ताज़ा खबर
 

Aarogya Setu में आया ये नया फीचर, किसे क्या मिलेगा लाभ? जानिए

Aarogya Setu India COVID-19 Tracker App: ओपन एपीआई (एप्लिकेशन प्रोग्राम इंटरफेस) सर्विस के जरिये संगठन आरोग्य सेतु की स्थिति का पता लगा सकेंगे और इसे अपने विभिन्न घर से काम (वर्क फ्रॉम होम) के फीचर्स से एकीकृत कर सकेंगे।

Arogya Setu App, Arogya Setu,Aarogya Setu App में एक नया फीचर जोड़ा गया है। (फोटो- आरोग्य सेतु ऐप)

Aarogya Setu India COVID-19 Tracker App: आरोग्य सेतु ऐप में एक नया ‘फीचर’ जोड़ा गया है, जिसके जरिये संगठनों को अपने कर्मचारियों तथा अन्य प्रयोगकर्ताओं के स्वास्थ्य की जानकारी बिना उनकी निजता का उल्लंघन किए मिल सकेगी। शनिवार को जारी एक आधिकारिक बयान में यह जानकारी दी गई। बयान में कहा गया है कि आरोग्य सेतु दुनिया में इस तरह की सबसे ज्यादा डाउनलोड की गई ऐप है। अब इसके प्रयोगकर्ताओं की संख्या 15 करोड़ को पार कर गई है। इस नए फीचर ‘ओपन एपीआई सर्विस’ से लोगों, कंपनियों तथा अर्थव्यवस्था को सामान्य स्थिति में लौटने में मदद मिलेगी।

इसका मकसद कोविड-19 के भय और जोखिम को कम करना है। इस सेवा का लाभ देश में पंजीकृत ऐसे संगठन और कंपनियां ले सकेंगी जिनके कर्मचारियों की संख्या 50 से ज्यादा है। बयान में कहा गया है कि कंपनियां अपने कर्मचारियों या किसी अन्य आरोग्य सेतु के प्रयोगकर्ता के स्वास्थ्य की जानकारी ले सकेंगी। इसके लिए संबंधित व्यक्ति की ओर से उसके स्वास्थ्य की जानकारी इकाई से साझा करने की सहमति लेनी होगी। इलेक्ट्रॉनिक्स एवं सूचना-प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने बयान में कहा, ‘‘यह फीचर कंपनियों तथा अर्थव्यवस्था को सुरक्षित तरीके से कामकाज की सुविधा प्रदान करेगा।

ओपन एपीआई (एप्लिकेशन प्रोग्राम इंटरफेस) सर्विस के जरिये संगठन आरोग्य सेतु की स्थिति का पता लगा सकेंगे और इसे अपने विभिन्न घर से काम (वर्क फ्रॉम होम) के फीचर्स से एकीकृत कर सकेंगे। बयान में कहा गया है कि ओपन एपीआई आरोग्य सेतु की स्थिति तथा आरोग्य सेतु प्रयोगकर्ता का नाम सिर्फ उनकी सहमति से उपलब्ध कराएगा। बयान में स्पष्ट किया किया है कि एपीआई के जरिये अन्य कोई निजी डेटा साझा नहीं किया जाएगा। इस नई सेवा के लिए पंजीकरण ओपनएपीआई.आरोग्यसेतु.जीओवी.इन पर किया जा सकेगा। आरोग्य सेतु ऐप को दो अप्रैल को शुरू किया गया था।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 कनिमोझी ने फिर उठाया ‘हिंदी थोपने’ का मुद्दाः बेविनार में सचिव बोले थे- जिसे नहीं आती है हिंदी, वह जा सकता है; AYUSH मंत्री से की शिकायत
2 Delhi Riots पर किताब को लेकर पनपा विवाद, Bloomsbury India ने वापस लेने का लिया फैसला
3 बॉम्बे हाई कोर्ट बोला- तबलीगी जमात के चलते कोरोना फैलने के सबूत नहीं, बलि का बकरा बनाने की कोशिश
ये पढ़ा क्या?
X