ताज़ा खबर
 

पेपर लीक केसः वांछित असम के पूर्व डीआईजी पी के दत्ता भारत-नेपाल सीमा से हिरासत में लिए गए, घोषित था एक लाख का इनाम

असम पुलिस मुख्यालय ने जारी किये गए अपने बयान में कहा - "पीके दत्ता को भारत-नेपाल सीमा पर हिरासत में लिया गया है और उन्हें पश्चिम बंगाल पुलिस को सौंप दिया गया है, जल्द ही उन्हें असम पुलिस हिरासत में ले लेगी और असम ले आएगी।"

PK Dutta, Assam,पुलिस भर्ती परीक्षा पेपर लीक घोटाले में फरार चल रहे सेवानिवृत्त पूर्व डीआईजी पीके दत्ता को नेपाल भारत सीमा पर गिरफ्तार कर लिया गया है।

पुलिस भर्ती परीक्षा पेपर लीक घोटाले में फरार चल रहे सेवानिवृत्त पूर्व डीआईजी पीके दत्ता को नेपाल भारत सीमा पर गिरफ्तार कर लिया गया है। असम राज्य पुलिस प्रशासन के प्रवक्ता ने बताया कि फरार की सूचना देने पर 1 लाख रुपये का इनाम देने की घोषणा की गई थी।

असम पुलिस मुख्यालय ने जारी किये गए अपने बयान में कहा – “पीके दत्ता को भारत-नेपाल सीमा पर हिरासत में लिया गया है और उन्हें पश्चिम बंगाल पुलिस को सौंप दिया गया है, जल्द ही उन्हें असम पुलिस हिरासत में ले लेगी और असम ले आएगी।” इस बड़े घोटाले की खबर सामने आने के बाद  597 पदों पर भर्ती के लिए परीक्षा आयोजित की गई थी वह भी रद्द कर दी गई थी। परीक्षा के दौरान हॉल में लगभग 66,000 उम्मीदवार उपस्थित थे।

दरअसल असम पुलिस को फरार चल रहे दत्ता की नेपाल में छिपे होने की जानकारी थी और जब सीआईडी ने अपनी जांच तेज कर दी थी तब वह कहीं और छिप गया था। जानकारी के अनुसार दत्ता के पास लग्जरी होटल, चाय के बागानों, 100 बीघा जमीन, एक-दो फ्लैट आदि की एक श्रृंखला है।

इस मामले में दत्ता के अलावा और आरोपी है और वह है असम भाजपा नेता दिबान डेका। मामले के खुलासे के बाद ही डेका भूमिगत हो गए थे लेकिन एक सप्ताह बाद ही निचले असम में पुलिस के सामने उन्होंने आत्मसमर्पण कर दिया था जिसके बाद में उसे पुलिस द्वारा गिरफ्तार कर लिया गया और उसे गुवाहाटी लाया गया।

घोटाले से परेशान मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल ने मामले की गहन जांच के आदेश दिए थे और आरोपी भाजपा नेता के दोषी होने पर जब उन्हें सवाल पूछा गया तो उन्होंने कहा था कि दोषी पाए जाने पर किसी को भी नहीं बख्शा जाएगा।

अगले वर्ष ही असम में चुनाव है और अब विपक्ष को मौका मिल गया है कि वह बीजेपी पर निशाना साध सके। कांग्रेस ने आरोप लगाते हुए कहा है कि इस मामले की जांच गुवाहाटी हाई कोर्ट के जज की निगरानी में होनी चाहिए क्योंकि इसमें बीजेपी के और भी नेता मिले है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 दलित AIADMK विधायक ने ब्राह्मण लड़की के साथ रचाई शादी, पिता ने किया जान देने का प्रयास
2 इतिहास से नहीं तो भविष्य से डरो दीदी- बंगाल के हाल पर बोले कुमार विश्वास, यूजर्स करने लगे ऐसे-ऐसे कमेंट्स
3 आपकी जन्मकुंडली निकाल देंगे, तो भाग जाएंगी…Congress नेता से बोले पैनलिस्ट, राहुल-प्रियंका को बताया ‘बंटी और बबली’
कृषि कानून
X