ताज़ा खबर
 

अलकायदा ने कहा- पाकिस्तान के बहकावे में न आएं भारत, पाकिस्तान और बांग्लादेश के मुसलमान

अलकायदा ने मुस्लिम युवाओं को आगाह करते हुए कहा है कि उन्हें दोस्त और दुश्मन में अंतर करने आना चाहिए, इसके साथ ही यह भी मालूम होना चाहिए कि कौन आपका समर्थक है और कौन आपकी भावनाओं से अपने स्वार्थ के लिए खेल रहा है।

अलकायदा ने कहा- पाकिस्तान के बहकावे में न आएं भारत, पाकिस्तान और बांग्लादेश के मुसलमान

कश्मीर में अशांति के बीच भारतीय उपमहाद्वीप में सक्रिय अलकायदा ने पाकिस्तान सरकार पर हमला बोला है। अपने ताजा बयान में अलकायदा ने पाक सरकार, वहां की आर्मी और खुफिया एजेंसी आईएसआई को गद्दार करार देते हुए उस पर कश्मीरियों के साथ धोखा करने का आरोप मढ़ा है। अलकायदा के मुताबिक पाकिस्तान ने ऐसा जानबूझकर किया है ताकि वो अपने स्वार्थों को पूरा कर सके। अलकायदा ने मुस्लिम युवाओं को आगाह करते हुए कहा है कि उन्हें दोस्त और दुश्मन में अंतर करने आना चाहिए, इसके साथ ही यह भी मालूम होना चाहिए कि कौन आपका समर्थक है और कौन आपकी भावनाओं से अपने स्वार्थ के लिए खेल रहा है। भारत, पाकिस्तान और बांग्लादेश के मुस्लिमों के नाम “जिहाद ऑफ कश्मीर: ए कॉल टू रिफ्लेक्शन एंड एक्शन” नाम के अपने संदेश में अलकायदा के प्रवक्ता उस्ताद उस्मा महमूद ने कहा, “इतिहास इस तथ्य के सबूत देता है कि पाकिस्तानी एजेंसियों के सहयोग और देखरेख में हुए जिहाद से हमें अबतक कोई फायदा नहीं मिला बल्कि कश्मीरियों पर और अत्याचार बढ़ गए।”

अलकायदा के भारतीय उप महाद्वीप के प्रवक्ता ने कहा, “मेरे प्यारे कश्मीरी भाइयों…क्या यह सही समय नहीं है कि अब हम उन्हें गुड बाय कहें, जिन्होंने हमारी इच्छाओं और सहानुभूति से खिलवाड़ किया और हमेशा के लिए कश्मीर मुद्दे को एक मुद्दा बनाकर उलझाए रखा। चाहे वह यूएन के रूप में एक शैतानी संसद हो या फिर पाकिस्तानी सेना या सरकार के धोखेबाज एजेंट। दीन-हीन कश्मीरी इनके लिए एक मोहरा भर हैं और कश्मीर इन भ्रष्ट लोगों के लिए एक अनैतिक व्यापार है।” 11 पन्नों के अपने संदेश को अलकायदा ने हिन्दी, अंग्रेजी, उर्दू और बांग्ला में जारी किया है।

कश्मीर में कई वर्षों से जारी जिहाद के इतिहास की परतों को खोलते हुए 11 पन्नों के संदेश में महमूद ने कहा, ‘मिलिट्री ऑपरेशन का उद्देश्य कश्मीरी लोगों को मदद पहुंचाना नहीं है बल्कि उनके अपने मकसद हैं। वहां धन इकट्ठा करना और विलासिता के लिए स्वांग रचना उनकी नीति है। भारत और कश्मीर के मुसलमानों की रक्षा करने का पाकिस्तान का कोई इरादा नहीं है।’ महमूद ने सवालिया लहजे में कहा कि ‘एक सैनिक डॉलर लेकर कैसे इस्लाम की रक्षा कर रहा है जब वो खुद मुसलमानों को मार रहा है, मस्जिदों और मदरसों में बम विस्फोट कर रहा है। वो इस्लाम के शरिया और लोगों की रक्षा कत्तई नहीं कर रहा है। कैसे वे लोग अपने रोजगार को जोखिम में डाल सकते हैं, जब वो खुद किसी के अत्याचार पर वेतन के सुख का आनंद उठा रहा हो।’ अलकायदा ने अपने संदेश में मुसलमानों से मुजाहिद और मिलिट्री मैन के बीच के अंतर को समझने की अपील की है और भारत-पाकिस्तान के मुसलमानों की रक्षा और उनके हित में जिहाद करने की अपील की है जो शरिया पर आधारित हो।

Read Also-स्वाति मालीवाल का आरोप- जिस्मफरोशी कराते हैं मोदी सरकार के एक मंत्री, जांच रुकवाने के लिए कराई मुझ पर FIR

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App