आर्यन खान को नहीं मिली बेल, कोर्ट ने न्यायिक हिरासत में भेजा, रहना होगा आर्थर रोड जेल की क्वारंटीन सेल में

कोर्ट ने उसे न्यायिक हिरासत में भेजने का आदेश सुनाया। उधर, मुंबई की आर्थर जेल की अथॉरिटी ने आर्यन को 3 से 5 दिनों तक क्वारंटीन करने कही है। उसे इस दौरान एक अलग सेल में रखा जाएगा।

Mumbai, Aryan Khan, NCB custody till 7, Satish Manshinde, Mumbai Court
शाहरुख के बेटे आर्यन समेत तीनों आरोपियों को 7 तक हिरासत में भेजा गया। (फोटोः ट्विटर@SanskarBarot)

सुपरस्टार शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान की जमानत की अर्जी मुंबई की एक अदालत ने खारिज कर दी है। हालांकि, एनसीबी ने आर्यन का फिर से रिमांड मांगा था, लेकिन कोर्ट ने कहा कि पूछताछ के लिए जो रिमांड दिया गया वो काफी है। लेकिन दूसरी तरफ कोर्ट ने आर्यन के वकील की वह अपील भी खारिज कर दी जिसमें उन्होंने सुपरस्टार के बेटे के लिए जमानत की मांग की थी। कोर्ट ने उसे न्यायिक हिरासत में भेजने का आदेश सुनाया। उधर, मुंबई की आर्थर जेल की अथॉरिटी ने आर्यन को 3 से 5 दिनों तक क्वारंटीन करने कही है। उसे इस दौरान एक अलग सेल में रखा जाएगा।

आर्यन खान के वकील सतीश मानशिंदे ने आज कोर्ट में अपने मुवक्किल को जमानत पर छोड़े जाने की अपील की। उन्होंने अदालत में कहा कि आर्यन को गोवा जाने वाले क्रूज पर हुई पार्टी में ग्लैमर का तड़का लगाने के लिए बुलाया गया था। उन्होंने कहा कि उनके मुवक्किल का आयोजकों से कोई संबंध नहीं है। एनसीबी की रिमांड बढ़ाने की याचिका का विरोध करते हुए मानशिंदे ने कहा कि उनके क्लाइंट का किसी अन्य आरोपी से कोई संबंध नहीं है।

मानशिंदे ने कहा कि आर्यन क्रूज पर सवार किसी अन्य व्यक्ति किसी भी तरह से नहीं जुड़ा है। हालांकि उन्होंने स्वीकार किया कि आर्यन अरबाज मर्चेंट को जानते थे। वकील ने माना कि मर्चेंट आर्यन का दोस्त है। लेकिन केवल एक व्यक्ति से संबंध ही उन्हें हिरासत में रखने के लिए पर्याप्त नहीं है। उन्होंने कहा कि एनसीबी ने रिमांड में रखकर लगातार उनसे पूछताछ की है। जो कुछ भी उनसे पता किया जाना था वह मालूम हो चुका है। लिहाजा उसे अब जमानत पर रिहा किया जाए।

उधर, एनसीबी की तरफ से पेश अधिवक्ता ने दलील दी कि ये मामला हाईप्रोफाइल है। इसमें अभी भी पता करना बाकी है कि ड्रग्स खरीद की चेन कहां से जुड़ी थी। आरोपियों से पूछताछ में ही इसका पता लगाया जा सकता है। एनसीबी ने कहा कि आरोपियों से इंटेरोगेशन में कुछ अहम चीजें हाथ लगी हैं लेकिन इनकी और ज्यादा तह में जाने की जरूरत है।

चीफ मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट आरएम नेर्लिकर ने दोनों पक्षों की दलील सुनने के बाद फैसला किया कि आरोपियों को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा जाए। उन्होंने एनसीबी की याचिका को खारिज करते हुए कहा कि पूछताछ के लिए जो रिमांड दिया गया था, उन्हें नहीं लगता कि उसमें इजाफा करने के कुछ और हासिल हो सकेगा। दूसरी तरफ आर्यन के वकील की बेल एप्लीकेशन को भी उन्होंने खारिज कर दिया।

कोर्ट का मानना था कि मामला संगीन है। अभी बेल देना ठीक नहीं है। एनसीबी ने रविवार को आर्यन को अरबाज मर्चेंट और मुनमुन धमेचा के साथ गिरफ्तार किया था। अगले दिन नूपुर सतीजा, इश्मीत चड्ढा, मोहक जायसवाल, गोमित चोपड़ा और विक्रांत छोकर को गिरफ्तार किया गया था।

पढें राष्ट्रीय समाचार (National News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट