ताज़ा खबर
 

न्यूज एंकर ने सीजेआई को पत्र लिखा, अर्नब गोस्वामी के लिए मांगी सुरक्षा

समाचार चैनल के सलाहकार संपादक प्रदीप भंडारी ने रविवार को सीजेआई को लिखे पत्र में आरोप लगाया कि गोस्वामी को ‘गलत बहाने’ से जेल में स्थानांतरित किया गया है और उन्हें तलोजा जेल में ‘खतरनाक’ अपराधियों और ‘अंडरवर्ल्ड’ के साथ रखा जाएगा।

Arnab Goswami Case, Arnab Goswami, Republic TV Editor, Republic TVक्वारंटीन सेंटर से जेल ले जाते वक्त मीडिया को अपना दर्द बयान करते हुए अर्नब गोस्वामी। (फोटोः टि्वटर/Republic TV)

रिपब्लिक टीवी के एक न्यूज एंकर ने भारत के प्रधान न्यायाधीश (सीजेआई) एसए बोबडे को पत्र लिखकर उनसे आग्रह किया है कि अर्नब गोस्वामी को तलोजा जेल में ‘खतरनाक’ अपराधियों एवं ‘अंडरवर्ल्ड’ के साथ रखे जाने के कदम का संज्ञान लिया जाए और उन्हें ‘सुरक्षा मुहैया कराई जाए।’ रिपब्लिक टीवी के प्रधान संपादक गोस्वामी एवं अन्य को सोमवार को बंबई उच्च न्यायालय ने एक इंटीरियर डिजाइनर को आत्महत्या के लिए उकसाने के 2018 के एक मामले में अंतरिम जमानत देने से इंकार कर दिया।

पत्रकार को पहले अलीबाग जेल के लिए कोविड-19 केंद्र के तौर पर निर्धारित एक स्थानीय स्कूल में रखा गया था और न्यायिक हिरासत में उन्हें कथित तौर पर मोबाइल फोन का इस्तेमाल करते पाए जाने के बाद रविवार को रायगढ़ के तलोजा जेल में स्थानांतरित कर दिया गया। समाचार चैनल के सलाहकार संपादक प्रदीप भंडारी ने रविवार को सीजेआई को लिखे पत्र में आरोप लगाया कि गोस्वामी को ‘गलत बहाने’ से जेल में स्थानांतरित किया गया है और उन्हें तलोजा जेल में ‘खतरनाक’ अपराधियों और ‘अंडरवर्ल्ड’ के साथ रखा जाएगा।

उन्होंने कहा कि गोस्वामी ने कहा है कि ‘उनका जीवन खतरे में है और सुबह उनके साथ मारपीट की गई है’ और सीजेआई से आग्रह किया कि मामले का संज्ञान लें और उन्हें सुरक्षा मुहैया कराएं। पत्र में कहा गया है कि महाराष्ट्र सरकार के खिलाफ विचार व्यक्त करने के कारण गोस्वामी का ‘उत्पीड़न किया गया और मारपीट की गई।’

इसमें कहा गया है, ‘सुबह (रविवार को) मुझे पता चला कि महाराष्ट्र सरकार ने अप्रत्याशित कदम उठाते हुए अर्नब गोस्वामी को मुंबई से तलोजा जेल फर्जी बहाने पर भेज रही है जहां खतरनाक अपराधी और अंडरवर्ल्ड के अपराधी रहते हैं।’ पत्र में आरोप लगाया गया है कि गोस्वामी को रास्ते में अपने वकीलों या अन्य के साथ बातचीत करने की अनुमति नहीं दी गई और वह किसी तरह कुछ संवाददाताओं को अपने जीवन के खतरे के बारे में बता सके।।

Live Blog

Highlights

    03:57 (IST)10 Nov 2020
    अर्नब गोस्वामी को सुरक्षा उपलब्ध कराने की मांग

    देश के कई संगठनों ने सरकार से आग्रह किया है कि पत्रकार अर्नब गोस्वामी को सुरक्षा उपलब्ध कराई जाए। उनकी जान को खतरा है। उन्हें जेल में खतरनाक अपराधियों के बीच रखा गया है। संगठनों ने सुप्रीम कोर्ट से इस मामले को संज्ञान में लेने का निवेदन किया है।

    21:59 (IST)09 Nov 2020
    अर्नब की पत्नी सम्यब्रत राय ने कहा कि उनके पति को फर्जी आरोपों में फंसाया गया

    रिपब्लिक टीवी की वरिष्ठ कार्यकारी संपादक और अर्नब की पत्नी सम्यब्रत राय ने कहा कि उनके पति को फर्जी आरोपों में फंसाया गया है। उन्होंने कहा कि अर्नब पहले ही चार रातें जेल में बिता चुके हैं। उनकी जान को खतरा बना हुआ है। जेल में उनकी पिटाई की गई है। भाजपा के पूर्व सांसद किरीट सोमैया ने एक ट्वीट कर कहा रि उन्होंने तलोजा जेल के जेलर से मुलाकात की और जेलर ने आश्वासन दिया कि गोस्वामी का उत्पीड़न नहीं होगा और उन्हें आवश्यक चिकित्सा दी जाएगी।

