ताज़ा खबर
 

2016 सर्जिकल स्‍ट्राइक को लीड करने वाले जनरल ने कहा- पाकिस्‍तान पर लगातार नहीं बनाया गया दबाव

उरी अटैक के बाद आतंकियों के खिलाफ सर्जिकल स्ट्राइक का नेतृत्व करने वाले लेफ्टिनेंट जनरल (रिटा.) डीएस हुडा ने कहा कि भारत को चीन के साथ बातचीत करने की जरूरत है। क्योंकि, चीन ही अंतराष्ट्रीय मंचों पर जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मसूद अजहर को ग्लोबल टेररिस्ट घोषित करने से रोकता है। इसके अलावा वैश्विक समुदाय के जरिए पाकिस्तान की सेना पर भी दबाव बढ़ाए जाने की जरूरत है।

ret gn hoodaसर्जिकल स्ट्राइक की जिम्मेदारी संभालने वाले रिटा. लेफ्टिनेंट जनरल डीएस हुडा ने कहा कि सेना हमेशा स्वतंत्र। (फोटो सोर्स: एक्सप्रेस आर्काइव)

2016 में पाक अधिकृत कश्मीर में आतंकी ठिकानों पर हुए ‘सर्जिकल स्ट्राइक’ का जिम्मा संभालने वाले तत्कालीन नॉर्दन कमांड के प्रमुख लेफ्टिनेंट जनरल डीएस हुडा (रिटायर्ड) ने पुलवामा आतंकी हमले का मुंहतोड़ जवाब देने की बात कही है। मगर साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि भारत ने पाकिस्तान के खिलाफ दबाव को लगातार नहीं बनाए रखा। इकोनॉमिक्स टाइम्स को दिए इंटरव्यू में डीएस हुडा ने कहा कि भारत को पाकिस्तान पर जो दबाव बनाए रखना चाहिए था, उसे वह लगातार बनाए नहीं रखा। यही वजह रही कि लाइन ऑफ कंट्रोल पर सीजफायर का उल्लंघन कई मर्तबा देखने को मिला। हुडा ने कहा कि भारत के खिलाफ तमाम आतंकी गतिविधियों में पाकिस्तान की हाथ है। ऐसे में भारत के टारगेट पर पाकिस्तान की सेना होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान के साथ बेहतर रिश्तों से कोई हल नहीं निकलने वाला है।

एक सवाल के जवाब में रिटायर्ड लेफ्टिनेंट जनरल ने पाकिस्तान के खिलाफ कूटनीतिक दबाव बढ़ाने की वकालत की। उन्होंने कहा कि लगातार हो रहे हमलों को देखते हुए भारत को चौतरफा दबाव बनाने की कोशिश में जुटे रहना चाहिए। उन्होंने कहा कि सेना अपने स्तर पर हर मुमकिन कार्रवाई और मुंहतोड़ जवाब देने में सक्षम है। वर्तमान में अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पाकिस्तान को अलग-थलग करने की जरूरत है। दूसरे देशों के साथ बातचीत करके उस पर दबाव बढ़ाने की कोशिश की जानी चाहिए। इसमें चीन के साथ भी बातचीत बेहद अहम है। क्योंकि, चीन ही है जिसने जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मसूद अजहर को अतंरराष्ट्रीय आतंकी घोषित करने से रोकता है। इसके अलावा वैश्विक समुदाय के जरिए पाकिस्तान की सेना पर भी दबाव बढ़ाया जाना चाहिए।

सर्जिकल स्ट्राइक को अंजाम देने वाले रिटा. लेफ्टिनेंट जनरल हुडा ने कहा कि भारत अगर अगला सर्जिकल स्ट्राइक करता है तो ऐसा नहीं कि कश्मीर में आतंकवाद का मसला हल हो जाएगा। लेकिन, भारत को हाथ पर हाथ रखकर बैठना भी नहीं होगा। उन्होंने दूसरे सवाल के जवाब में कहा कि सेना वाजिब जवाब देने में काबिल है और यह उस पर छोड़ देना चाहिए। हालांकि, इस दौरान उन्होंने यह भी कहा कि वैसे तो भारत सरकार के दिमाग में कार्रवाई के संबंध में जरूर कोई प्लान होगा। लेकिन, फिलहाल ‘टोटल वॉर’ की नौबत भी नहीं आने वाली और हमें खुद इस दिशा में आगे बढ़ने की जरूरत नहीं है। जरूरी है कि पाकिस्तान की सेना को एक बड़ा झटका दिया जाए और कूटनीतिक हमले के जरिए उसे तहस-नहस किया जाए।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 Bharat Bandh Today: पुलवामा हमले को लेकर व्यापारियों ने बुलाया देशभर में बंद, कश्मीर में भी दुकानों पर मिले ताले
2 Kerala Win Win Lottery: लॉटरी ने किया मालामाल, कई लोगों ने जीता इनाम
3 झारखंड: सीआरपीएफ जवानों ने खून देकर बचाई ‘नक्‍सली’ महिला की जान