ताज़ा खबर
 

सर्वे: हाईकोर्ट के 50 और सुप्रीम कोर्ट के 33% जज चंद घरानों के बेटे-भतीजे, भारत में ज्यूडिशरी का हाल

मुंबई के एक वकील की रिसर्च में दावा है कि न्यायपालिका में उच्च पदस्थ लोगों के परिवार वाले बड़ी संख्या में हाईकोर्ट-सुप्रीम कोर्ट में जज।

तस्वीर का इस्तेमाल केवल प्रतीकात्मक रूप से किया गया है। (Photo: ANI)

देश की सर्वोच्च न्यायालय में 33 फीसदी जज और हाईकोर्ट के 50% जज ऐसे हैं, जिनके परिवार के सदस्य पहले ही न्यायपालिका में उच्च पदों पर रह चुके हैं। यह बात सामने आई है मुंबई के एक वकील मैथ्यूज जे नेदुमपारा की रिसर्च में। दरअसल, नेदुमपारा वही वकील हैं, जिन्होंने सुप्रीम कोर्ट में नेशनल ज्यूडिशियल अपॉइंटमेंट कमीशन (NJAC) एक्ट को चुनौती देते हुए याचिका लगाई है। उन्होंने अपनी यह रिपोर्ट सुप्रीम कोर्ट की 5 जजों की संवैधानिक पीठ को सौंपी है। नेदुमपारा के मुताबिक, यह व्यवस्था कोलेजियम सिस्टम की वजह से पैदा हुई है, जिसमें जज ही दूसरे जजों को नियुक्त करते थे।

नेदुमपारा ने हिंदुस्तान टाइम्स को बताया कि सुप्रीम कोर्ट के 1990 के कुछ फैसलों से कॉलेजियम सिस्टम बना, जिससे उच्च न्याय संस्थानों में नियुक्तियां मनमर्जी से होने लगीं, जहां सुप्रीम कोर्ट, हाईकोर्ट के पूर्व और सिटिंग जज, गवर्नर, मुख्यमंत्रियों, कानून मंत्री, बड़े वकील और रसूखदार लोगों का फेवर किया जाता है।

रिपोर्ट के मुताबिक, सुप्रीम कोर्ट में मौजूदा समय में 31 जज हैं। इनमें से 6 जज पूर्व जजों के बेटे हैं। रिपोर्ट में 13 हाईकोर्ट के 88 जजों की नियुक्तियों की जानकारी है, जो या तो किसी वकील, जज या न्यायपालिका से ही जुड़े किसी व्यक्ति के परिवारवाले हैं।


नेदुमपारा का दावा है कि उनकी जानकारी का स्रोत सुप्रीम कोर्ट की आधिकारिक वेबसाइट और 13 हाईकोर्ट के सितंबर-अक्टूबर 2014 तक के डेटा पर आधारित हैं। उन्होंने कहा कि बाकी हाईकोर्ट्स का तुलनात्मक डेटा मौजूद ही नहीं था।

उन्होंने कहा कि कॉलेजियम सिस्टम गुप्त तरीके से काम करता है, जहां उच्च न्यायापालिकाओं में खाली पदों का नोटिफिकेशन ही नहीं निकलता, न ही इनका एडवर्टाइजमेंट होता है। गौरतलब है कि इसी बुधवार को सुप्रीम कोर्ट बार एसोसिएशन की तरफ से पेश हुए वकील दुष्यंत दवे ने कॉलेजियम सिस्टम पर हमला करते हुए कहा था कि इसमें मेरिट को नजरअंदाज किया जाता है और ऐसे जज नियुक्त होते हैं, जो ऊंचे और बड़े लोगों को राहत देते हैं और आम आदमियों के मामलों में नाकाम होते हैं।

Next Stories
1 Cox and Kings Part 3: जाली बैंक स्टेटमेंट बना विदेशी बैंकों से भी लिया मोटा लोन, सालभर बाद ही खुद को घोषित कर दिया दिवालिया
2 Weather Forecast: पंजाब-हरियाणा-दिल्ली-एनसीआर में बारिश का पूर्वानुमान, हिमाचल और उत्तराखंड में भी होगी बारिश
3 ‘ये मुंबई पुलिस का कमाल है’, वरिष्ठ पत्रकार रजत शर्मा ने की तब्लीगी जमात की तारीफ तो ट्रोल्स मार रहे ताने
ये पढ़ा क्या?
X