    21:12 (IST)09 Nov 2020
    अर्नब के समर्थन में राष्ट्रीय सैनिक संस्था, सीएम ठाकरे से गोस्वामी को शारीरिक नुकसान ना पहुंचाने की अपील

    रिपब्लिक मीडिया नेटवर्क के एडिटर-इन-चीफ अर्नब गोस्वामी के समर्थन में राष्ट्रीय सैनिक संस्था आई है। इस संस्था ने अर्नब के समर्थन में महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को पत्र लिखा है। पत्र में सरकार से अनुरोध किया कि अर्नब गोस्वामी को कोई शारीरिक नुकसान नहीं पहुंचाया जाए। पत्र में कहा है कि गोस्वामी को किसी भी तरह से शारीरिक नुकसान नहीं पहुंचाया जाए। बता दें कि इंटीरियर डिजाइनर को आत्महत्या के लिए उकसाने के मामले में गिरफ्तार रिपब्लिक टीवी के एडिटर-इन-चीफ अर्नब गोस्वामी को बॉम्बे हाईकोर्ट से बड़ा झटका लगा है। कोर्ट ने उन्हें अंतरिम जमानत देने से इनकार कर दिया है। न्यायमूर्ति एसएस शिंदे और न्यायमूर्ति एमएस कार्णिक ने अपने फैसले को शनिवार को सुरक्षित रख दिया था। जिसे आज सुनाया गया।

    20:58 (IST)09 Nov 2020
    अर्नब गोस्वामी से जेल में ही पूछताछ करेगी मुंबई पुलिस

    कोर्ट ने रिपब्लिक टीवी के एडिटर इन चीफ अर्नब गोस्वामी से न्यायिक हिरासत में पूछताछ करने के लिए अनुमति दे दी है। पुलिस ने 6 नवंबर को कोर्ट से यह मांग की थी कि उसे पूछताछ के लिए समय दिया जाए। जिसके बाद सीजेएम कोर्ट ने मुंबई पुलिस से कहा है कि वो तलोज जेल में हर दिन तीन घंटे पूछताछ कर सकती है।

    19:29 (IST)09 Nov 2020
    पूरा देश अर्नब के साथ, बोले रिटायर्ड डिफेंस एक्सपर्ट

    अर्नब गोस्वामी की गिरफ्तारी पर रिटायर्ड लेफ्टिनेंट जनरल और डिफेंस एक्सपर्ट गुरमीत सिंह ने प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने कहा कि पूरा देश अर्नब के साथ है। इस केस में राज्य सरकार कटघरे में है। अर्नब पर बदले की कार्रवाई की गई है। ये लड़ाई अर्नब की नहीं है हम सबकी है।

    18:36 (IST)09 Nov 2020
    बॉलीवुड निर्माताओं की याचिका पर अदालत ने ‘रिपब्लिक टीवी’, ‘टाइम्स नाउ’ से मांगा जवाब

    दिल्ली उच्च न्यायालय ने ‘रिपब्लिक टीवी’ और ‘टाइम्स नाउ’ को कथित ‘‘गैर जिम्मेदाराना और अपमानजनक टिप्पणियां’’ करने या प्रकाशित करने से रोकने के अनुरोध वाली बॉलीवुड के प्रमुख निर्माताओं की याचिका पर संबंधित मीडिया घरानों से सोमवार को जवाब मांगा। न्यायमूर्ति राजीव शकधर ने ‘एआरजी आउटलायर मीडिया’ और ‘बेनेट कोलमैन’ समूह से यह सुनिश्चित करने को भी कहा कि उनके चैनलों या सोशल मीडिया मंचों पर कोई मानहानिकारक सामग्री ‘अपलोड’ न की जाए। याचिका पर सुनवाई करते हुए अदालत ने कड़ी टिप्पणी की और पीछा कर रहे मीडिया से बचने की कोशिश के दौरान ब्रिटेन की राजकुमारी डायना की मौत का जिक्र किया तथा कहा कि ‘‘स्वर कुछ धीमा किए जाने’’ की आवश्यकता है क्योंकि लोग ‘‘लोकतंत्र के चौथे स्तंभ’’ से इसकी शक्तियों की वजह से भयभीत हैं।

    17:52 (IST)09 Nov 2020
    बॉम्बे हाईकोर्ट ने अर्नब गोस्वामी को दिया बड़ा झटका, अंतरिम जमानत देने से किया इनकार

    इंटीरियर डिजाइनर को आत्महत्या के लिए उकसाने के मामले में गिरफ्तार रिपब्लिक टीवी के एडिटर-इन-चीफ अर्नब गोस्वामी को बॉम्बे हाईकोर्ट से बड़ा झटका लगा है। कोर्ट ने उन्हें अंतरिम जमानत देने से इनकार कर दिया है। न्यायमूर्ति एसएस शिंदे और न्यायमूर्ति एमएस कार्णिक ने अपने फैसले को शनिवार को सुरक्षित रख दिया था। जिसे आज सुनाया गया। इससे पहले अर्नब ने महाराष्ट्र पुलिस पर गंभीर आरोप लगाए थे। रविवार सुबह अर्नब को अलीबाग से नवी मुंबई की तलोबा जेल में शिफ्ट किया जा रहा था। इस दौरान पुलिस वैन के अंदर से अर्नब ने चिल्ला-चिल्ला कर पत्रकारों को बताया कि उनकी जान को खतरा है। रिपब्लिक टीवी के एडिटर-इन-चीफ ने बताया कि उन्हें उनके वकील से बात नहीं करने दिया जा रहा है और हिरासत में उन्हें टॉर्चर किया जा रहा है। अर्नब गोस्वामी ने कहा "मैंने उनसे कई बार निवदेन किया कि मुझे मेरे वकीलों से बात करने दी जाए। लेकिन पुलिस ने ऐसा नहीं करने दिया। मैं सभी को बता रहा हूं कि मेरी जान को खतरा है। मेरी पुलिस कस्टडी खारिज कर दी गई थी।''

