scorecardresearch

China को मुंहतोड़ जवाब देने के लिए भारत ने सीमा पर तैनात किया लैंडिंग क्राफ्ट असॉल्ट युद्धपोत, जानिए कैसे करता है ये काम

Ladakh LAC: लैंडिंग क्राफ्ट असॉल्ट एक वर्सेटाइल युद्धपोत है इसने लांचिग के समय ही अपनी गति और क्षमताओं की सीमा को पार कर लिया है।

China को मुंहतोड़ जवाब देने के लिए भारत ने सीमा पर तैनात किया लैंडिंग क्राफ्ट असॉल्ट युद्धपोत, जानिए कैसे करता है ये काम
China Border LAC: भारत ने तैनात किया एलसीए (Photo- File)

Indian Army on LAC: लद्दाख में भारत की सैन्य क्षमताओं को बढ़ावा देने के लिए भारतीय सेना ने एलएसी के साथ पैंगोंग झील में एक नया युद्धपोत तैनात किया है। इस युद्धपोत का नाम है लैंडिंग क्राफ्ट असॉल्ट (LCA) जो LAC पर सीमा की रक्षा के लिए तैनात किया जाएगा। लैंडिंग क्राफ्ट असॉल्ट एक वर्सेटाइल युद्धपोत है इसने लांचिग के समय ही अपनी गति और क्षमताओं की सीमा को पार कर लिया है। एलसीए की तैनाती ने पूर्वी लद्दाख में पानी से आने वाली मुश्किलों से निकलने में ज्यादा सक्षम बना दिया है।

सेना के अधिकारियों ने बताया कि एलसीए को एक्वेरियस शिप यार्ड लिमिटेड गोवा में स्वदेशी तकनीकि से तैयार किया गया है। इतना ही नहीं एलएसी पर पहले से बेहतर क्षमता के साथ कई अन्य प्लेटफॉर्म डेवलप किए गए हैं। ये प्लेटफॉर्म भारतीय सेना की मजबूती और वहां तैनात करने के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण हैं।

इन्फैंट्री प्रोटेक्टेड मोबिलिटी व्हीकल

लद्दाख की उत्तरी सीमाओं पर बड़ी संख्या में पैदल सेना के जवान बिना किसी सुरक्षा और सीमित गति से चलने वाले क्षेत्र के हैं। इन क्षेत्रों में दो प्रकार के तेज रफ्तार से चलने वाले वाहनों को अपने बेड़े में शामिल करके भारतीय सेना ने इस समस्या पर भी काफी हद तक काबू पा लिया है। पहला वाहन टाटा एडवांस सिस्टम्स लिमिटेड का बनाया गया इन्फैंट्री प्रोटेक्टेड मोबिलिटी व्हीकल है जो मिनी बीएमपी की तरह है।

तेजी से मूवमेंट के अलावा यह वाहन अपने अंदर के पैदल सेना के जवानों को बेहतर सुरक्षा प्रदान करता है। ये मोबिलिटी व्हीकल एक बख्तरबंद सैन्यकर्मियों को ले जाने वाला वाहन है जिसका उपयोग तेजी से गश्त और टोही और आक्रामक अभियानों जैसे कई तरह के मिशनों के लिए सैनिकों को जल्दी से ले जाने के लिए सक्षम है।

क्विक रिएक्शन फाइटिंग व्हीकल

पूर्वी लद्दाख में सैनिकों की गतिशीलता बढ़ाने के लिए इन्फैंट्री मोबिलिटी प्रोटेक्टेड व्हीकल के साथ दूसरा वाहन क्विक रिएक्शन फाइटिंग व्हीकल है। यह सैनिकों की तेजी से तैनाती की सुविधा देता है। ये जवानों को दुश्मन के हमले के दौरान तेजी से प्रतिक्रिया देने में सक्षम बनाएगा। वाहन टाटा एडवांस्ड सिस्टम्स लिमिटेड से खरीदे गए हैं। ये हाई स्पीड की बढ़ी हुई मारक क्षमता और सुरक्षा वाला वाहन हैं। यह उत्तरी सीमाओं में हमारा प्रभुत्व स्थापित करने में मदद करेगा।

सियाचिन जैसे इलाकों के लिए सौर ऊर्जा प्रोजेक्ट

सियाचिन ग्लेशियर देश के सबसे चुनौतीपूर्ण इलाके और परिचालन क्षेत्रों में से एक है। विभिन्न उपकरणों को संचालित करने के लिए क्षेत्र में बिजली की पूरी आवश्यकता केवल कैप्टिव जनरेटर के माध्यम से पूरी की जाती थी। इसके लिए मिट्टी के तेल और ऊर्जा के अन्य पारंपरिक स्रोतों का उपयोग प्रमुख था। पूरी ऊर्जा आवश्यकताओं में सुधार और जीवाश्म ईंधन पर निर्भरता को कम करने के लिए अब एक सौर फोटो-वोल्टेइक संयंत्र स्थापित किया गया है। सौर संयंत्र ने परतापुर में बिजली की आपूर्ति में काफी बढ़ोतरी की है। उपयोग की गई ऊर्जा का उपयोग जीविका, सुरक्षा प्रकाश, अस्पताल और प्रमुख प्रतिष्ठानों के लिए किया जा रहा है।

एक प्रणाली के रूप में फ्यूचर इन्फैंट्री सोल्जर

फ्यूचर इन्फैंट्री सोल्जर को तीन प्राइमरी सब सिस्टम से लैस किया जा रहा है। पहला सब सिस्टम दिन और रात के होलोग्राफिक और रिफ्लेक्स जगहों के साथ अत्याधुनिक असॉल्ट राइफल है। ये आवश्यकता के आधार पर, एक थर्मल इमेजर की तरह से उपयोग की जाएगी। ये 360 डिग्री पर भी सटीक वार करने में सक्षम रहेगी इसके अलावा हेलमेट पर भी ये कई जगहों पर लगाई जाएगी। प्राइमरी वेपन प्रणाली के अलावा, सैनिकों को मल्टी-मोड हैंड ग्रेनेड भी दिया जाएगा।

पढें राष्ट्रीय (National News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट