ताज़ा खबर
 

‘मजदूर पोहा नहीं सिर्फ हलवा खाएं तभी वे भारतीय कहे जाएंगे’, ओवैसी का बीजेपी नेता कैलाश विजयवर्गीय पर तंज

गुरुवार को बीजेपी नेता ने चौंकाने वाला खुलासा करते हुए कहा था कि उनके घर पर काम करने वाले कुछ मजदूर बांग्लादेश के निवासी मिले।

AIMIM चीफ असद्दुदीन ओवैसी। फोटो सोर्स: इंडियन एक्सप्रेस

एआईएमआईएम नेता असदुद्दीन ओवैसी ने कहा है कि “मजदूरों को पोहा नहीं खाना चाहिए। उन्हें केवल और केवल हलवा ही खाना चाहिए, तभी वे भारत के शहरी कहलाएंगे। अन्यथा वे ‘बाहरी’ माने जाएंगे। उम्मीद है कि ‘9 बजे के राष्ट्रवादी लोग’ इसे गलत नहीं कहेंगे।” उन्होंने ट्वीट कर कहा कि अगर वे पोहा खाएंगे तो वे परेशानी में पड़ सकते हैं। दरअसल उनका बयान बीजेपी नेता कैलाश विजयवर्गीय पर तंज था।

कांग्रेस नेता ने भी दी कड़ी प्रतिक्रिया: कांग्रेस नेता सुष्मिता देव ने भी इस पर बयान दिया और कहा कि “अगर भारतीय जनता पार्टी के एक वरिष्ठ नेता इस तरह का बयान कर सकते हैं कि कंस्ट्रक्शन लेबर क्या खाना खा रहे हैं, उस खाने को देखकर उनको लगता है कि वो घुसपैठिए हैं तो आप सोच सकते हैं कि अगर NPR हुआ तो आम जनता का क्या होगा।”

Hindi News Live Hindi Samachar 24 January 2020:देश-दुनिया की तमाम बड़ी खबरे पढ़ने के लिए यहां क्लिक करे

शिवसेना ने बयान को पोहा का अपमान बताया: विजयवर्गीय के बयान पर शिवसेना ने भी कड़ी प्रतिक्रिया जताई। पूछा कि आखिर पोहा खाने वाले बांग्लादेशी कैसे हैं? कहा कि पोहा पर बीजेपी नेता का बयान पोहा और पोहा खाने वालों का अपमान है। सोशल मीडिया पर कई लोगों ने इस पर कमेंट किए हैं। एक यूजर ने लिखा, ‘मैं नाश्ते में रोज पोहा खाता हूं। क्या मैं बांग्लादेशी हो गया।’ एक अन्य यूजर ने लिखा, ” मेरा कपड़ा साफ करने वाला बर्गर खा रहा था। तो क्या उसे अमेरिकन मान लिया जाए?”

बीजेपी नेता ने दावा किया था कि उनके घर संदिग्ध बांग्लादेशी मिले थे : गुरुवार को बीजेपी नेता ने एक चौंकाने वाला खुलासा करते हुए कहा था कि उनके घर पर काम करने वाले कुछ मजदूर बांग्लादेश के निवासी मिले। उन्होंने बताया था कि उनके छोटे बेटे का अगले महीने विवाह है। उसका कमरा मजदूर तैयार कर रहे थे। जब वह घर पहुंचे तो पांच-छह मजदूर एक ही थाली में पोहे खा रहे थे। बताया कि नौकर से पूछा तो उसने कहा कि ये सिर्फ पोहे ही खाते हैं।

कहा कि दूसरे दिन ही मजदूर काम बंद कर दिए थे: भाजपा महासचिव से इन संदिग्ध लोगों के बारे में सवाल किए जाने पर कहा, “मुझे शंका थी कि ये मजदूर बांग्लादेश के रहने वाले हैं। मुझे संदेह होने के दूसरे ही दिन उन्होंने मेरे घर काम करना बंद कर दिया था।” उन्होंने कहा, “मैंने पुलिस के सामने इस मामले में फिलहाल शिकायत दर्ज नहीं कराई है। मैंने तो केवल लोगों को सचेत करने के लिये उन मजदूरों का जिक्र किया था।”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

X
Next Stories
1 तमिलनाडु में तोड़ी पेरियार की मूर्ति, इलाके में तनाव; अभिनेता रजनीकांत के बयान पर विवाद
2 JNU Hostel Fee Hike: दिल्ली हाई कोर्ट ने की सुनवाई, विश्वविद्यालय, MHRD व UGC को भेजा नोटिस
3 अमित शाह समेत 503 सांसदों ने लोकसभा को नहीं दी ये जानकारी, RTI में खुलासा, बीजेपी से आगे कांग्रेस
ये पढ़ा क्या?
X