ताज़ा खबर
 

Delhi Election 2020: योगी आदित्यनाथ का दिल्ली सीएम पर निशाना, बोले- केजरीवाल देश विरोधी तत्वों के हाथों का खिलौना बन गए हैं

पश्चिम दिल्ली के विकासपुरी में एक रैली को संबोधित करते हुए आदित्यनाथ ने कहा कि केजरीवाल को स्वच्छ पेयजल मुहैया कराने जैसे मूल मुद्दे की परवाह नहीं है बल्कि उन्हें संशोधित नागरिकता कानून के खिलाफ प्रदर्शन का केंद्र बने शाहीन बाग की चिंता है।

उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ ने अरविंद केजरीवाल पर निशाना साधा है।(फोटो-PTI)

दिल्ली विधानसभा चुनाव 2020 को लेकर राजधानी दिल्ली में एक रैली के दौरान उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ ने आम आदमी पार्टी के प्रमुख और दिल्ली सीएम अरविंद केजरीवाल पर जमकर निशाना साधा। सीाएम योगी ने सोमवार को आरोप लगाया कि दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ‘‘असामाजिक और भारत विरोधी तत्वों के हाथों का खिलौना’ बन गए हैं।

पश्चिम दिल्ली के विकासपुरी में एक रैली को संबोधित करते हुए आदित्यनाथ ने कहा कि केजरीवाल को स्वच्छ पेयजल मुहैया कराने जैसे मूल मुद्दे की परवाह नहीं है बल्कि उन्हें संशोधित नागरिकता कानून के खिलाफ प्रदर्शन का केंद्र बने शाहीन बाग की चिंता है।
पश्चिमी दिल्ली के उत्तम नगर में एक अन्य रैली में आदित्यनाथ ने कहा कि पिछले पांच साल से केजरीवाल दिल्ली के लोगों की भावनाओं के साथ खेल रहे हैं ।

आदित्यनाथ ने कहा, ‘‘ उन्होंने दिल्ली के विकास को बाधित किया है। जाने -अनजाने वह असामाजिक और भारत विरोधी तत्वों के हाथों का खिलौना बन गए हैं।’’ उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री ने जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) में देश विरोधी नारेबाजी करने वालों के साथ ‘‘सहानुभूति’’ रखने के लिए केजरीवाल की आलोचना की।

(भाषा इनपुट्स के साथ)

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App। जनसत्‍ता टेलीग्राम पर भी है, जुड़ने के ल‍िए क्‍ल‍िक करें।

Next Stories
1 घोड़ी पर बैठने के लिए दलित दूल्हे ने पुलिस से मांगी मदद, शादी समारोह लेकर तनाव की आशंका के मद्देनजर मांगी लगाई गुहार
2 CAA विवादः शाहीन बाग पर PM मोदी ने कहा- ये प्रदर्शन संयोग नहीं प्रयोग है, ये कोर्ट की भी नहीं मानते; सिखा रहे संविधान
3 Delhi Elections: अरविंद केजरीवाल पर PM नरेंद्र मोदी का वार- दिल्ली ने बता दिया है कि वह क्या सोचती है, अभी भी लोकपाल का इंतजार
ये पढ़ा क्या?
X