ताज़ा खबर
 

गवाह कृपाल को खरीदने की कोशिश की थी आसाराम ने, ऑडियो क्लिप आया सामने

शाहजहांपुर पुलिस को विवादित आसाराम बापू और जोधपुर बलात्कार कांड के गवाह कृपाल सिंह (अब मृत) के बीच हुई बातचीत का एक चौंकाने वाला टैप मिला है...

Author July 21, 2015 9:21 AM
कृपाल सिंह आसाराम प्रकरण में कथित रूप से पीड़ित किशोरी के पिता का सहकर्मी है और वह कभी आसाराम का विश्वासपात्र था।

शाहजहांपुर पुलिस को विवादित आसाराम बापू और जोधपुर बलात्कार कांड के गवाह कृपाल सिंह (अब मृत) के बीच हुई बातचीत का एक चौंकाने वाला टैप मिला है। इस टैप में आसाराम गवाह को मुंह बंद रखने को कह रहा है। टैप में दावा किया गया है कि जेल से बापू ने इस गवाह को खरीदने की कोशिश की थी। दस जुलाई को शाहजहांपुर में गवाह कृपाल सिंह पर हमला हुआ था और अगले दिन बरेली के अस्पताल में उसकी मौत हो गई। कृपाल सिंह के परिजनों ने आरोप लगाया था कि यह हत्या बापू के गुर्गों ने की है और इस मामले की गहन जांच होना चाहिए।

शाहजहांपुर के पुलिस कप्तान बबलू कुमार ने इस बात की पुष्टि की है कि बलात्कार की शिकार लड़की के पिता ने टैप की यह आडियो क्लिप ने उन्हें दी है। टैप की सत्यता जांचने के लिए इसे जांच अधिकारी को सौंप दिया गया है। उन्होंने कहा कि अगर जरूरी पाया गया तो इस टैप को जांच का हिस्सा बनाया जाएगा। उन्होंने कहा कि इस टैप की आवाज को आसाराम की पहले रेकार्ड हुई आवाज से मिलाया जाएगा। पीड़ित लड़की के पिता का दावा है कि यह विवादास्पद बातचीत आठ माह पहले रेकार्ड की गई थी।

कृपाल सिंह ने दो माह पले जोधपुर की अदालत में अपना बयान दर्ज कराया था। लड़की के पिता का दावा है कि इस ऑडियो क्लिप में आसाराम गवाह कृपाल सिंह को धमकाने और ललचाने के अंदाज में कह रहा है कि उसे मोटी रकम मिलेगी..आधा पैसा एडवांस मिल जाएगा और बाकी काम होने के बाद दिया जाएगा।

गवाह से इस बातचीत के लिए आसाराम के दो गुर्गों राघव और संजय ने कोशिश की थी। इन लोगों ने ही आसाराम की कृपाल सिंह से बातचीत कराई थी। कृपाल सिंह के परिजनों का आरोप है कि राघव और संजय ने ही कृपाल सिंह की हत्या की है। पीड़ित
लड़की के पिता ने जनसत्ता को बताया कि कृपाल सिंह ने आसाराम और अपनी बातचीत को मोबाइल पर रेकार्ड कर लिया था। उन्होंने बताया कि आसाराम के ये दोनों गुर्गे

कृपाल सिंह के घर गए और उससे बोले कि आासराम उससे बात करना चाहते हैं संजय ने एक नंबर मिलाया और कृपाल ने मोबाइल पर सारी बातचीत को दर्ज कर लिया। इन लोगों को शायद मालूम नहीं था कि बापू का प्रलोभन टैप हो गया है। लड़की के पिता का दावा है कि कृपाल सिंह ने यह क्लिप उन्हें यह कहकर सौंपी थी कि बाद में यह सबूत के तौर पर काम आएगा। साथ ही यह साबित हो जाएगा कि कि आसाराम जेल में भी मोबाइल से लैस है।

यह पूछने पर कि आपने पहले यह क्लिप कोर्ट या पुलिस को क्यों नहीं सौंपी, उन्होंने कहा कि मुझे यह नहीं मालूम था कि बलात्कार कांड में इसे एक सबूत के तौर पर पेश किया जा सकता है। जब कृपाल सिंह की हत्या के बाद बरेली रेंज के डीआइजी मेरे घर आए तो मैंने अडियो क्लिप के बारे में उन्हें जानकारी दी। उन्होंने कहा कि इस टैप को पुलिस को सौंप दिया जाए ताकि अहम साक्ष्य के रूप में इसे पेश किया जाए।

लड़की के पिता ने आरोप लगया कि इस बातचीत में आसाराम कृपाल सिंह को कुछ हिदायत दे रहा है और कह रहा है कि उसका भविष्य सुधर सकता है। टैप में आसाराम कह रहा है, पचास टका काम होने से पहले देंगे और बाकी काम होने के बाद…।

लड़की के पिता का कहना है कि टैप में आवाज साफ नहीं है, पर इसमें कृपाल सिंह को यह कहते सुना जा सकता है -काम मुश्किल है, लेकिन वह इसे करने की कोशिश करेगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App