    16:38 (IST)09 Nov 2020
    'गुद्दी-बेल्ट से पकड़ अर्नब को घसीटा गया...', बोले Republic TV के एंकर- जिस जेल में आतंकी-अंडरवर्ल्ड गैंगस्टर हैं वहां किए गए शिफ्ट, ऐसा सलूक क्यों?

    रिपब्लिक टीवी के डिबेट शो 'पूछता है भारत' में चैनल के एडिटर इन चीफ अर्नब गोस्वामी की गिरफ्तारी के तरीके पर सवाल उठाए गए। अर्नब की गैर मौजूदगी में डिबेट शो का संचालन कर रहे एंकर ने आरोप लगाया कि मुंबई पुलिस ने उनकी गिरफ्तारी के समय उनके साथ बदसलूकी। उन्हें गुद्दी और बेल्ट से पकड़कर घसीटा गया। एंकर एश्वर्य कपूर ने आरोप लगाया कि उन्हें अवैध तरीके से गिरफ्तार किया गया। उन्होंने कहा कि अर्नब के हौसले पर सत्ता का बुल्डोजर चलाने की कोशिश हो रही है। बेगुनाह होने के बाद भी अर्नब को अलीबाग से तलोजा जेल में शिफ्ट कर दिया गया। क्लिक कर पढ़ें पूरी खबर

    15:22 (IST)09 Nov 2020
    आत्महत्या के लिए उकसाने के कोई सबूत नहीं

    इंस्पेक्टर सुरेश वरडे द्वारा प्रस्तुत जांच रिपोर्ट में बताया गया है कि इस केस में अर्नब गोस्वामी के साथ गिरफ्तार किए गए अन्य दो लोगों से अन्वय नाइक को पैसे लेने थे। इसके साथ ही रिपोर्ट में बताया गया है कि आत्महत्या के लिए उकसाने के कोई सबूत नहीं हैं और अन्वय नाइक ने अपनी जान ले ली, क्योंकि वह छह या सात साल से वित्तीय संकट में थे। रिपोर्ट में यह भी बताया गया है कि अन्वय ने पहले अपनी मां का गला घोंट दिया था और फिर अपनी जान दी थी।

    14:15 (IST)09 Nov 2020
    बॉलीवुड निर्माताओं की याचिका पर अदालत ने ‘रिपब्लिक टीवी’ , ‘टाइम्स नाउ’ से मांगा जवाब

    दिल्ली उच्च न्यायालय ने बॉलीवुड के प्रमुख निर्माताओं की ओर से ‘रिपब्लिक टीवी’ और ‘टाइम्स नाउ’ को कथित तौर पर ‘‘गैर जिम्मेदाराना और अपमानजनक टिप्पणियां’’ करने या प्रकाशित करने से रोकने के अनुरोध वाली याचिका पर मीडिया घरानों से सोमवार को जवाब मांगा। न्यायमूर्ति राजीव शकधर ने ‘एआरजी आउटलायर मीडिया आसियानेट प्राइवेट लिमिटेड’ और ‘बेनेट कोलमैन ग्रुप’ से यह सुनिश्चित करने को भी कहा कि सोशल मीडिया मंचों या उनके चैनलों पर कोई मानहानिकारक सामग्री ‘अपलोड’ ना की जाए। मीडिया घरानों के वकील ने अदालत को यह आश्वासन दिया कि वह ‘प्रोग्राम कोड’ का पालन करेंगे। याचिका बॉलीवुड के चार उद्योग संघों और 34 प्रमुख निर्माताओं ने दायर की है। 

    13:45 (IST)09 Nov 2020
    अर्नब गोस्वामी की सुरक्षा और स्वास्थ्य पर अपनी चिंता व्यक्त की

    महाराष्ट्र के राज्यपाल बीएस कोश्यारी ने राज्य के गृह मंत्री अनिल देशमुख से बात की और उन्हें रिपब्लिक टीवी के संपादक अर्नब गोस्वामी की सुरक्षा और स्वास्थ्य पर अपनी चिंता से अवगत कराया। उन्होंने गृह मंत्री से गोस्वामी के परिवार को उन्हें देखने और उनसे बात करने की अनुमति देने के लिए भी कहा है।

