ताज़ा खबर
 

‘असम को मियां पोएट्री और अजमल से बचाओ’, जे पी नड्डा के सामने भाजपायी मंत्री ने दिए विवादित बयान

यह विवादित बयान हिमांता बिस्वा ने पार्टी के कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा के सामने ही दिया है।

Author Edited By Nishant Nandan Updated: January 5, 2020 10:50 AM
हिमांता बिस्वा असम के वित्त मंत्री भी हैं। फोटो सोर्स – Indian Express

असम में एनआरसी के विरोध में बड़ा हंगामा हुआ। लेकिन अब भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के एक मंत्री ने यहां विवादित बयान दिया है। राज्य के वित्त मंत्री हिमांता बिस्वा ने कहा कि ‘तीन साल पहले यहां सिर्फ एक अजमल था। लेकिन आज यहां लाखों अजमल हैं।’ माना जा रहा है कि ऐसा बोल कर उन्होने AIUDF के मुखिया और लोकसभा सांसद बदरुद्दीन अजमल पर निशाना साधा है।

हिमांता बिस्वा ने आगे कहा कि ‘भाजपा कार्यकर्ताओं को असम को मियां पोएट्री और अजमल से बचाना होगा।’ यह विवादित बयान हिमांता बिस्वा ने पार्टी के कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा के सामने ही दिया है। यहां आपको बता दें कि ‘मियां पोएट्री’ बोल कर हिमांता बिस्वा ने बंगाल के उस मुस्लिम समुदाय पर निशाना साधा है जो बांग्ला बोलते हैं और कविताएं लिखते हैं। बांग्ला बोलने वाले मुस्लिम अपनी कविताओं के जरिए सरकार पर निशाना साधते हैं। बदरुद्दीन अजमल एनआरसी के मुद्दे पर खुल कर इन मुसलमानों के समर्थन में भी उतरे थे।

राज्य में भारतीय जनता पार्टी की सरकार द्वारा किये गये कार्यों का उल्लेख करते हुए हिमांता शर्मा ने कहा कि ‘हमने यहां लोगों के लिए काम किया है…हमने मातृभूमि के लिए काम किया है…हमलोगों ने अजमलों से असम को मुक्ति दिलाने के लिए काम किया है…और मैं आपको बता दूं कि जब तक हमारे शरीर में खून का एक भी कतरा है हम बदरूद्दीन अजमल जैसों से संघर्ष करते रहेंगे।’

वहीं इस मौके पर वहां मौजूद भाजपा के कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने विपक्ष को निशाने पर लिया। उन्होंने कहा कि ‘वो लोग कहते हैं कि करोड़ों लोग आएंगे…कोई नहीं आएगा…वो लोग तब से ही यहां हैं जब से आप (कांग्रेस) सत्ता में थे। असम समझौते के Clause 6 को जरूर लागू किया जाएगा…ताकि यहां की संस्कृति को बचाया जा सके।’

आपको बता दें कि असम में सीएए के खिलाफ जारी विरोध के बीच बीते शनिवार (04-01-2019) को बीजेपी के हजारों कार्यकर्ता गुवाहाटी में आयोजित एक पब्लिक मीटिंग में शामिल हुए। इस बैठक में पार्टी के वरिष्ठ नेताओं ने नागरिकता कानून को लेकर लोगों को जागरूक करने का प्रयास भी किया। पार्टी के वरिष्ठ नेताओं ने कहा कि राज्य सरकार राज्य के विकास और यहां की संस्कृति की सुरक्षा के लिए प्रतिबद्ध है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 ‘आधी रात राष्ट्रपति शासन हटाने की सिफारिश और तड़के शपथ दिला सकते हैं, एक फाइल पर दस्तखत नहीं’, गवर्नर पर बिदके शरद पवार
2 CAA विरोध में फिरोजाबाद में 6 मौतें, एक बॉडी में भी नहीं मिली बुलेट, पर पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट ने खोल दी पुलिसिया जुल्म की सच्चाई
3 NRC का विरोध कर रहे नीतीश कुमार बिहार में कराएंगे NPR, सुशील मोदी बोले- मई में 13 दिन होगा डेटा कलेक्शन
ये पढ़ा क्या?
X