ताज़ा खबर
 

‘हम 27 हैं, वो 93 हैं, हमारा एक-एक आदमी BJP पर भारी पड़ेगा’ सूरत में केजरीवाल ने ललकारा

आम आदमी पार्टी संयोजक अरविंद केजरीवाल ने अपनी पार्टी को सूरत नगर निगम चुनाव में 27 सीटों पर जीत मिलने के लिए सूरत के लोगों को धन्यवाद दिया।

surat, gujaratदिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (ANI)।

आम आदमी पार्टी संयोजक अरविंद केजरीवाल ने अपनी पार्टी को सूरत नगर निगम चुनाव में 27 सीटों पर जीत मिलने के लिए सूरत के लोगों को धन्यवाद दिया। सूरत नगर निगम चुनाव नतीजों में AAP की गुजरात की राजनीति में जबरदस्त एंट्री हुई है। पार्टी को सूरत नगर निगम की 27 सीटों पर जीत हासिल हुई है। सत्तारूढ़ भाजपा ने गुजरात में छह नगर निगमों में 576 सीटों में से 483 सीटों पर जीत हासिल की है।

सूरत नगर निगम में, भाजपा ने 120 में से 93 सीटें जीतकर सत्ता में खुद को बरकरार रखा है, लेकिन बाकी सीटें AAP ने जीतीं हैं। पिछली बार हुए चुनाव में 36 सीटें जीतने वाली कांग्रेस शून्य पर सिमट गई है और उसकी जगह अरविंद केजरीवाल की पार्टी ने ले ली है और मुख्य विपक्ष बन गई है। केजरीवाल ने आज समर्थकों से कहा, “अगर वे 93 हैं तो हम 27 हैं। नंबर मायने नहीं रखते हैं। हमारी पार्टी में हर आदमी 10 के बराबर है। सूरत के लोगों ने आपको विपक्ष की भूमिका दी है। उन्हें (BJP) कुछ भी गलत न करने दें।”’

अपने रोड शो से पहले नवनिर्वाचित पार्षदों से बात करते हुए, दिल्ली के मुख्यमंत्री ने उनसे कार्यालय खोलने, लोगों को अपना फोन नंबर देने और जरूरत पड़ने पर रात के 2 बजे भी मदद करने के लिए तैयार रहने का आग्रह किया।

उन्होंने कहा, “जनता सब कुछ सहन कर सकती है लेकिन वे अपमान या अहंकार नहीं सह सकती। हमें कभी भी किसी को अपमानित नहीं करना चाहिए जो हमारे पास मदद के लिए आता है।”

मालूम हो कि AAP ने पहली बार गुजरात नगर निगम चुनाव लड़ते हुए 470 उम्मीदवार उतारे थे।पार्टी को चुनाव में पाटीदार अनामत आंदोलन समिति (पीएएएस) से समर्थन मिला है। ये समिति पटेल समुदाय के लिए कोटे के लिए आंदोलन कर रही है। इस संगठन का नेतृत्व कभी हार्दिक पटेल कर रहे थे, जो अब गुजरात कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष हैं।

2015 में कोटा आंदोलन द्वारा बनाई गई भाजपा विरोधी लहर पर सवार होकर कांग्रेस ने पिछले निकाय चुनावों में सूरत के पाटीदार बहुल इलाकों में 36 सीटें जीतने में कामयाबी हासिल की थी। 2017 के गुजरात चुनाव में, अरविंद केजरीवाल के प्रचार के बावजूद AAP कोई भी सीट जीतने में असफल रही थी।

AAP के गुजरात प्रमुख, गोपाल इटालिया ने कहा कि उनकी पार्टी अब खुद को गुजरात में एक नए विकल्प के रूप में पेश करेगी और शुरुआत सूरत से की जाएगी।

Next Stories
1 मुकेश अंबानी के घर के बाहर मिली SUV के मालिक की हुई पहचान, कहा- चोरी हो गई थी गाड़ी
2 भाजपा ने मुसलमान को बनाया जमाई राजा, पैनलिस्ट ने की टिप्पणी तो ऐंकर बोले- इनका फेडर डाउन करो
3 हिमाचल के गवर्नर के साथ हाथापाई, नेता प्रतिपक्ष के साथ चार विधायक सस्पेंड
ये पढ़ा क्या?
X