ताज़ा खबर
 

डिबेट में आशुतोष का दिल्ली पुलिस पर हमला, बोला- हिंदुस्तान के इतिहास की सबसे नकारा पुलिस

आशुतोष ने कहा कि दिल्ली पुलिस हिंदुस्तान की सबसे नाकारा पुलिस है। उनके तेवर इतने ज्यादा तल्ख थे कि उन्होंने इस लाईन को फिर दोहराया। बकौल आशुतोष पुलिस ने अपनी रीढ़ की हड्डी गंवा दी है। अपने आकाओं को खुश करने के लिए वह किसी भी हद तक जा सकती है।

Disha Raviटूसकिट मामले में गिरफ्तार की गई बेंगलुरु की छात्रा दिशा रवि (फोटो सोर्सःट्विटर/@RealHistoryPic)

टूलकिट मामले में गिरफ्तार दिशा रवि को लेकर हुई टीवी डिबेट पर पैनलिस्ट आशुतोष ने कहा कि दिल्ली पुलिस हिंदुस्तान की सबसे नाकारा पुलिस है। उनके तेवर इतने ज्यादा तल्ख थे कि उन्होंने इस लाईन को फिर दोहराया। बकौल आशुतोष पुलिस ने अपनी रीढ़ की हड्डी गंवा दी है।

आशुतोष ने कहा कि अपने आकाओं को खुश करने के लिए वह किसी भी हद तक जा सकती है। उनका कहना था कि 70 नकाबपोश जेएनयू में घुसे थे, लेकिन पुलिस आज तक उनके बारे में कोई सुराग नहीं जुटा सकी है। सरकार किसान आंदोलन से निपटने में नाकाम रही है इसलिए दिल्ली पुलिस के जरिए रोज नई थ्यौरी गढ़ रही है।

आशुतोष ने इससे पहले कहा कि चैनल पर एक महिला के लिए जिन शब्दों का इस्तेमाल किया गया, वो निंदनीय है। उन्होंने कई अखबारों की खबरों को इंगित करते हुए कहा कि दिशा की गिरफ्तारी की सबने निंदा की है। उनका कहना था कि ऐसा कम ही होता है जब सारे अखबार एक ही लाईन पर संपादकीय लिखें। क्या देश के सारे अखबार बिक गए हैं।

आशुतोष का कहना था कि सुशांत सिंह राजपूत के मामले में दो महीने तक बहस की गई। रिया चक्रवर्ती को गलत तरीके से सबके सामने पेश किया गया। बाद में उस मामले में कुछ नहीं निकला। आज सरकार इतनी ज्यादा सशंकित हो चुकी है कि निकिता जैकब, दिशा रवि, रोहित वेम्मुला जैसे मेधावी छात्रों का चरित्र हनन कर रही है।

उनका कहना था कि दिल्ली पुलिस अनुराग ठाकुर, कपिल मिश्रा जैसे लोगों पर हाथ क्यों नहीं डालती। क्या जेएनयू में नकाबपोश नहीं घुसे थे। उनका कहना था कि महज एक टूल किट के आधार पर एक लड़की को गिरफ्तार कर लें और उसे लीगल एड भी न दें। देश में एक नई रवायत चल पड़ी है। किसी को भी देशद्रोही साबित कर दो। उनका कहना था कि सरकार कमजोर हो चुकी है। उनका कहना था कि क्या टूल किट इतनी बड़ी चीज है जिसे लेकर सरकार दिशा रवि और निकिता जैकब को देश द्रोही साबित करने पर तुली है। उनका कहना था कि दिशा रवि और जैकब मेधावी विद्यार्थी हैं। उन पर लांछन गलत है।

Next Stories
1 रेल रोको अभियान से क्या साबित करना चाहते हैं? एंकर के सवाल पर BKU नेता ने दिया यह जवाब…
2 टूलकिट केस: दिशा रवि की गिरफ्तारी पर महिला आयोग की दिल्ली पुलिस को नोटिस, पूछा- मनपसंद वकील क्यों नहीं मिला?
3 कृषि कानूनः ब्रिटिश MP ने किसान आंदोलन का किया समर्थन, भारतीय उच्चायोग ने लिखा खुला खत
आज का राशिफल
X