मुझे उस दिन की याद आ रही है जब मुझे पीटते-पीटते ले जा रहे थे…परमबीर सिंह के निलंबन पर अर्णब गोस्वामी ने किया फेसबुक लाइव

परमबीर सिंह के निलंबन पर रिपब्लिक मीडिया नेटवर्क के मैनेजिंग डायरेक्टर और एडिटर इन चीफ अर्णब गोस्वामी ने फेसबुक लाइव करते हुए इसे सत्य की असत्य पर जीत बताया।

Arnab Goswami
परमबीर सिंह के निलंबन पर अर्णब गोस्वामी का लुटियंस मीडिया जमकर गरजे। Source- Republic Bharat FB Page

महाराष्ट्र सरकार ने गुरुवार को मुंबई के पूर्व पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह को निलंबित कर दिया। सिंह के निलंबन पर रिपब्लिक मीडिया नेटवर्क के मैनेजिंग डायरेक्टर और एडिटर इन चीफ अर्णब गोस्वामी ने फेसबुक लाइव करते हुए इसे सत्य की असत्य पर जीत बताया। इस दौरान उन्होंने अपने पुराने अनुभवों को साझा करते हुए कहा कि मुझे आज भी वह सुबह याद है जब मुझे अलीबाग से धनोजा पीटते हुए ले जाया जा रहा था, उस दिन उन्हें (परमबीर सिंह) बहुत मजा आ रहा था। गोस्वामी ने कहा कि मुझे कई सारी चीजें याद आ रही हैं, गोस्वामी ने अपने चिर परिचित अंदाज में कहा ‘सत्य परेशान हो सकता है लेकिन पराजित कतई नहीं हो सकता है’।

अर्णब गोस्वामी ने कहा कि यह पिछले 13 महीनों की कठिन लड़ाई थी, जोकि व्यक्तिगत नहीं बल्कि भारत के लोगों के लिए थी। इस दौरान उन्होंने लुटियंस मीडिया पर निशाना साधते हुए कहा कि दिल्ली की मीडिया ने सोचा था कि एक मीडिया नेटवर्क जोकि देश के लोगों की आवाज बन चुका है, उसे दबाने के लिए एक पुलिसकर्मी से हाथ मिला कर और साजिश रचेंगे और इस नेटवर्क को बंद कर देंगे। यहां उन्होंने एक बॉलीवुड एक्टर का भी जिक्र किया, हालांकि उन्होंने नाम नहीं लिया लेकिन कहा कि एक बॉलीवुड एक्टर अपने टेलीविजन कार्यक्रम में जाकर कहता था कि बड़े ड्रग वालों पर सवाल मत पूछो नहीं तो चैनल बंद कर दूंगा।

वरिष्ठ पत्रकार अर्णब गोस्वामी ने निलंबन का लेटर दिखाते हुए कहा कि आज सबको यह एहसास होना चाहिए कि कोई भी सिस्टम को मैनेज करके नहीं निकल सकता है। उन्होंने कहा कि आज से करीब एक साल पहले जब हमने सुशांत को लेकर कई सवाल उठाए थे तो हमें चैनल बंद कराने की धमकी देते हुए कहा गया था कि हमसे क्षमा मांगों नहीं तो ब्रिटिश काल के किसी कानून के तहत तुम पर केस कर दूंगा। अर्णब इस दौरान काफी भावुक दिखाई दिए। बताते चलें कि एक आपराधिक मामले में परमबीर के इशारे पर मुंबई पुलिस ने अर्नब को घर जाकर गिरफ्तार किया था। उसके बाद से वह परमबीर के साथ मीडिया के एक वर्ग पर हमलावर रहे हैं।

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि परमबीर सिंह के खिलाफ ‘‘कुछ अनियमितताओं और खामियों’’ के लिए अनुशासनात्मक कार्रवाई शुरू की गई है। प्राप्त जानकारी के अनुसार सिंह पिछले 6 महीने में महाराष्ट्र होमगार्ड प्रमुख नियुक्त किए जाने के बाद पेश नहीं हुए। उन्होंने बताया कि स्वास्थ्य के आधार पर उन्हें 29 अगस्त तक की छुट्टी दी गई थी, लेकिन उसके बाद भी वह ड्यूटी पर नहीं आए।

परमबीर सिंह ने मार्च में राज्य के तत्कालीन गृह मंत्री अनिल देशमुख के खिलाफ भ्रष्टाचार और आधिकारिक पद के दुरुपयोग के आरोप लगाए थे, जब उन्हें एंटीलिया विस्फोटक सामग्री घटना के बाद मुंबई पुलिस आयुक्त के पद से हटा दिया गया था। उन्होंने देशमुख पर आरोप लगाया था कि उन्होंने पुलिस अधिकारियों से मुंबई में रेस्तरां और बार से एक महीने में 100 करोड़ रुपये लेने के लिए कहा था।

हालांकि राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) नेता ने इस आरोप से इनकार किया था। इन आरोपों की जांच कर रहे आयोग ने सिंह को अपना बयान दर्ज करने के लिए पेश होने का निर्देश दिया था, लेकिन आईपीएस अधिकारी पिछले महीने ही उसके समक्ष पेश हुए थे।

पढें राष्ट्रीय समाचार (National News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट