ताज़ा खबर
 

शासन आम आदमी पार्टी के एजेंडा में नहीं है: जेटली

केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने उपराज्यपाल नजीब जंग के साथ बढ़ते विवाद को लेकर आप सरकार पर आज धावा बोलते हुए कहा कि ‘शासन आम आदमी पार्टी के एजेंडा में नहीं है’...

Author May 19, 2015 21:27 pm
वित्त मंत्री अरूण जेटली ने आज कहा कि आप के साथ लोगों का प्रयोग ‘काफी महंगा’ पड़ गया है

केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने उपराज्यपाल नजीब जंग के साथ बढ़ते विवाद को लेकर आप सरकार पर आज धावा बोलते हुए कहा कि ‘शासन आम आदमी पार्टी के एजेंडा में नहीं है’ और पार्टी के साथ लोगों का प्रयोग ‘बेहद महंगा’ पड़ रहा है।

जेटली ने कहा कि विधानसभा चुनाव में मिले ‘ऐतिहासिक जनादेश’ के मद्देनजर आप सरकार को दिल्ली की जनता के प्रति अपनी जिम्मेदारियों को समझना चाहिए। जेटली ने कहा, ‘‘दिल्ली की जनता ने चुनाव में नयी पार्टी के साथ प्रयोग किया लेकिन यह बेहद महंगा प्रयोग है क्योंकि शासन उनके राजनैतिक एजेंडा में नहीं है।’’ वह दिल्ली भाजपा की कार्यकारिणी समिति की बैठक को संबोधित कर रहे थे।

आप ने जेटली पर पलटवार करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के भाजपा नेता को वित्त मंत्रालय आवंटित करने के प्रयोग से देश पीड़ित है। जेटली पर निशाना साधते हुए आप के वरिष्ठ नेता आशुतोष ने कहा कि जो व्यक्ति अमृतसर में बुरी तरह हार गया था उसे दिल्ली के बारे में चिंतित नहीं होना चाहिए क्योंकि वे नगर-राज्य को नहीं समझेंगे।

जेटली के अमृतसर में कांग्रेस के कैप्टन अमरिंदर सिंह से हार जाने का उल्लेख करते हुए आशुतोष ने कहा, ‘‘देश प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा उन्हें (जेटली को) वित्त मंत्री बनाए जाने के प्रयोग से पीड़ित है, जो अमृतसर में बुरी तरह चुनाव हार गए थे।’’

आप नेता ने कहा कि भाजपा दिल्ली को समझने में विफल रही है और आने वाले वर्षों में यह राष्ट्रीय राजधानी से गायब हो जाएगी। आप सरकार से संबंधित विभिन्न विवादों का उल्लेख करते हुए जेटली ने कहा कि दिल्ली के लोग शासन चाहते हैं और सत्तारूढ़ सरकार को इसे अवश्य समझना चाहिए।

जेटली ने कहा, ‘‘विगत कुछ महीने में दिल्ली में जो कुछ भी हो रहा है ऐसा लगता है कि आने वाले दिन दुखदायी होंगे। आप सरकार भारी जनादेश के बाद आई। उन्हें अपनी जिम्मेदारियों को समझना चाहिए। लोग शासन चाहते हैं, न कि विवाद। इसलिए उन्हें अपनी जिम्मेदारियों को समझना चाहिए और लोगों की अपेक्षाओं को पूरा करना चाहिए।’’

जेटली ने कहा कि दिल्ली को वैश्विक शहर में तब्दील किया जा सकता था क्योंकि इसमें व्यापार और पर्यटन के लिए काफी अवसर है। शकुंतला गैमलिन को दिल्ली का कार्यवाहक मुख्य सचिव नियुक्त किये जाने को लेकर टकराव सत्तारूढ़ आप और जंग के बीच पूरी लड़ाई में तब्दील हो चुका है। केजरीवाल ने आरोप लगाया कि उपराज्यपाल प्रशासन का नियंत्रण अपने हाथों में लेना चाह रहे हैं।

केजरीवाल के जोरदार विरोध के बावजूद जंग ने शुक्रवार को गैमलिन को कार्यवाहक मुख्य सचिव के पद पर नियुक्त किया था। उपराज्यपाल ने अपने रुख को कड़ा कर लिया है। उनका कहना है कि वरिष्ठ नौकरशाहों के तबादले और पदस्थापना के मामले में वह मुख्य प्राधिकार हैं। भाजपा आप सरकार की गंभीर आलोचक रही है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App