ताज़ा खबर
 

दुर्गा पूजा पंडाल में ‘नैचुरल लुक’ के लिए 300 पक्षियों को पिंजरे में बंद रखा, BJP विधायक बोले- कुछ भी गलत नहीं है

विरोध कर रहे लोगों को निशाने पर लेते हुए बीजेपी एमएलए ने कहा कि आजकल तो प्रदर्शन करने का फैशन हो गया है। मैं प्रदर्शन कर रहे लोगों से कहना चाहता हूं कि जो लोग इसका विरोध कर रहे हैं पहले चिकन खाना छोड़ दें और घरों में कुत्तों को चेन से बांधना छोड़ दें।

असम के सिलचर में एक दुर्गा पूजा पंडाल में नैचुरल लुक के लिए 300 पक्षियों को पिंजरे में बंद कर रखा गया है। (फोटो- Indian Express)

 Biswa Kalyan Purkayastha 
असम के सिलचर में एक दुर्गा पूजा पंडाल में नैचुरल लुक के लिए 300 पक्षियों को पिंजरे में कैद कर रखा गया है। दुर्गा पूजा पंडाल के उद्घाटन के बाद ही सोशल मीडिया पर इस बात की काफी चर्चा हुई थी कि पंडाल के पास कैद पक्षियों को आजाद किया जाना चाहिए यह क्रुरता है।सोशल मीडिया पर मरे हुए पक्षियों को भी शेयर किया गया और चिंता जताई गई लेकिन पक्षियों को वहां से नहीं हटाया गया है।

हालांकि लोगों के आक्रोश के बाद वहां कि डेप्यूटी कमिश्नर लाया मद्दूरी ने पूजा समीति से पक्षियों को पंडाल प्रांगण से दूर करने को कहा। हालांकि इसके बाद भी आयोजकों ने पक्षियों को हटाने से मना कर दिया और उन लोगों को विश्वास है कि भाजपा नेता स्थिति को संभाल लेंगे।

हुआ भी कुछ ऐसा ही, दरअसल स्थानीय बीजेपी एमएलए मीहिर कांती सोम जिन्होंने पंडाल का उद्धघाटन किया था। उनका कहना है कि यह पक्षी इमपोरटेड हैं और इनका इस्तेमाल सजवाट के लिए ही होता है और दुनियाभर में इनकी ब्रिक्री होती है। ऐसा करना कोई गलत नहीं है। भारत में ऐसा कोई कानून भी नहीं है जो ऐसा करने से मना कर रहा हो।

विरोध कर रहे लोगों को निशाने पर लेते हुए बीजेपी एमएलए ने कहा कि आजकल तो प्रदर्शन करने का फैशन हो गया है। मैं प्रदर्शन कर रहे लोगों से कहना चाहता हूं कि जो लोग इसका विरोध कर रहे हैं पहले चिकन खाना छोड़ दें और घरों में कुत्तों को चेन से बांधना छोड़ दें।

उधरबोंड़ कालीबाड़ी दुर्गा पूजा समिति के सेक्रेटरी शंकर रॉय ने इंडियन एक्सप्रेस से बातचीत में बताया कि डीसी ने पक्षियों को पिंजरे से हटाने की बात कही है। लेकिन हम यह तत्काल में नहीं कर सकते। पिछले 10 साल से पक्षियों को यहां रखा गया है और उनका ख्याल रखा जा रहा है। पंडाल को इस तरह से बनाया गया है कि पिजरों को नहीं हटाया जा सकता है। पूजा समीति ने पक्षियों के ट्रंसपोर्ट के लिए 4 लाख रुपए खर्च किए हैं।

Next Stories
1 गुजरात: BJP नेता के भाई पर आरोप- न्यूज चैनल के रिपोर्टर और कैमरामैन को अगवा करके पीटा
2 गजब का फर्जीवाड़ा, कश्मीर के व्यापारी को बेच डाला 300 करोड़ रुपये का महल!
3 उत्तर प्रदेश: कानपुर के 122 चमड़ा कारखानों पर फिर सख्ती, बंद करने का आदेश
ये पढ़ा क्या?
X