ताज़ा खबर
 

अराजकता के सितारे…आपने कब हल चलाई है, बीच डिबेट में अर्नब गोस्वामी ने लगा दी पैनलिस्ट की क्लास

कांग्रेस प्रवक्ता को जवाब देते हुए अर्नब ने कहा, 'अराजकता के सितारे, शहरी नक्सलियों के समर्थक, माओवादियों के समर्थक आपने कब हल चलाई।'

रिपब्लिक टीवी के एडिटर इन चीफ अर्नब गोस्वामी।

रिपब्लिक भारत टीवी चैनल के कार्यक्रम ‘पूछता है भारत’ में डिबेट के दौरान जब एंकर अर्नब गोस्वानी ने कहा, ‘शाजिया इल्मी इन मौका परस्त लोगों को देखिए’ तो कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा कि शाजिया इल्मी तो खुद मौका परस्त हैं। प्रवक्ता को जवाब देते हुए अर्नब ने कहा, ‘अराजकता के सितारे, शहरी नक्सलियों के समर्थक, माओवादियों के समर्थक आपने कब हल चलाई। एंकर ने कांग्रेस प्रवक्ता से पूछा कि आपने कब हल चलाई और कब किसान नेता बने।’ इस पर कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा कि भले ही मैंने हल न चलाई हो लेकिन मैं किसानों का दुख दर्द समझता हूँ।

डिबेट में शाजिया इल्मी ने कहा कि क्यों कांग्रेस नहीं चाहती कि किसानों को एमएसपी से ज्यादा कीमत मिले।
बीजेपी प्रवक्ता शाजिया इल्मी ने कहा कि कांग्रेस नहीं चाहती कि किसानों को एमएसपी से ज्यादा बाजार के हिसाब से दाम मिले। कांग्रेस बिचौलियों को बचाने पर तुली हुई है।

बता दें कि पंजाब और दूसरे राज्यों से किसान दिल्ली की सीमा पर पहुंचे हुए हैं और विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। लगातार चल रहे किसानों के इस आंदोलन की लड़ाई सुप्रीम कोर्ट पहुंच चुकी है। गौरतलब है कि 20 दिन से ज्यादा वक्त से जहां किसान दिल्ली सीमा पर डटे हैं। वहीं अब सबकी नजर सुप्रीम कोर्ट की ओर है कि कोई समाधान निकले।

इससे पहले किसानों और केंद्र सरकार के बीच कई दौर की बातचीत चली थी लेकिन इसका कोई हल नहीं निकल सका था। कोर्ट समिति की मदद से सरकार और किसानों के बीच सुलह कराना चाहता है। कोर्ट का कहना है कि सरकार और किसानों को आपसी सहमति से समाधान निकालना चाहिए।

सुप्रीम कोर्ट ने जहां सरकार से जवाब मांगा है तो किसान संगठनों को भी सुनवाई के दौरान पक्षकार बनाया है। इस सबके बीच केंद्र सरकार ने देश में अलग-अलग जगह किसान सम्मेलन करने का फैसला किया है।

एक सम्मेलन में कृषि मंत्री तोमर ने फिर से दोहराया कि पंजाब के किसानों को गुमराह करने की कोशिश की जा रही है। किसानों के बीच भ्रम फैला कर उन्हें आंदोलित किया जा रहा है। बता दें कि इससे पहले पीएम मोदी ने भी किसानों को गुमराह किए जाने वाली बात कही थी।

Next Stories
1 भारत में COVAXIN के पहले चरण के परिणाम की आई रिपोर्ट, नहीं दिखे साइड इफेक्ट्स, WHO बोला- एशिया-प्रशांत में 2021 के मध्य तक मिलेगी वैक्सीन
2 किसान आंदोलन पर SC ने कहा-किसानों को है प्रदर्शन करने का अधिकार, CJI ने हरीश साल्वे की दलील पर दिया ये जवाब
3 कफील खान मामले में योगी सरकार को सुप्रीम कोर्ट से झटका, NSA हटाने के इलाहाबाद हाईकोर्ट के आदेश में हस्तक्षेप से किया इनकार
ये पढ़ा क्या?
X