ताज़ा खबर
 

बीजेपी नेता बोले- दोबारा पीएम नहीं बने मोदी तो प्रलयंकारी भूकंप जैसा होगा परिणाम

असम भाजपा अध्यक्ष ने आगे कहा कि 'हम नहीं चाहते कि हमारी मातृभूमि में ऐसा कोई प्रलयंकारी तूफान आए। इसलिए हम सभी के लिए वक्त आ चुका है कि हम चौकन्ना रहें और ऐसी किसी भी स्थिति को ना आने दें।

असम भाजपा अध्यक्ष ने पीएम मोदी को लेकर दिया बड़ा बयान। (file pic)

असम भाजपा अध्यक्ष रंजीत कुमार दास ने अपने एक बयान में कहा है कि “यदि नरेंद्र मोदी 2019 लोकसभा चुनाव में दोबारा देश के प्रधानमंत्री नहीं चुने गए तो उससे इतना नुकसान होगा, जितना कि एक प्रलयंकारी भूकंप से नुकसान होता है।” रंजीत दास ने ये बातें शनिवार को गुवाहटी में भाजपा पदाधिकारियों की एक बैठक के दौरान कहीं। इस दौरान रंजीत कुमार दास ने पार्टी पदाधिकारियों और जिलाध्यक्षों को पूरी ताकत के साथ काम में जुट जाने की अपील की, ताकि आगामी चुनावों में पीएम मोदी की जीत सुनिश्चित हो सके। रंजीत दास ने कहा कि यदि पीएम मोदी फिर से पीएम नहीं बनते हैं तो इससे बहुत बड़ा नुकसान होगा। रंजीत कुमार दास ने कहा कि “जब 8 से 10 मैग्नीट्यूड का भूकंप आता है तो आप उससे होने वाली तबाही का अंदाजा लगाया जा सकता है। इसमें सबकुछ तबाह हो जाएगा। इसी तरह यदि हम पीएम मोदी को दोबारा देश का प्रधानमंत्री नहीं बना सके तो भारत की अर्थव्यवस्था और सामाजिक-सांस्कृतिक ताने-बाने को भी कुछ ऐसा ही झटका लगेगा। ऐसा मेरा मानना है।”

असम भाजपा अध्यक्ष ने आगे कहा कि ‘हम नहीं चाहते कि हमारी मातृभूमि में ऐसा कोई प्रलयंकारी तूफान आए। इसलिए हम सभी के लिए वक्त आ चुका है कि हम चौकन्ना रहें और ऐसी किसी भी स्थिति को ना आने दें। हम सभी को पीएम मोदी को 2019 में पीएम बनाने के लिए काम करना होगा।’ रंजीत कुमार दास ने पार्टी कार्यकर्ताओं से अपील करते हुए कहा कि राज्य में पार्टी के 27 लाख सक्रिय कार्यकर्ताओं में से 20 लाख को एक्टिव फोर्स बनाने की अपील की। रंजीत कुमार दास ने कहा कि अगर हम अपने कार्यकर्ताओं में से 20 लाख को भी सक्रिय रख सके तो हम अजेय हो सकते हैं।

बता दें कि असम भाजपा गुरुवार से ही अपने जमीनी कार्यकर्ताओं के साथ बैठक कर रही है, ताकि अपनी रणनीति को बेहतर बना सके। साल 2014 के लोकसभा चुनावों में भाजपा ने इतिहास रचते हुए असम की 14 लोकसभा सीटों में से 7 पर जीत दर्ज की थी। आगामी लोकसभा चुनावों में भाजपा को कुछ सीटें अपनी सहयोगी पार्टी असम गण परिषद और बोडोलैंड पीपल्स फ्रंट को भी देनी पड़ सकती हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App