    12:36 (IST)09 Nov 2020
    न्यायिक हिरासत में फ़ोन का इस्तेमाल कर रहे थे अर्नब

    समाचार एजेंसी पीटीआई ने एक पुलिस अधिकारी के हवाले से बताया कि अर्नब न्यायिक हिरासत में कथित तौर पर फ़ोन का इस्तेमाल कर रहे थे, जिसके बाद उन्हें तलोजा जेल भेज दिया गया। रायगढ़ की क्राइम ब्रांच ने पाया कि अर्नब गोस्वामी किसी दूसरे के मोबाइल फ़ोन से सोशल मीडिया पर सक्रिय हैं, जबकि उनका अपना मोबाइल फ़ोन 4 नवंबर को हिरासत में लिए जाने के बाद पुलिस ने ज़ब्त कर लिया था। अर्नब को जब तलोजा जेल ले जाया जा रहा था तो पुलिस वैन से उन्होंने चिल्लाकर आरोप लगाया कि अलीबाग़ के जेलर ने उनके साथ शनिवार शाम मारपीट की, उनकी जान ख़तरे में है और उन्हें अपने वकील से बात नहीं करने दी गई।

    12:01 (IST)09 Nov 2020
    गोस्वामी के वकील ने पत्रकार के साथ पुलिस द्वारा कथित हाथापाई के आरोप लगाए

    पुलिस अधिकारी ने बताया, 'पुलिस ने आईपीसी की धारा 306 आत्महत्या के लिए उकसाने और धारा 34 के तहत गोस्वामी को गिरफ्तार किया।' गोस्वामी को लेकर आए वाहन के अलीबाग पहुंचने पर उन्हें एक स्थानीय अदालत में पेश किया गया। गोस्वामी के वकील ने पत्रकार के साथ पुलिस द्वारा कथित हाथापाई के आरोप लगाए। इसके बाद अदालत ने पुलिस को चिकित्सा जांच के लिए गोस्वामी को सिविल हॉस्पिटल ले जाने को कहा।

    11:47 (IST)09 Nov 2020
    अर्नब गोस्वामी से मिलने राम कदम तलोजा जेल जाएंगे

    अर्नब गोस्वामी से मिलने भारतीय जनता पार्टी के विधायक राम कदम तलोजा जेल जाएंगे। बीजेपी विधायक का कहना है कि वे अर्नब से मिलने जाएंगे हिम्मत है तो उन्हें ऐसा करने से रोक कर दिखाए।

    10:39 (IST)09 Nov 2020
    राम गोपाल वर्मा ने अर्नब को लेकर एक और पोस्ट शेयर किया है

    राम गोपाल वर्मा ने अर्नब को लेकर एक और पोस्ट शेयर किया है जिसमें अर्नब गोस्वामी के अरेस्ट होने पर एक कार्टून बना हुआ है। इस पर अर्नब गोस्वामी का चित्र बना है और साथ में लिखा गया है- ‘रिया को जेल कर दो’ वहीं नीचे की तरफ अर्नब का दूसरा चित्र बना है जिसमें वह सलाखों के पीछे नजर आ रहे हैं। उस पर लिखा है- ‘जेल से रिहा कर दो।’

    10:09 (IST)09 Nov 2020
    बैरक में शिफ्ट करने से पहले गोस्वामी को कुछ दिनों तक जेल के अंदर बनी क्वारंटाइन सेंटर में रखा जाएगा

    गोस्वामी को 4 नवंबर को उनके लोवर परेल घर से इंटीरियर डिजाइनर अन्वय नाइक की आत्महत्या के मामले के संबंध में गिरफ्तार किया गया था, जिन्होंने अपने सुसाइड नोट में गोस्वामी और दो अन्य को उनकी और उनकी मां की आत्महत्या के लिए दोषी ठहराया था। 4 नवंबर को उन्हें पहले अलीबाग स्थित प्राइमेरी स्कूल में रखा गया था, जिसके बाद आज सुबह गोस्वामी को तलोजा जेल में शिफ्ट कर दिया गया। तलोबा जेल के एसपी कौस्तुभ कुरलेकर ने कहा, ''बैरक में शिफ्ट करने से पहले उन्हें कुछ दिनों तक जेल के अंदर बनी क्वारंटाइन सेंटर में रखा जाएगा।''

    09:32 (IST)09 Nov 2020
    18 नवंबर तक न्यायिक हिरासत में

    महाराष्ट्र के रायगढ़ जिले की अलीबाग पुलिस ने गोस्वामी को इंटीरियर डिजाइनर अन्वय नाइक और उनकी मां को 2018 में कथित रूप से खुदकुशी के लिये उकसाने के सिलसिले में चार नवंबर को लोअर परेल स्थित उनके घर से गिरफ्तार किया था। एक निचली अदालत ने उन्हें 18 नवंबर तक न्यायिक हिरासत में भेज दिया है। 

    08:39 (IST)09 Nov 2020
    देश में पहली बार ऐसा हुआ है, सरकार से सवाल करने पर पत्रकार के खिलाफ मामला दर्ज

    BJP नेताओं ने कहा, ''देश में पहली बार ऐसा हुआ है कि सरकार से सवाल करने के लिए किसी पत्रकार और उसके परिवार के सदस्यों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया। हम महाराष्ट्र सरकार द्वारा गोस्वामी पर किये गए अत्याचार का विरोध करते हैं।'' पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि मिश्रा और बग्गा समेत चार लोगों को निषेधाज्ञा का उल्लंघन कर राजघाट पर प्रदर्शन करने की कोशिश करने के लिये हिरासत में ले लिया गया।

