), जगदगुरु माधवाचार्य स्वामी विश्व प्रसन्नतीर्थ जी महाराज (उडुपी के पेजावर मठ से), युगपुरुष परमानंद जी महाराज (हरिद्वार), स्वामी गोविंद देव गिरि जी महाराज (पुणे) और विमलेंद्र मोहन प्रताप मिश्र (अयोध्या) हैं।

Next Stories
1 शराब को मांझी ने बताया था ‘संजीवनी’, पहले भड़की JDU, अब बोले नेता- गलत नहीं कहा, सिस्टम-संस्कृति के हिसाब से पीनी चाहिए
2 CAA: यूपी में मौतों पर बोले आदित्य नाथ- कोई मरने के लिए आ ही रहा है तो जिंदा कहां से हो जाएगा
3 Republic TV किसका? कंपनी ने दिया जवाब- 82% हिस्सेदार अरणब गोस्‍वामी
ये पढ़ा क्या?
X