ताज़ा खबर
 

अयोध्या में विवादित भूमि पर अब बौद्ध समुदाय ने ठोंका दावा, SC में दायर हुई याचिका

याचिका कोर्ट में नागरिक मुकदमें के रुप में दाखिल की गई है। याचिकाकर्ता का कहना है कि आर्कियोलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया द्वारा की गई खुदाई में बौद्ध स्तूप, गोल स्तूप और दीवारें मिली हैं। जो कि विवादित स्थल पर बुद्ध विहार होने की ओर इशारा करती हैं।

(File photo)

हिंदू और मुस्लिम समुदायों के बाद अब बौद्ध समुदाय ने भी अयोध्या की विवादित भूमि पर अपना दावा ठोक दिया है। बता दें कि बौद्ध समुदाय के कुछ सदस्यों ने इसे लेकर सुप्रीम कोर्ट में एक याचिका दाखिल की है। याचिका में दावा किया गया है कि अयोध्या की विवादित भूमि असल में एक बौद्ध स्थल है। याचिका में कहा गया है कि बौद्ध समुदाय के दावे का आधार विवादित भूमि पर आर्कियोलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया द्वारा की गई 4 खुदाई हैं, जिनमें बौद्ध धर्म से जुड़े अवशेष मिले हैं। गौरतलब है कि आर्कियोलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया द्वारा विवादित स्थल पर अन्तिम बार खुदाई साल 2002-03 में की गई थी। याचिका के अनुसार, अयोध्या में बाबरी मस्जिद के निर्माण से पहले विवादित भूमि का संबंध बौद्ध धर्म से था।

बता दें कि यह याचिका सुप्रीम कोर्ट में 6 मार्च को दाखिल की गई है। जिसे अयोध्या के रहने वाले एक बौद्ध विनीत कुमार मौर्या ने दाखिल किया है। याचिका कोर्ट में नागरिक मुकदमें के रुप में दाखिल की गई है। याचिकाकर्ता का कहना है कि आर्कियोलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया द्वारा की गई खुदाई में बौद्ध स्तूप, गोल स्तूप और दीवारें मिली हैं। जो कि विवादित स्थल पर बुद्ध विहार होने की ओर इशारा करती हैं। याचिकाकर्ता मौर्या का दावा है कि खुदाई के दौरान 50 जगहों पर खुदाई के बाद भी हिंदू मंदिर और किसी भी हिंदू संरचना के अवशेष नहीं मिले थे। याचिका में मांग की गई है कि सुप्रीम कोर्ट अयोध्या की विवादित भूमि को श्रावस्ती, कपिलवस्तु, कुशीनगर और सारनाथ की तरह बुद्ध विहार घोषित करे।

HOT DEALS
  • Honor 7X 64GB Blue
    ₹ 16010 MRP ₹ 16999 -6%
    ₹0 Cashback
  • MICROMAX Q4001 VDEO 1 Grey
    ₹ 4000 MRP ₹ 5499 -27%
    ₹400 Cashback

वहीं खबर मिली है कि सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को अयोध्या विवाद से जुड़ी उन सभी याचिकाओं को खारिज कर दिया है, जो मुख्य पक्षकारों की तरफ से दाखिल नहीं की गई हैं। कोर्ट अब सिर्फ मुख्य पक्षकारों की याचिकाओं पर ही सुनवाई करेगा। उल्लेखनीय है कि अयोध्या विवाद में सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड, राम लला विराजमान और निर्मोही अखाड़ा ही मुख्य पक्षकार हैं। मामले में सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड की ओर से 19,590 पेज में से 3,260 पेज जमा नहीं हुए थे।  अयोध्या विवाद पर तीन जजों की पीठ सुनवाई कर रही है, जिसमें चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा समेत जस्टिस अब्दुल नाजिर और जस्टिस अशोक भूषण शामिल हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App