    08:00 (IST)09 Nov 2020
    कपिल मिश्रा और तेजिंदर बग्गा को हिरासत में लिया

    पुलिस ने रविवार को भाजपा नेताओं कपिल मिश्रा और तेजिंदर बग्गा को इंटीरियर डिजाइनर को आत्महत्या के लिए उकसाने के मामले में गिरफ्तार पत्रकार अर्नब गोस्वामी के समर्थन में यहां राजघाट पर प्रदर्शन करने से रोका और हिरासत में ले लिया। दोनों नेताओं को राजेन्द्र नगर थाने ले जाया गया। दिल्ली के पूर्व मंत्री मिश्रा ने कहा कि गोस्वामी को महाराष्ट्र पुलिस द्वारा गिरफ्तार किये जाने के विरोध में प्रदर्शन करने की योजना थी।

    06:24 (IST)09 Nov 2020
    अंतरिम जमानत याचिका पर फैसला आज

    बॉम्बे हाई कोर्ट आत्महत्या के लिए उकसाने से संबंधित मामले में रिपब्लिक टीवी के एडिटर-इन-चीफ अर्नब गोस्वामी और दो अन्य लोगों द्वारा दायर अंतरिम जमानत याचिका पर सोमवार को फैसला सुनाएगा।

    05:11 (IST)09 Nov 2020
    अर्नब का पुलिस पर प्रक्रिया में देरी करने का आरोप

    अर्नब गोस्वामी ने पुलिस पर प्रक्रिया में जानबूझकर देरी करने का आरोप लगाया। उनका कहना है कि पुलिस उन्हें जेल में डाले रहने के लिए ऐसा कर रही है। उन्होंने सुप्रीम कोर्ट से आग्रह किया कि उन्हें जमानत दी जाए।

    04:11 (IST)09 Nov 2020
    अर्नब ने पुलिस पर लगाया टार्चर करने का आरोप

    रिपब्लिक टीवी के मालिक और प्रबंध निदेशक तथा वरिष्ठ पत्रकार अर्नब गोस्वामी का कहना है कि पुलिस और महाराष्ट्र सरकार उनका टार्चर कर रही है। इस पर रोक लगाई जाए। 

    03:16 (IST)09 Nov 2020
    पहले अस्थाई जेल में रखा गया, बाद में तलोजा जेल में शिफ्ट किया गया

    4 नवंबर को उन्हें पहले अलीबाग स्थित प्राइमेरी स्कूल में रखा गया था, जिसके बाद आज सुबह गोस्वामी को तलोजा जेल में शिफ्ट कर दिया गया। तलोबा जेल के एसपी कौस्तुभ कुरलेकर ने कहा, ''बैरक में शिफ्ट करने से पहले उन्हें कुछ दिनों तक जेल के अंदर बनी क्वारंटाइन सेंटर में रखा जाएगा।''

    03:15 (IST)09 Nov 2020
    गोस्वामी को 4 नवंबर को उनके लोवर परेल घर से गिरफ्तार किया गया था

    गोस्वामी को 4 नवंबर को उनके लोवर परेल घर से इंटीरियर डिजाइनर अन्वय नाइक की आत्महत्या के मामले के संबंध में गिरफ्तार किया गया था, जिन्होंने अपने सुसाइड नोट में गोस्वामी और दो अन्य को उनकी और उनकी मां की आत्महत्या के लिए दोषी ठहराया था।

    22:11 (IST)08 Nov 2020
    अर्णब गोस्वामी पर क्या हैं आरोप? डिटेल में पढ़ें

    अर्णब गोस्वामी अभी जेल में हैं। रिपब्लिक टीवी पर आर्टिकेक्ट फर्म कॉन्कॉर्ड डिजाइन प्राइवेट लिमिटेड के एमडी अन्वय नाइक का 83 लाख रुपया बकाया था। नाइक ने रिपब्लिक टीवी का स्टूडियो तैयार किया था। दो अन्य कंपनियां- आईकास्टएक्स/स्काइमीडिया और स्मार्टवर्क्स भी अपना-अपना बकाया चुकाने में नाकाम रहीं। पुलिस के मुताबिक, तीनों कंपनियों पर कुल 5.40 करोड़ रुपये का बकाया था। रिपब्लिक टीवी की तरफ से भु्गतान नहीं होने की वजह से नाइक और बाद में उनकी मां ने कथित रूप से खुदकुशी कर ली थी।

    21:34 (IST)08 Nov 2020
    जेलर से मिले किरीट सोमैया

    बीजेपी के पूर्व सांसद किरीट सोमैया ने एक ट्वीट कर बताया कि रविवार को उन्होंने तलोजा जेल के जेलर से मुलाकात की और जेलर ने आश्वासन दिया कि गोस्वामी का उत्पीड़न नहीं होगा और उन्हें आवश्यक चिकित्सा मुहैया कराई जाएगी।

