ताज़ा खबर
 

नरेंद्र मोदी सरकार के एक और मंत्री पर घोटाले का आरोप, बीजेपी बोली- जांच का सामना करने को तैयार

रोज वैली चिटफंड मामले में सीबीआई की ओर से गिरफ्तार किए गए तृणमूल कांग्रेस सांसद तापस पॉल ने इस केस में केंद्रीय मंत्री और भाजपा सांसद बाबुल सुप्रियो का नाम भी घसीटा है।

Author January 3, 2017 10:27 AM
रोज वैली चिटफंड मामले में सीबीआई की ओर से गिरफ्तार किए गए तृणमूल कांग्रेस सांसद तापस पॉल ने इस केस में केंद्रीय मंत्री और भाजपा सांसद बाबुल सुप्रियो का नाम भी घसीटा है।

रोज वैली चिटफंड मामले में सीबीआई की ओर से गिरफ्तार किए गए तृणमूल कांग्रेस सांसद तापस पॉल ने इस केस में केंद्रीय मंत्री और भाजपा सांसद बाबुल सुप्रियो का नाम भी घसीटा है। पॉल को तीन दिन की रिमांड पर भेज दिया गया। उन्‍होंने पत्रकारों से कहा, ”मैं निर्दोष हूं। मैं किसी भी तरह से घोटाले में शामिल नहीं हूं और जल्‍द ही सच सामने आ जाएगा। मैंने बाबुल सुप्रियो और अन्‍य लोगों के बारे में सीबीआई को बताया है। सच सामने आएगा।” उन्‍हें 30 दिसंबर को कोलकाता से गिरफ्तार किया गया था इसके बाद भुवनेश्‍वर ले जाया गया।

बाबुल सुप्रियो का नाम लिए जाने को भाजपा के सचिव सुरेश पुजारी ने बेबुनियाद बताया है। पुजारी ने कहा, ”यह दावा करना कि सुप्रियो ने उन्‍हें घोटाले में धकेला इसके जरिए पॉल ने मामले में अपने शामिल होने की बात कबूल ली।” हालांकि भाजपा की ओर से कहा गया कि वे जांच के लिए तैयार है। पॉल ने कहा कि उन्‍होंने कोई गड़बड़ी नहीं की है। उन पर आरोप है कि उन्‍होंने कंपनी का प्रचार किया और लोगों को पैसा जमा कराने के लिए गुमराह किया। उन पर अपने परिवार के लोगों को कंपनी में बड़े पद देने का आरोप भी है। वे रोज वैली कंपनी में डायरेक्‍टर के पद पर थे। सीबीआई की ओर से दाखिल की गई चार्जशीट में कहा गया था कि कंपनी ने निवेशकों के 17 हजार करोड़ रुपये डुबो दिए। रोज वैली कंपनी ओडिशा में सक्रिय थी और यहां के लोगों के 450 करोड़ रुपये डूब गए।

वहीं बाबुल सुप्रिया ने कहा कि वे तापस पॉल के खिलाफ मानहानि का केस करने की सोच रहे हैं। उन्‍होंने कहा, ”मैं अपने वकीलों से बात कर रहा हूं ताकि तापस पॉल के खिलाफ मेरी छवि को खराब करने की कोशिश का केस दर्ज किया जा सके। कोई व्‍यक्ति जो सीबीआई की कस्‍टडी में है वह किसी और का नाम कैसे ले सकता है।” उन्‍होंने कहा कि तृणमूल कांग्रेस पार्टी पॉल को उनका नाम लेने के लिए मजबूर कर रही है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

X