ताज़ा खबर
 

राम मंदिर-बाबरी मस्जिद मामला: सुप्रीम कोर्ट ने सुनी दलीलें, 8 फरवरी 2018 को होगी अगली सुनवाई

Ayodhya Verdict, Babri Masjid-Ram Mandir Dispute: प्रधान न्यायाधीश दीपक मिश्रा, न्यायमूर्ति अशोक भूषण और न्यायमूर्ति एस अब्दुल नजीर की तीन सदस्यीय विशेष पीठ चार दीवानी मुकदमों में इलाहाबाद हाई कोर्ट के 2010 के फैसले के खिलाफ दायर 13 अपीलों पर सुनवाई कर रही है।

बाबरी मस्जिद विध्वंस की तस्वीर (फ़ोटो-एक्सप्रेस आर्काइव)

सुप्रीम कोर्ट में अयोध्या में राम जन्म भूमि-बाबरी मस्जिद विवादित ढांचा गिराए जाने की 25वीं वर्षगांठ से एक दिन पहले यानी आज राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद स्वामित्व विवाद पर अंतिम सुनवाई शुरू हो चुकी है। प्रधान न्यायाधीश दीपक मिश्रा, न्यायमूर्ति अशोक भूषण और न्यायमूर्ति एस अब्दुल नजीर की तीन सदस्यीय विशेष पीठ चार दीवानी मुकदमों में इलाहाबाद हाई कोर्ट के 2010 के फैसले के खिलाफ दायर 13 अपीलों पर सुनवाई कर रही है। हाई कोर्ट ने अपने फैसले में अयोध्या में 2.77 एकड़ के इस विवादित स्थल को इस विवाद के तीनों पक्षकार सुन्नी वक्फ बोर्ड, निर्मोही अखाड़ा और भगवान राम लला के बीच बांटने का आदेश दिया था।

इस बीच, उत्तर प्रदेश के सेन्ट्रल शिया वक्फ बोर्ड ने इस विवाद के समाधान की पेशकश करते हुए न्यायालय से कहा था कि अयोध्या में विवादित स्थल से उचित दूरी पर मुस्लिम बहुल्य इलाके में मस्जिद का निर्माण किया जा सकता है। अखिल भारतीय सुन्नी वक्फ बोर्ड और निर्मोही अखाड़े का प्रतिनिधित्व वरिष्ठ अधिवक्ता कपिल सिब्बल, अनूप जार्ज चौधरी, राजीव धवन और सुशील जैन कर रहे हैं। वहीं भगवान राम लला की ओर से वरिष्ठ अधिवक्ता के परासरण और सी एस वैद्यनाथन और अधिवक्ता सौरभ शमशेरी पेश हुए हैं। उत्तर प्रदेश सरकार की ओर से अतिरिक्त सॉलिसीटर जनरल तुषार मेहता कोर्ट में दलीलें दे रहे हैं।

यहां पढ़ें Ayodhya Dispute Hearing Updates: 

-इस मामले की अगली सुनवाई अब 8 फरवरी 2018 को होगी।

-कपिल सिब्बल और राजीव धवन के अलावा अन्य याचिकाकर्ताओं ने मांग करते हुए कहा कि कम से कम 7 जजों की बेंच इस मामले पर सुनवाई करे।

-शिया वक्फ बोर्ड के चेयरमैन वसीम रिजवी ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने अॉन रिकॉर्ड हमारे द्वारा प्रस्तावित फॉर्म्युला ले लिया है।

याचिकाकर्ता उन प्रासंगिक दस्तावेजों के अनुवाद के लिए सुप्रीम कोर्ट से समय मांग रहे हैं, जिन्हें इलाहाबाद हाई कोर्ट की लखनऊ बेंच के सामने फाइल किया गया था।

-राम मंदिर निर्माण के लिए अयोध्या में हवन किया जा रहा है।

-कपिल सिब्बल ने सुप्रीम कोर्ट से कहा कि जब भी इस मामले की सुनवाई होती है तो कोर्ट के बाहर गंभीर प्रतिक्रियाएं आती हैं। इसलिए कानून एवं व्यवस्था को बनाए रखने के लिए वह खुद कोर्ट से गुजारिश करते हैं कि सभी याचिकाएं पूरी होने के बाद 15 जुलाई 2019 से इस मामले की सुनवाई शुरू करें।

-उत्तर प्रदेश के वकील तुषार मेहता ने कपिल सिब्बल के सभी कथनों को खारिज करते हुए सुप्रीम कोर्ट से कहा कि सभी संबंधित दस्तावेज और अपेक्षित अनुवाद प्रतियां रिकॉर्ड में हैं।

-सुन्नी वक्फ बोर्ड के वकील कपिल सिब्बल ने अडिशनल सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता के अभियुक्तों पर संदेह जताया। उन्होंने कहा कि 19000 पेजों के दस्तावेज इतने कम समय में फाइल कैसे हो गए। सिब्बल ने सुप्रीम कोर्ट को बताया कि उन्हें और अन्य याचिकाकर्ताओं को याचिका के प्रासंगिक दस्तावेज नहीं दिए गए हैं।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 राहुल गांधी के पक्ष में बोले शत्रुघ्न सिन्हा, नरेंद्र मोदी और अमित शाह पर मारा ‘वन मैन शो’ और ‘टू मैन आर्मी’ का ताना
2 बीजेपी से सवाल पूछने में राहुल गांधी ने कर दी बड़ी गलती, मोदी सरकार पर साधा न‍िशाना, पर उल्‍टा पड़ा ताना
3 जय हिंद: सुभाष चंद्र बोस ने नहीं, आइएनए के मुस्लिम मेजर ने दिया था नारा
यह पढ़ा क्या?
X