ताज़ा खबर
 

JNU छात्र शरजील इमाम पूछताछ को ले जाया गया गुवाहाटी, ABVP कार्यकर्ताओं ने किया विरोध प्रदर्शन

दिल्ली पुलिस ने पिछले साल Jamia Millia Islamia के पास न्यू फ्रेंड्स कॉलोनी में CAA विरोधी प्रदर्शन में हुई हिंसा के एक केस में 17 लोगों के खिलाफ आरोप पत्र दायर किया है। इसमें इमाम का नाम एक ‘‘उकसाने’’ वाले के तौर पर है।

JNU violence, CAA ProtestJNU छात्र शरजील इमाम गुरुवार को असम ले जाया गया।

JNU छात्र शरजील इमाम गुरुवार को असम ले जाया गया, जहां पर Akhil Bharatiya Vidyarthi Parishad (ABVP) के कार्यकर्ताओं ने उसके खिलाफ नारेबाजी और प्रदर्शन किया। इमाम को गुवाहाटी पूछताछ के लिए ले जाया गया है, जबकि आगे उसे स्थानीय अदालत में पेश किया जाएगा। इमाम को लेकर जैसे ही पुलिस वाले गुवाहाटी रेलवे स्टेशन पहुंचे थे, तभी ABVP सदस्य वहां विरोध जताने लगे थे। बता दें कि गुवाहाटी स्थित स्थानीय कोर्ट ने उसे चार दिनों की पुलिस हिरासत में भेजा है।

दरअसल, दिल्ली पुलिस ने पिछले साल Jamia Millia Islamia के पास न्यू फ्रेंड्स कॉलोनी में CAA विरोधी प्रदर्शन में हुई हिंसा के एक केस में 17 लोगों के खिलाफ आरोप पत्र दायर किया है। इसमें इमाम का नाम एक ‘‘उकसाने’’ वाले के तौर पर है। आरोपियों के खिलाफ दंगा, हत्या का प्रयास, आपराधिक साजिश और भारतीय दंड संहिता के तहत अन्य अपराधों में आरोप हैं।

मुख्य मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट गुरमोहिना कौर की अदालत में आरोपपत्र दायर किया गया है। अदालत ने इमाम को तीन मार्च तक न्यायिक हिरासत में भेज दिया। इमाम की हिरासत अवधि मंगलवार को खत्म होने के बाद उसे अदालत में पेश किया गया था। कोर्ट के सूत्रों के हवाले से समाचार एजेंसी पीटीआई-भाषा की रिपोर्ट में कहा गया कि 15 दिसम्बर, 2019 को हिंसा के एक आरोपी ने आरोप लगाया था कि इमाम के भाषणों ने उसे उकसाया था, जिसके बाद उसे गिरफ्तार किया गया था।

प्रदर्शनकारियों में से एक मोहम्मद फुरकान के बयान के हवाले से पुलिस ने आरोप पत्र में कहा, ‘‘सीएए के विरोध और जामिया में दंगों की हिंसक घटनाओं के कारण हालात काफी नाजुक थे।’’ इसमें कहा गया है, ‘‘उस दिन शरजील इमाम ने सीएए के खिलाफ उकसाने वाले भाषण भी दिये थे और इस कारण वह (फुरकान) और उसके साथी उन्मादी और विरोध में शामिल हुए थे।’’

पुलिस ने बताया कि इस खुलासे के मद्देनजर पूरक आरोप पत्र के दौरान इमाम की भूमिका की विस्तृत जांच की जाएगी। फुरकान (26) को सीसीटीवी फुटेज के आधार पर मामले में गिरफ्तार किया गया है। आरोप पत्र में यह भी कहा गया है कि उसकी भूमिका और मामले के अन्य पहलूओं का पता लगाने के लिए जांच की जा रही है।

इससे पहले, 17 फरवरी को JNU के करीब 50 छात्रों ने सोमवार को जंतर मंतर पर एकत्र होकर संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) और राष्ट्रीय नागरिकता पंजी (एनआरसी) के खिलाफ प्रदर्शन किया। प्रदर्शनकारी शरजील इमाम और डॉ कफील खान को रिहा करने की मांग कर रहे थे। बता दें कि इमाम को देशद्रोह के मामले में पिछले महीने बिहार के जहानाबाद से गिरफ्तार किया गया था।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 ‘मुस्लिमों को देश से भगाने की मोदी सरकार ने की बात तो मेरी लाश को करना होगा पार’, केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी का बयान
2 मुस्लिम पैनलिस्ट से बोले संबित पात्रा- रावणों की तरह हंसना बंद करो, हिंदुओं के मुद्दों पर सिरियसली बात हो रही है
3 शाहीन बाग क्यों नहीं गया मोदी सरकार का कोई नुमाइंदा? देखें, क्या आया मुख्तार अब्बास नकवी का जवाब
ये पढ़ा क्या?
X