ताज़ा खबर
 

सरकार की आलोचना करने पर हो सकती है कार्रवाई, शिक्षा विभाग ने स्टाफ को दी चेतावनी

असम शिक्षा विभाग के आदेश ऐसे समय में आए हैं जब प्रदेश में नए नागरिकता संशोधन कानून, 2019 का सख्ती से विरोध हो रहा है।

Author गुवाहाटी | December 31, 2019 9:49 AM
assamअसम के मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल (Express Photo by Vignesh Krishnamoorthy/File)

असम सरकार के उच्च शिक्षा विभाग ने सोमवार (30 दिसंबर, 2019) को अपने कर्मचारियों को चेतावनी देते हुए कहा कि अगर वो सरकार की आलोचना करते हैं तो उन्हें कार्रवाई का सामना करना पड़ सकता है। सरकार का बयान ऐसे समय आया है जब प्राथमिक शिक्षा विभाग ने सोशल मीडिया में ‘राजनीतिक’ पोस्ट करने वाले कर्मचारियों के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई का आदेश दिया।

सोमवार को उच्च शिक्षा विभाग के निदेशक द्वारा जारी आदेश के मुताबिक, ‘सभी के ध्यान में लाया जाता है कि असम सिविल सर्विस (आचरण) नियम, 1965 के नियम के तहत सरकारी कर्मचारी सरकार की आलोचना करने वाले तथ्य या राय का कोई बयान नहीं देगा। कोई सरकारी कर्मचारी अगर सरकार की आलोचना करता हुआ पाया जाता है तो वह असम सिविल सर्विस (आचरण) 1965 के नियम 3 और 7 के उल्लंघन का जिम्मेदार माना जाएगा। इसलिए असम के सभी सरकारी/प्रांतीय कॉलेजों के प्रिंसिपलों से अनुरोध है कि वो उपरोक्त नियमों का कड़ाई से पालन सुनिश्चित करें।

उल्लेखनीय है कि असम शिक्षा विभाग के आदेश ऐसे समय में आए हैं जब प्रदेश में नए नागरिकता संशोधन कानून, 2019 का सख्ती से विरोध हो रहा है। विरोध-प्रदर्शनों में सरकारी कर्मचारियों ने भी एकजुटता दिखाई है। इन प्रदर्शनों को सांकेतिक समर्थन देते हुए प्रदेश के सभी सरकारी कर्मचारियों ने 18 दिसंबर को अपने-अपने कार्यों का बहिष्कार किया था।

बता दें कि बीते सोमवार को भी असम में नागरिकता कानून के खिलाफ खूब विरोध प्रदर्शन हुआ। सोमवार को ही मोरीगांव जिले में ऑल असम स्टूडेंट यूनियन (AASU), कलाकारों और स्थानीय नागरिकों ने इन प्रदर्शनों में हिस्सा लिया।

हालांकि प्रदेश के मुख्यमंभी सर्बानंद सोनोवाल ने जोरहाट स्थित एक कार्यक्रम में कहा कि हमारा असम, हमारी भूमि और हमारा अधिकार मार्गदर्शक सिद्धांत हैं, क्योंकि राज्य सरकार इन सिद्धातों के साथ स्वदेशी लोगों की जाति, माटी और भेटी (समुदाय और भूमि) की रक्षा कर रही है। सीएम आगे कहा कि प्रदेश सरकार असम के लोगों के अधिकार और विशेषाधिकार सुनिश्चित करने के लिए काम कर रही है।

Next Stories
1 Maharashtra: पांच साल बाद महाराष्ट्र को मुस्लिम मंत्री मिले, तीन को कैबिनेट रैंक दिया गया
2 प्रियंका गांधी ने Twitter पर आधी रात में लिखा, ‘ॐ ऐं ह्रीं क्लीं चामुण्डायै विच्चे’, यूजर्स ने दिए ऐसे रिएक्शंस
3 अंडरग्राउंड शटल से जुड़े होंगे सारे दफ्तर, पीएम के लिए भी बनेगा नया घर- गुजरात की कंपनी को मिला है Central Vista बनाने का ठेका
ये पढ़ा क्या?
X