ताज़ा खबर
 

पीएम को मिस्‍टर प्राइम मिनिस्‍टर कहना सही, राहुल से भी की थी नरमी से बात: अरनब गोस्‍वामी

अरनब ने कहा कि लोगों की छवि उनके किए गए कामों से बनती है, इस बात से नहीं कि उन्‍हें सोशल मीडिया पर कितनी बार निशाना बनाया जाता है।

narendra modi, subramanian swamy, times now, modi interview, narendra modi interview, modi times now interview, modi latest interview, modi interview video, times now modi interview इंटरव्यू में गोस्‍वामी ने तो एक बेहद नेक सलाह भी दे डाली थी , ‘आपको अपना सेंस ऑफ ह्यूमर नहीं खोना चाहिए श्रीमान प्रधानमंत्री जी।’

पीएम नरेंद्र मोदी के इंटरव्यू को लेकर सोशल मीडिया और कुछ आलोचकों के निशाने पर आए सीनियर जर्नलिस्‍ट अरनब गोस्‍वामी ने अपना पक्ष रखा है। उन्‍होंने विस्‍तार से उन सभी सवालों के जवाब दिए हैं, जो उन पर उठाए गए थे। अरनब का आर्टिकल businessworld.in वेबसाइट पर प्रकाशित हुआ है। Arnab Answers The Trolls शीर्षक से लिखे गए इस आर्टिकल में अरनब ने कहा कि लोगों की छवि उनके किए गए कामों से बनती है, इस बात से नहीं कि उन्‍हें सोशल मीडिया पर कितनी बार निशाना बनाया जाता है।

READ ALSO: क्‍या होता अगर 2016 के मोदी से 2014 वाले अर्नब गोस्‍वामी का होता सामना

आलोचकों ने सवाल उठाया था कि अरनब ने सभी मुद्दों पर बात नहीं की। अपने आर्टिकल में अरनब ने लिखा, ‘…एनएसजी से लेकर चीन, पाकिस्‍तान से लेकर राजन, स्‍वामी से लेकर महंगाई, 2019 से लेकर यूपी चुनाव और ध्रुवीकरण की राजनीति, नौकरियां बढ़ाने से लेकर संसद में गतिरोध, जीएसटी बिल के पास होने की संभावना से लेकर राज्‍यसभा में संख्‍याबल, कालेधन से लेकर हर बैंक अकाउंट में 15 लाख देने के वादे, इंटरव्यू में हर चीज कवर की गई।’

READ ALSO: अरनब गोस्‍वामी को मोदी का चमचा बताने वाले ट्वीट पर भड़का गुस्‍सा, चैनल ने मांगी माफी

कुछ लोगों को शिकायत थी कि पीएम ने सिर्फ एक मीडिया हाउस को इंटरव्यू दिया जबकि उन्‍हें प्रेस कॉन्‍फ्रेंस करना चाहिए था। एक महिला पत्रकार ने ऐसा ट्वीट करके अपनी नाराजगी जाहिर की थी। अरनब ने ऐसे पत्रकारों को लुटियन जर्नलिस्‍ट करार देते हुए लिखा, ‘उनमें से एक जो एंकर रही हैं जो मेरे न्‍यूजआवर डिबेट में आने के लिए लॉबीइंग तक कर चुके/चुकी हैं, ने ट्वीट करके लिखा कि पीएम ने मुझे इंटरव्यू देना क्‍यों पसंद किया और प्रेस कॉन्‍फ्रेंस क्‍यों नहीं की। बाद में लोगों की तीखी प्रतिक्र‍िया के बाद उन्‍होंने ट्वीट डिलीट कर दिया। मुझे लगा कि उनका सवाल बौद्ध‍िकता के परे था। पूरी दुनिया में पहला एक्‍सक्‍लूसिव इंटरव्यू उन एंकर या चैनलों को दिया जाता रहा है, जिनकी व्‍यूअरशिप पर कमांड होती है। उनको नहीं, जिन्‍हें कोई नहीं देखता।’

READ ALSO: नरेंद्र मोदी केे टाइम्‍स नाऊ पर इंटरव्यू को सोशल मीडिया नेे बताया हिट, #PMSpeaksToArnab के जरिए हो रही प्रशंसा 
अरनब ने उन सवालों का भी जवाब दिया, जिसमें उनके नरम लहजे पर कटाक्ष किया गया था। उन्‍होंने लिखा, ‘कुछ बेतुके सवाल मेरे लहजे को लेकर उठाए जा रहे हैं। पूछा जा रहा है कि मैंने न्‍यूजआवर के जैसे अपनी आवाज तेज क्‍यों नहीं रखी? मैंने पीएम को लगातार मिस्‍टर प्राइम मिनिस्‍टर क्‍यों बोला? तीन जवाब उन लोगों को चुप करा देगा जो मुझे लेकर मनोग्रह से ग्रसित हैं। पहली बात, मैं इसी टोन में राहुल गांधी से बातचीत की थी। अगर ऐसे लोग इस बात से निराश हैं कि उन्‍होंने (राहुल) उन्‍हें निराश किया तो यह मेरी समस्‍या नहीं है। दूसरी बात, फ्रैंकली स्‍पीकिंग एक इंटरव्यू है, जबकि द न्‍यूजआवर एक डिबेट है। दोनों के स्‍टाइल और फॉर्मेट बिलकुल अलग हैं। और आखिरी बात, मिस्‍टर प्राइम मिनिस्‍टर का इस्‍तेमाल करना बिलकुल सही है, जब आप प्रधानमंत्री से बात कर रहे हों।’

READ ALSO:  कोई पूछ पाएगा नरेंद्र मोदी से यह 15 सवाल?

 

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 UP: कॉलेजों के कई टीचर नहीं बता सके अंग्रेजी के सामान्य शब्दों की स्पेलिंग, भाजपा ने की जांच की मांग
2 मोदी सरकार ने कैंसल किया अडानी पर लगा 200 करोड़ रुपए का जुर्माना: रिपोर्ट
3 RTI में खुलासा, सरबजीत ने खुद को बताया था तस्‍कर, लोगों ने शहीद के दर्जे पर उठाए सवाल
यह पढ़ा क्या?
X