scorecardresearch

भारतीय सेना के अभ्यास के दौरान बड़ा हादसा! समुद्र में कूदे 4 कमाडों में से 1 लापता; दूसरे दिन भी नहीं मिला सुराग

गुरुवार को भारतीय सेना कमांडो के यूनिट -10 पैरा के 4 जवान हेलिकाप्टर से जलाशय में कूदे थे। जिसके बाद 3 जवान तो बाहर निकल आये लेकिन चौथा जवान जवान पानी के अंदर ही रह गया। भारतीय सेना ने अपने जवान की खोज के लिए अभियान शुरू कर दिया है।

भारतीय सेना के अभ्यास के दौरान बड़ा हादसा! समुद्र में कूदे 4 कमाडों में से 1 लापता; दूसरे दिन भी नहीं मिला सुराग
प्रतीकात्मक तस्वीर फोटो क्रेडिट – एक्सप्रेस आर्काइव

भारतीय सेना के अभ्यास के दौरान एक बड़ा हादसा हो गया है। यह हादसा जोधपुर शहर के तखत सागर जलाशय में हुआ है। गुरुवार को भारतीय सेना कमांडो के यूनिट -10 पैरा के 4 जवान हेलिकाप्टर से जलाशय में कूदे थे। जिसके बाद 3 जवान तो बाहर निकल आये लेकिन चौथा जवान जवान पानी के अंदर ही रह गया। भारतीय सेना ने अपने जवान की खोज के लिए अभियान शुरू कर दिया है।

गुरुवार की शाम से ही भारतीय सेना ने सर्च अभियान शुरू कर दिया था लेकिन रात में अंधेरा हो जाने की वजह से अभियान को रोक दिया गया था। सेना के सूत्रों के अनुसार लापता जवान का नाम कैप्टन अंकित गुप्ता है। कैप्टन की खोज के लिए विशेषज्ञों को बुलाया गया है और साथ ही तखत सागर जलाशय से लगे सभी इलाकों को सील कर दिया गया है। 

प्राप्त जानकारी के अनुसार भारतीय सेना की कमांडो यूनिट -10 पैरा के जवान अपने नियमित अभ्यास के लिए 7 जनवरी को हेलिकॉप्टर से नीचे उतर कर अभ्यास कर रहे थे। इस दौरान उन्हें हेलिकाप्टर से उतर कर अपनी बोट को फेंक कर खुद भी कूद जाना था। उसके बाद उन्हें बोट पर सवार होकर दुश्मन पर हमला बोलना था। इस अभियान का नेतृत्व कैप्टन अंकित गुप्ता ही कर रहे थे। उनके साथ 3 और कमांडो भी थे। अभ्यास के दौरान जलाशय में कूदे तीन जवान तो बोट पर आ गए लेकिन कैप्टन अंकित गुप्ता ही नहीं पहुँच सके। काफी देर इंतजार करने के बाद भी जब कैप्टन का कोई पता नहीं चला तो अभ्यास कर रहे जवानों ने अपने वरीय अधिकारियों को इसकी सूचना दी। जिसके बाद खोज अभियान को शुरू कर दिया गया।

हालाँकि अभी तक लापता कैप्टन के बारे में कोई जानकारी नहीं मिली है। स्थानीय प्रशासन की मानें तो इस तखत सागर जलाशय की कुल गहराई करीब 61 फीट तक है जिसमें अभी 46 फीट तक पानी भरा हुआ है। जिसकी वजह से खोज अभियान में भी देरी लग रही है। बचाव अभियान में एसडीआरएफ और स्थानीय पुलिस की भी मदद ली जा रही है। 

पढें राष्ट्रीय (National News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट