ताज़ा खबर
 

आंध्र प्रदेशः राजधानी के फॉर्म्युले पर चर्चा को विधानसभा का विशेष सत्र, पर पहले ही हिरासत में ले लिए गए 800 नेता

पुलिस ने टीडीपी नेताओं और किसानों को विधानसभा के आसपास किसी भी तरह के प्रदर्शन की इजाजत नहीं दी है और वहां धारा 144 भी लगा दी गई है।

आंध्र प्रदेश में 3 दिनों का विशेष सत्र बुलाया गया है। फोटो सोर्स – ANI

आंध्र प्रदेश विधानसभा का तीन दिवसीय विशेष सत्र सोमवार से शुरू हुआ। आंध्र प्रदेश में विधानसभा ने सोमवार (20 जनवरी) को एक प्रस्ताव पास कर राज्य में तीन राजधानियां बनाने को मंजूरी दी है। इस प्रस्ताव के मुताबिक विशाखापटनम, कुरनूल और अमरावती अब प्रदेश की तीन राजधानियां होंगी। राज्य सरकार इस सत्र में विशाखापत्तनम को राज्य की प्रशासनिक राजधानी बनाने के लिए भी बिल लाएगी। राज्य की जगन मोहन सरकार के इस फैसले का यहां विपक्षी पार्टियां पुरजोर विरोध भी कर रही हैं। अमरावती ज्वायंट एक्शन कमेटी, टीडीपी और दूसरी विपक्षी पार्टियों ने सोमवार को ‘चलो विधानसभा’ रैली का आयोजन किया है। विशेष सत्र से पहले ही यहां 800 नेताओं को हिरासत में लिया गया है।

विपक्षी पार्टियों के इस विरोध प्रदर्शन को देखते हुए अमरावती को पुलिस छावनी में तब्दील कर दिया गया है। पुलिस ने यहां जानकारी दी है कि 57 टीडीपी नेताओं को विजयवाड़ा, गुंटूर और अमरावती में हाउस अरेस्ट किया गया है। टीडीपी, सीपीआई और अमरावती जेएसी के करीब 800 नेताओं को हिरासत में लिया गया है। साउथ कोस्टल जोनल-गुंटूर रेंज के इंस्पेक्टर जनरल ऑफ पुलिस विनीत बृजलाल ने मीडिया को जानकारी दी है कि सभी एसपी और अन्य अधिकारियों को निर्देश दिया गया कि विधानसभा सत्र के दौरान किसी तरह की अव्यवस्था ना हो इसके लिए वो हर जरूरी कदम उठाएं।

पुलिस ने टीडीपी नेताओं और किसानों को विधानसभा के आसपास किसी भी तरह के प्रदर्शन की इजाजत नहीं दी है और वहां धारा 144 भी लगा दी गई है। शांति व्यवस्था बनाए रखने और किसी भी तरह की आपातकालीन स्थिति से निपटने के लिए डॉग स्कवायड, बम निरोधक दस्ता, इंटेलिजेंस सिक्यूरिटी विंग, ऑक्टोपस टीम सहित सुरक्षा बलों की कई टीमों को तैनात किया गया है। प्रदर्शनकारियों पर नजर बनाए रखने के लिए ड्रोन की मदद भी ली जा रही है।

इधर पूर्व मुख्यमंत्री और टीडीपी अध्यक्ष एन चंद्रबाबू नायडू ने नेताओं को हाउस अरेस्ट किये जाने का विरोध किया है। पूर्व सीएम ने गिरफ्तार किये गये नेताओं की रिहाई की मांग करते हुए इसे क्रूरतापूर्ण कार्रवाई कहा है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
ये पढ़ा क्या?
X