    20:56 (IST)08 Nov 2020
    अर्णब की पत्‍नी ने कहा- पति पर लगे आरोप फर्जी

    इस बीच, रिपब्लिक टीवी की वरिष्ठ कार्यकारी संपादक और अर्नब गोस्वामी की पत्नी सम्यब्रत राय गोस्वामी ने कहा कि उनके पति को फर्जी आरोपों में फंसाया गया है। उन्होंने कहा, ‘आज सुबह, मेरे पति को महाराष्ट्र पुलिस द्वारा खींचकर पुलिस वैन में बैठाया गया और तलोजा जेल ले जाया गया। वह बार-बार कह रहे थे कि उनकी जान खतरे में है। उन्होंने चार रातें न्यायिक हिरासत में बिताई हैं। वह बार-बार कह रहे थे कि जेलर ने उनकी पिटाई की, उनका जीवन खतरे में है और उन्हें अपने वकील से बात नहीं करने दी जा रही है। एक निर्दोष व्यक्ति और दशकों से प्रतिष्ठित पत्रकार, जो राष्ट्र के लिए अपना कर्तव्य निभा रहे है, उनपर फर्जी आरोप लगाकर उनके साथ मारपीट, उत्पीड़न किया गया और फंसाया गया है। उन्हें जेल में डाल दिया गया है।’

    20:34 (IST)08 Nov 2020
    अलीबाग जेल में हुई अर्नब की पिटाई?

    4 नवंबर को हिरासत में लेते समय पुलिस ने उनके निजी मोबाइल फोन को जब्त कर लिया था। तलोजा जेल ले जाते समय गोस्वामी ने पुलिस की गाड़ी से चिल्लाते हुए आरोप लगाया कि शनिवार की शाम को अलीबाग के जेलर ने उनकी पिटाई की, उनका जीवन खतरे में है और उन्हें अपने वकील से बात नहीं करने दिया जा रहा है।

    20:09 (IST)08 Nov 2020
    सोमवार को कितने बजे तक आ सकता है फैसला? पढ़ें

    बुधवार शाम को अलीबाग सीजेएम ने अर्णब को 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेज दिया था। इसके बाद शनिवार को बॉम्बे हाई कोर्ट ने भी अर्णब की गिरफ्तारी को चुनौती देने वाली याचिका पर आदेश सुरक्षित रख लिया था। अब इस पर फैसला सोमवार दोपहर 3 बजे सुनाया जाएगा। रविवार को उन्हें तलोजा जेल शिप्ट कर दिया गया। आरोप है कि पुलिस अधिकारियों ने इसकी जानकारी अर्णब गोस्वामी के वकीलों को नहीं दी।

    19:33 (IST)08 Nov 2020
    जीडी बख्शी - सरबजीत की तरह अर्णब के साथ हो सकता है

    Republic TV पर चर्चा के दौरान जीडी बख्शी ने कहा कि महाराष्ट्र में अभिव्यक्ति की आजादी की छूट नहीं है। यह नहीं होगा। देश के लोग मरे हुए नहीं हैं। आपने सरबजीत का नाम सुना है। आपको पता है कि पाकिस्तानियों ने क्या किया...उन्होंने उन्हें प्रताड़ित कर उन्हें तोड़ने की कोशिश की लेकिन वो ऐसा नहीं कर सके। पाकिस्तान के अंदर सरबजीत को भी जेल में कैदियों से मरवा दिया गया था अब अब अर्णब गोस्वामी के साथ भी उसी तरह की घटना को अंजाम दिया जा सकता है।

    18:58 (IST)08 Nov 2020
    अर्णब गोस्वामी की पत्नी का बड़ा आरोप

    टीवी एंकर अर्णब गोस्वामी की पत्नी Samyabrata Ray ने दावा किया है कि जेलर ने उनके पति को प्रताड़ित किया है। उनका कहना है कि अर्णब ने जब अपने वकील से बात कराने के लिए कहा तो उनके साथ मारपीट की गई और उन्हें जान से मारने की धमकी भी दी गई।

    18:36 (IST)08 Nov 2020
    अर्णब फोन इस्तेमाल कर रहे थे?

    कुछ मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक अर्णब गोस्वामी पर आरोप है कि न्‍यायिक हिरासत में होने के बावजूद वह मोबाइल फोन का इस्‍तेमाल कर रहे थे और सोशल मीडिया पर ऐक्टिव थे। अर्णब को अलीबाग स्थित नगर पालिका के एक स्‍कूल में बने क्‍वारंटीन सेंटर में रखा गया था। गौरतलब है कि अर्नब उन तीन आरोपियों में से एक हैं जिन पर इंटिरियर डिजायनर और उनकी मां को खुदकुशी के लिए उकसाने का आरोप है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक इस मामले के जांच अधिकारी जमील शेख ने बताया कि 'बीते शुक्रवार की देर शाम हमें पता चला कि अर्नब गोस्‍वामी सोशल मीडिया पर ऐक्टिव हैं। वह किसी और के फोन का इस्‍तेमाल कर रहे हैं। हम उनका पर्सनल फोन पहले ही सीज कर चुके हैं। मैंने अलीबाग जेल सुप्रिटेंडेंट को चिट्ठी लिख एक जांच रिपोर्ट बनाने को कहा कि कैसे क्‍वारंटीन सेंटर में अर्नब गोस्‍वामी को मोबाइल फोन उपलब्‍ध हुआ। रिपोर्ट के आधार पर हमने गोस्‍वामी को तलोजा जेल शिफ्ट कर दिया है।'

