चुनाव से पहले ओवैसी का यूपी दौराः AIMIM चीफ के अयोध्या पहुंचने से पहले फैजाबाद वाले पोस्टर पर लगाई गई “काली पट्टी”

बहरहाल, पुलिस ने होर्डिंग में काली पट्टी लगाने के साथ ही कार्यक्रम को कोरोना प्रोटोकॉल के तहत करने के लिए कहा है।

AIMIM, UP, POSTER Row
एआईएमआईएम का वह पोस्टर जिसमें अयोध्या को फैजाबाद बताया गया है और पार्टी चीफ असदुद्दीन ओवैसी। (फाइल फोटोः AIMIM-टि्वटर/एक्सप्रेस-अनिल शर्मा)

उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव से पहले एआईएमआईएम चीफ असदुद्दीन ओवैसी मंगलवार से तीन दिनों के प्रदेश दौरे पर हैं। वह इसका आगाज प्रभु श्रीम राम की नगरी अयोध्या के रुदौली से करेंगे। हालांकि, उनके वहां से पहुंचने से पहले ही पार्टी के कार्यक्रम से जुड़े उस पोस्टर पर विवाद हो गया, जिसमें अयोध्या (अब सरकारी रिकॉर्ड में) को फैजाबाद (जनपद का पुराना नाम) बता दिया गया था। रुदौली में जहां-जहां पुलिस को ऐसे पोस्टर नजर आए, उनमें फैजाबाद लिखी जगह पर काली पट्टी लगाने के निर्देश दिए गए।

स्टीकर, काली पट्टी से ढंका गया फैजाबाद का नामः हिंदी समाचर चैनल ABP News की रिपोर्ट् के मुताबिक, पुलिस ने 271 विधानसभा रुदौली में एआईएमआईएम के ये वाले पोस्टर हटवाने के लिए कहा। बताया गया कि पुलिस ने कुछ जगह इन पोस्टरों और होर्डिंगों को हटाने के निर्देश भी दिए गए थे, पर पार्टी कार्यकर्ताओं की ओर से तर्क दिए जाने के बाद उस पर (फैजाबाद लिखे हिस्से को) काली पट्टी और कुछ स्टीकर्स लगाने के लिए कहा गया।

संतों ने AIMIM के पोस्टरों पर दी थी चेतावनीः ओवैसी की रुदौली में दोपहर एक बजे जन सभा है। दरअसल, एआईएमआईएम के इन पोस्टर्स को लेकर पहले भी संत समाज ने पहले ही चेताया था कि जब जिले का नाम बदला जा चुका है, तब होर्डिंग में नाम गलत क्यों लिखा गया है? यह सीएम का अपमान है। संतों और अन्य की ओर से साफ चेतावनी दी गई थी कि अगर फैजाबाद की जगह नाम को दुरुस्त कर के अयोध्या न किया गया, तो वे अयोध्या में ओवैसी का कार्यक्रम नहीं होने देंगे।

अतिरिक्त कुर्सियां हटाने को भी बोली पुलिसः बहरहाल, पुलिस ने होर्डिंग में काली पट्टी लगाने के साथ ही कार्यक्रम को कोरोना प्रोटोकॉल के तहत करने के लिए कहा है। दरअसल, कोरोना नियमों के तहत वहां सिर्फ 50 लोगों को ही बैठने की इजाजत है, पर कार्यक्रम की तैयारियों के दौरान वहां अतिरिक्त कुर्सियां देखी गईं। पुलिस ने उन्हें फौरन हटाने के लिए कहा।

धोखेबाज हैं ओवैसी, मुस्लिम सावधान- अंसारीः ओवैसी का यह दौरा इसलिए अहम माना जा रहा है, क्योंकि उनकी नजर यूपी के चुनावों पर हैं। हालांकि, उनके वहां जाने से पहले ही वह और उनकी पार्टी विवादों में घिर गई। अयोध्या विवाद में पूर्व पक्षकार इकबाल अंसारी ने कहा राम की नगरी में ओवैसी की आवश्यकता नहीं है। उन्होंने पत्रकारों को बताया कि ओवैसी धोखेबाज हैं। वह मुसलमानों को दगा देते हैं, लिहाजा हिंदुस्तान के मुस्लिमों को उनसे बहुत सावधान रहना चाहिए।

पढें राष्ट्रीय समाचार (National News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट