ताज़ा खबर
 

भागलपुर: सामूहिक रूप से नमाज अदा न करने की अपील

जवाहरलाल नेहरू भागलपुर मेडिकल कालेज अस्पताल में 130 बिस्तर, नौगछिया, कहलगांव और सदर अनुमंडल अस्पताल में 30-30 बिस्तर यानी जिले में 220 बिस्तर वाले मरीजों के वास्ते पृथक वार्ड बनाए गए हैं।

Author भागलपुर | Updated: March 24, 2020 4:22 AM
Coronavirus In India: कोरोना वायरस से पूरी दुनिया में खौफ का माहौल है।

भागलपुर के जिलाधीश प्रणब कुमार ने सोमवार को प्रेस कांफ्रेंस कर कहा कि मुसलिम धार्मिक गुरुओं के साथ बैठक कर सामूहिक तौर पर नमाज अदा न करने की अपील की गई है। खानगाह और मस्जिद से इस बात का एलान करने को उन्हें कहा गया कि वे नमाज अदा करने वालों से अनुरोध करें कि घरों से ही इबादत करे। क्योंकि कोरोना संक्रमण को रोकने का एकमात्र उपाय सावधानी बरतना है। अपने को भीड़ से पृथक कर इससे बचा जा सकता है।

जिलाधीश ने कहा कि पर्व-त्योहार भी बड़े पैमाने पर नहीं मनाए जा सकेंगे। उनका मतलब सामने रामनवमी त्योहार से था। ऐसे आयोजनों को सामूहिक तौर पर मनाने की छूट ऐसे हालात में नहीं दी जा सकती। बैठक हिंदू धर्म के लोगों के साथ भी डीएम ने की है।

उधर, कोरोना संक्रमण को लेकर बिहार में बंदी के आदेश की भागलपुर में धज्जियां उड़ रही है। सार्वजनिक वाहन आटो, ई-रिक्शा, माल ढोने वाले वाहन सड़कों पर दौड़ रहे है। लोग भी घरों से निकल सरकार की अपील का मजाक उड़ा रहे है। सब्जी मंडी में भीड़ से संक्रमण फैलने का खतरा है। इस सवाल पर जिलाधीश ने सख्ती बरतने की बात कही है। उनका कहना था कि 22 मार्च को जनता कर्फ्यू था। इसके बाद बिहार में बंदी करने की सूचना आधिकारिक तौर पर मिली। लोगों तक संदेश सुबह पहुंचा। बाजार तो बंद है। मगर लोग लॉकडाउन का मतलब नहीं समझ रहे।

इसके लिए प्रेस कांफ्रेंस में मौजूद एसएसपी आशीष भारती को सख्ती से पालन कराने की हिदायत दी गई। जिलाधीश ने साथ ही कहा कि लोग घरों में अपने को कैद कर कोरोना संक्रमण को रोकने में खुद और सरकार की मदद करें।

जिलाधीश ने इस बात पर राहत की सांस ली कि भागलपुर में अब तक कोरोना संक्रमण का एक भी पॉजीटिव रिपोर्ट वाला मरीज नहीं है। ऐसे जवाहरलाल नेहरू भागलपुर मेडिकल कालेज अस्पताल में 130 बिस्तर, नौगछिया, कहलगांव और सदर अनुमंडल अस्पताल में 30-30 बिस्तर यानी जिले में 220 बिस्तर वाले मरीजों के वास्ते पृथक वार्ड बनाए गए हैं। चार वाहनों के साथ डॉक्टरों की टीम मौजूद है। खबर मिलते ही मरीज के उपचार का इंतजाम किया जा रहा है। फिर भी गांवों में इसे फैलने से रोकने के लिए प्रखंड व पंचायतों को साफ-सफाई रखने के लिए जागरूकता अभियान चलाने का निर्देश दिया है।

जिलाधीश कुमार ने प्रेस कांफ्रेंस में इस बात पर बार-बार जोर दिया कि सावधानी-सतर्कता जरूरी है। आवागमन बहुत जरूरी होने पर ही करे। सार्वजनिक वाहन बंद हैं। निजी वाहनों का इस्तेमाल भी कम से कम हो। इस बात का लोगों को ध्यान रखना चाहिए।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 एम्स की ओपीडी अगले आदेश तक बंद, सामान्य मरीजों की छुट्टी
2 जनसत्ता संवाद: आई फेन – कोरोना पर चीन की पोल खोलने वाली डॉक्टर
3 जनसत्ता संवाद: सामुदायिक संक्रमण और अलगाव का डर