    17:57 (IST)08 Nov 2020
    वकील से बात नहीं करने दिया जा रहा - अर्णब गोस्वामी

    रिपब्लिक टीवी के एडिटर-इन-चीफ अर्नब गोस्वामी ने रविवार को महाराष्ट्र पुलिस पर गंभीर आरोप लगाए। उन्होंने कहा है कि उन्हें उनके वकील से बात नहीं करने दिया जा रहा था और टॉर्चर किया जा रहा है। रिपब्लिक टीवी द्वारा जारी किए गए वीडियो में अर्नब गोस्वामी मीडिया से बात करते हुए दिख रहे हैं। अर्नब मीडिया से उस समय बात कर रहे थे, उन्हें रविवार सुबह अलीबाग से नवी मुंबई की तलोबा जेल में शिफ्ट किया जा रहा था।

    17:24 (IST)08 Nov 2020
    अर्णब की जमानत याचिका पर सोमवार को फैसला

    बॉम्बे हाई कोर्ट आत्महत्या के लिए उकसाने से संबंधित मामले में रिपब्लिक टीवी के एडिटर-इन-चीफ अर्णब गोस्वामी और दो अन्य लोगों द्वारा दायर अंतरिम जमानत याचिका पर सोमवार को फैसला सुनाएगा। न्यायमूर्ति एस एस शिंदे तथा न्यायमूर्ति एम एस कार्णिक की पीठ ने शनिवार को याचिकाओं पर दिनभर चली सुनवाई के बाद तत्काल कोई राहत दिए बिना फैसला सुरक्षित रख लिया था। गोस्वामी और दो अन्य आरोपियों फिरोज शेख तथा नीतीश सारदा ने अपनी 'अवैध गिरफ्तारी' को चुनौती देते हुए अंतरिम जमानत पर रिहा किए जाने की अपील की थी।

    16:50 (IST)08 Nov 2020
    अर्णब की मुश्किल नहीं हो रही कम

    वैसे अर्नब की मुसीबत कम होती दिखाई नहीं दे रही है। बांबे हाई कोर्ट से अर्नब गोस्वामी को शनिवार को भी जमानत नहीं मिल सकी। सभी पक्षों को सुनने के बाद बांबे हाई कोर्ट ने फैसला सुरक्षित रख लिया। सुनवाई कर रही पीठ ने कहा कि वह उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश से विचार-विमर्श के बाद जल्द फैसला सुनाएगी। उच्च न्यायालय का कहना है कि इस बीच सभी पक्ष सत्र न्यायालय में जाने के लिए स्वतंत्र हैं।

    पीठ ने शनिवार को सुनवाई शुरू होने के बाद भी सभी पक्षों को चेताया था कि यदि आज बहस पूरी नहीं हुई तो यह मामला दिवाली की छुट्टियों के कारण 23 नवंबर तक अटक सकता है। हालांकि, हाई कोर्ट में दिवाली की छुट्टियां सोमवार से शुरू हो रही हैं। लेकिन, चूंकि बहस पूरी हो चुकी है, इसलिए माना जा रहा है कि पीठ मुख्य न्यायाधीश से विमर्श करके दिवाली से पहले ही फैसला सुना देगी।

    16:26 (IST)08 Nov 2020
    अलीबाग मजिस्ट्रेट कोर्ट में हुई थी अर्णब की पेशी

    गिरफ्तारी के बाद अर्णब गोस्वामी को उसी दिन अलीबाग मजिस्ट्रेट कोर्ट के सामने पेश किया गया था, जहां से उन्हें 18 नवंबर तक 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया। रिपब्लिक टीवी के संपादक को पहले अलीबाग पुलिस थाने ले जाया गया, जहां से उन्हें अलीबाग प्राइमरी स्कूल शिफ्ट किया गया था। चार दिनों तक यहां रहने के बाद अब उन्हें तलोबा जेल में शिफ्ट कर दिया गया है।

    15:43 (IST)08 Nov 2020
    अर्णब गोस्वामी किस जेल में हैं बंद? जानें

    इंटीरियर डिजायनर को कथित रूप से आत्महत्या के लिए उकसाने के आरोप में 14 दिनों के लिए न्यायिक हिरासत में भेजे गए रिपब्लिक टीवी के प्रधान संपादक अर्नब गोस्वामी को रविवार को महाराष्ट्र की तलोबा जेल में शिफ्ट कर दिया गया। इससे पहले, उन्हें अलीबाग के क्वारंटीन केंद्र में रखा गया था। 'अमर उजाला' की रिपोर्ट के मुताबिक तलोबा जेल के एसपी कौस्तुभ कुरलेकर ने इसकी पुष्टि करते हुए कहा, 'बैरक में शिफ्ट करने से पहले उन्हें कुछ दिनों तक जेल के अंदर बने क्वारंटीन केद्र में रखा जाएगा।'

    15:15 (IST)08 Nov 2020
    Arnab Goswami Case: राष्ट्रपति से मुलाकात करेंगे पूर्व मेजर जनरल जीडी बख्शी

