ताज़ा खबर
 

मोदी और नेतन्याहू ने की मुलाकात, इस्राइली नेता ने कहा: ‘‘अनंत संभावनाएं’’

न्यूयार्क। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनके इस्राइली समकक्ष बेंजामिन नेतन्याहू ने आज मुलाकात की । ग्यारह साल के अंतराल के बाद दोनों देशों के प्रधानमंत्रियों के बीच हुई यह पहली मुलाकात है । यहूदी देश के प्रधानमंत्री ने कहा कि द्विपक्षीय संबंधों के लिए ‘‘अनंत संभावनाएं’’ हैं । बैठक संयुक्त राष्ट्र महासभा से इतर न्यूयॉर्क […]

Author September 29, 2014 16:39 pm

न्यूयार्क। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनके इस्राइली समकक्ष बेंजामिन नेतन्याहू ने आज मुलाकात की । ग्यारह साल के अंतराल के बाद दोनों देशों के प्रधानमंत्रियों के बीच हुई यह पहली मुलाकात है । यहूदी देश के प्रधानमंत्री ने कहा कि द्विपक्षीय संबंधों के लिए ‘‘अनंत संभावनाएं’’ हैं ।

बैठक संयुक्त राष्ट्र महासभा से इतर न्यूयॉर्क के पैलेस होटल में हुई । इस दौरान मोदी और नेतन्याहू ने रक्षा सहयोग और पश्चिम एशिया में इस्लामिक स्टेट द्वारा उत्पन्न स्थिति सहित व्यापक मुद्दों पर चर्चा की । दोनों नेता पैलेस होटल में ठहरे हुए हैं ।

तीस मिनट तक चली बैठक के दौरान नेतन्याहू ने मोदी को जल्द इस्राइल आने का आमंत्रण दिया ।

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता सैयद अकबरूद्दीन ने बताया कि नेतन्याहू ने याद किया कि मोदी मुख्यमंत्री के रूप में इस्राइल आए थे, लेकिन अब उन्होंने उम्मीद की कि मोदी प्रधानमंत्री के रूप में इस्राइल का दौरा करें ।

मोदी ने 2006 में इस्राइल का दौरा किया था ।

अकबरूद्दीन ने कहा कि मोदी ने आमंत्रण का संज्ञान लिया है और इस पर आगे कूटनीतिक चैनलों के जरिए चर्चा की जाएगी ।

प्रवक्ता ने बताया कि दोनों नेताओं ने आर्थिक सहयोग मजबूत करने के तौर तरीकों पर चर्चा की और इस्राइल ने जल प्रबंधन तथा अन्य कृषि संबंधी क्षेत्रों में विशेषज्ञता की पेशकश की ।

भारत और इस्राइल के बीच काफी मजबूत संबंध हैं तथा वर्तमान में करीब छह अरब डॉलर का द्विपक्षीय कारोबार है ।

प्रवक्ता ने कहा, ‘‘उन्होंने यह भी बताया कि फिलहाल रक्षा क्षेत्र में इस्राइल या कोई भी अन्य देश 49 प्रतिशत तक निवेश कर सकता है और प्रधानमंत्री ने सूचना प्रौद्योगिकी तथा जल प्रबंधन जैसे क्षेत्रों में कौशल साझा करने पर जोर दिया ।’’

यरूशलम पोस्ट ने खबर दी है कि नेतन्याहू ने मोदी से कहा कि इस्राइल-भारत संबंधों में ‘‘अनंत संभावनाएं हैं ।’’

नेतन्याहू के कार्यालय के अनुसार दोनों नेताओं ने ईरान, आतंकवाद के खतरे, और उच्च प्रौद्योगिकी, साइबर सुरक्षा, जल संरक्षण तथा कृषि जैसे क्षेत्रों में संभावित सहयोग पर चर्चा की ।

इस्राइली प्रधानमंत्री ने कहा, ‘‘हम दो बुजुर्ग लोग हैं, धरती पर सबसे पुरानी सभ्यताओं के प्रतिनिधि हैं।’’ ‘‘हम दो लोकतंत्र भी हैं, जिन्हें अपनी परंपरा पर गर्व है, परंतु भविष्य को भी उज्ज्वल बनाना चाहते हैं । मेरा मानना है कि यदि हम मिलकर काम करेंगे तो इससे हमारे दोनों देशों के लोगों को लाभ होगा।’’

पहले एक यहूदी समूह से मिल चुके मोदी ने बैठक के दौरान यह भी उल्लेख किया कि भारत में समुदाय के प्रति कोई भेदभाव नहीं है ।

एक दशक से अधिक समय में यह कोई पहली बार नहीं है जब दोनों नेता एक ही समय संयुक्त राष्ट्र महासभा की बैठक में भाग ले रहे हों । लेकिन यह पहली बार है जब ऐसे समय उनके बीच मुलाकात हुई है।

वर्ष 2003 में इस्राइली प्रधानमंत्री के रूप में एरियल शेरोन ने भारत की यात्रा की थी । तब अटल बिहारी वाजपेयी प्रधानमंत्री थे ।

नेतन्याहू के कार्यालय ने मोदी के हवाले से कहा, ‘‘इस्राइल में इस बात के प्रति गहरी मान्यता है कि भारत एकमात्र ऐसा देश है जहां यहूदियों के प्रति कभी भेदभाव नहीं रहा है, जहां यहूदियों को कभी संकट नहीं झेलने पड़े और वे हमारे समाज के अभिन्न अंग के रूप में रहे हैं ।’’

इस्राइली नेता ने मोदी को राष्ट्रीय साइबर रक्षा प्राधिकरण स्थापित करने की अपनी पहल के बारे में भी जानकारी दी और प्रस्तावित किया कि इस संबंध में भी द्विपक्षीय संपर्क स्थापित किए जाएं क्योंकि यह भविष्य में सहयोग के लिए एक महत्वपूर्ण आर्थिक क्षेत्र हो सकता है ।

मोदी के सत्ता में उत्कर्ष से इस्राइल में व्यापक द्विपक्षीय संबंधों की उम्मीदों को लेकर काफी उत्सुकता रही है ।

प्रधानमंत्री ने अपने इस्राइली समकक्ष को यह भी बताया कि मुंबई में विश्वविद्यालय में हिब्रू पढ़ाई जाती रही है जहां विगत में यहूदी मेयर भी रहा है ।
मोदी डॉ. एलिजाह मोसेज का जिक्र कर रहे थे जो 1937 से 1938 तक मुंबई के मेयर थे ।

इस्राइल में करीब 80 हजार भारतीय यहूदी रहते हैं जिनमें से अधिकतर महाराष्ट्र क्षेत्र से गए हैं । उनका उल्लेख आम तौर पर बेने इस्राइल के रूप में किया जाता है ।

 

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App