    भारतीय सेना के पूर्व मेजर जनरल जीडी बख्शी (पूरा नाम- गगनदीप बख्शी) ने कहा है कि 'हम आज राष्ट्रपति से मुलाकात करेंगे। अनुभवी और कई अन्य लोग अर्णब गोस्वामी के साथ हैं।'

    15:01 (IST)08 Nov 2020
    तेजिंदर बग्गा और कपिल मिश्रा गिरफ्तार

    रिपब्लिक टीवी के एडिटर इन चीफ अर्नब गोस्वामी के समर्थन में भाजपा के कुछ नेताओं और कार्यकर्ताओं ने रविवार को राजघाट के समीप प्रदर्शन किया। दिल्ली पुलिस ने प्रदर्शन में शामिल भाजपा नेता तेजिंदर बग्गा और कपिल मिश्रा को गिरफ्तार कर लिया। अर्नब गोस्वामी को 53 साल के इंटीरियर डिजाइनर अन्वय नाइक((Interior Designer Anvay Naik) कथित रूप से आत्महत्या के लिए उकसाने के मामले में बुधवार को गिरफ्तार किया गया था।

    14:35 (IST)08 Nov 2020
    अर्णब गोस्वामी को कब किया गया गिरफ्तार? पढ़ें

    बता दें कि इंटीरियर डिजाइनर को आत्महत्या के लिए उकसाने के मामले में पिछले बुधवार की सुबह गिरफ्तार अर्नब गोस्वामी के खिलाफ बाद में महिला पुलिस अधिकारी के साथ मारपीट करने के आरोप में एक और FIR दर्ज की गई है। उन पर आरोप है कि जब उनके निवास पर पुलिस के पहुंचने पर उन्होंने महिला पुलिस अधिकारी के साथ मारपीट की। गोस्वामी के खिलाफ आईपीसी की धारा 353, 504 और 34 के तहत एनएम जोशी पुलिस थाने में मामला दर्ज किया गया है।

    14:06 (IST)08 Nov 2020
    अर्नब की जमानत याचिका पर सोमवार को फैसला सुनाएगा उच्च न्यायालय

    बंबई उच्च न्यायालय 2018 में एक इंटीनियर डिजाइनर को आत्महत्या के लिये उकसाने से संबंधित मामले में रिपब्लिक टीवी के प्रधान संपादक अर्नब गोस्वामी और दो अन्य लोगों द्वारा दायर अंतरिम जमानत याचिका पर सोमवार को फैसला सुनाएगा। न्यायमूर्ति एस एस शिंदे तथा न्यायमूर्ति एम एस कार्णिक की पीठ ने शनिवार को याचिकाओं पर दिनभर चली सुनवाई के बाद तत्काल कोई राहत दिए बिना फैसला सुरक्षित रख लिया था।

    गोस्वामी और दो अन्य आरोपियों फिरोज शेख तथा नीतीश सारदा ने अपनी ''अवैध गिरफ्तारी'' को चुनौती देते हुए अंतरिम जमानत पर रिहा किए जाने की अपील की थी।उच्च न्यायालय की वेबसाइट पर शनिवार देर जारी नोटिस में कहा गया है कि पीठ नौ नवंबर को तीन बजे के बाद फैसला सुनाएगी।

    13:39 (IST)08 Nov 2020
    राजस्थानः जयपुर में अर्णब के समर्थन में आ गए लोग

    उधर, वकील इशकरण ने बताया कि लोगों को अब उनकी सुरक्षा की चिंता हो रही है। इसी बीच, अर्नब के समर्थन में राजस्थान की राजधानी जयपुर में लोग उतर आए हैं।

    13:38 (IST)08 Nov 2020
    सरकार का ये अहंकार पूरी तरह से नेस्तनाबूद हो जाएगा, पूरा देश अर्नब के साथः राम कदम

    बीजेपी सांसद मनोज तिवारी ने कहा है कि अर्नब के बयान में जो सामने आया है वो काफी चिंताजनक है, वो निश्चित रूप से एक लड़ाई लड़ रहे हैं और उनकी लड़ाई पर हमें गर्व है। वहीं, BJP नेता राम कदम बोले हैं- महाराष्ट्र सरकार का ये अहंकार पूरी तरह से नेस्तनाबूद हो जाएगा, पूरा देश अर्नब के साथ खड़ा है।

    11:57 (IST)08 Nov 2020
    देखें, वैन से क्या बोले अर्णब गोस्वामी
    Next Stories
    1 आडवाणी का जन्मदिन मोदी ने बनाया खास! पहले ट्वीट से बधाई, फिर पहुंचे आवास, छुए पैर, फिर साथ काटा केक
    2 4 साल पहले आज ही के दिन नोटबंदीः अपनी मूर्खता की तबाही देख सरकार भी भूल गई, मोदी जी तो Demonization का नाम नहीं लेते है- रवीश कुमार का पोस्ट
    3 अटल बिहारी को RSS चीफ गोलवलकर ने दिया था राजकुमारी कौल से रिश्ता तोड़ने का आदेश, वाजपेयी ने कर दिया था इनकार- किताब में दावा
    यह पढ़ा क्या?
    X