ताज़ा खबर
 

कोई भी नेता कांग्रेस का अध्यक्षीय चुनाव लड़ सकता है: दिग्विजय सिंह

कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने कहा कि पी चिदम्बरम समेत किसी भी नेता को कांग्रेस पार्टी प्रमुख बनने के लिए चुनाव लड़ने से कोई नहीं रोक रहा है। उनकी टिप्पणी से इस मुद्दे पर विवाद ने फिर तूल पकड़ लिया है। दिग्विजय की इस टिप्पणी के कुछ ही देर बाद भाजपा ने यह सवाल कर […]

Author November 24, 2014 4:04 PM
दिग्विजय सिंह ने कहा, ‘‘अच्छे दिन सिर्फ मोदी और अमित शाह के लिए आए हैं।’’

कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने कहा कि पी चिदम्बरम समेत किसी भी नेता को कांग्रेस पार्टी प्रमुख बनने के लिए चुनाव लड़ने से कोई नहीं रोक रहा है। उनकी टिप्पणी से इस मुद्दे पर विवाद ने फिर तूल पकड़ लिया है। दिग्विजय की इस टिप्पणी के कुछ ही देर बाद भाजपा ने यह सवाल कर डाला कि क्या राहुल गांधी के नेतृत्व की प्रभावशीलता को लेकर कांग्रेस के अंदर ही सवाल उठने लगे हैं।

दिग्विजय सिंह ने कहा, ‘‘चिदम्बरम तथा गांधी परिवार से बाहर के किसी भी नेता को पार्टी अध्यक्ष (पद) का चुनाव लड़ने की पूरी आजादी है। कोई उन्हें रोक नहीं रहा, किसी गैर गांधी को कांग्रेस का अध्यक्षीय चुनाव लड़ने से किसी ने नहीं रोका है।’’

उन्होंने कहा, ‘‘चिदम्बरम चुनाव लड़ने के लिए स्वतंत्र हैं, गांधी परिवार ने किसी भी गैर गांधी को चुनाव लड़ने से नहीं रोका है।’’
यह टिप्पणी ऐसे समय में आयी है जब कुछ दिन पहले पूर्व वित्त मंत्री ने एक साक्षात्कार में कहा था कि गांधी परिवार से बाहर का व्यक्ति कांग्रेस का अध्यक्ष बन सकता है।

एक समाचार चैनल ने जब साक्षात्कार में चिदम्बरम से पूछा था कि क्या कोई गैर गांधी कांग्रेस अध्यक्ष बन सकता है तो उन्होंने कहा था, ‘‘मुझे ऐसा लगता है, एक दिन ऐसा होगा।’’

जब उनसे इसकी समय सीमा के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा, ‘‘मैं नहीं जानता।’’चिदम्बरम ने यह भी कहा था कि पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी एवं उपाध्यक्ष राहुल गांधी समेत शीर्ष कांग्रेस नेतृत्व को प्राय: बोलना चाहिए। उनके इस बयान से कांग्रेस के अंदर कई नेता चकित हो गए थे जिन्होंने महसूस किया कि यह ऐसे समय अटकलों को हवा देने जैसा है जब पार्टी लोकसभा चुनाव तथा महाराष्ट्र एवं हरियाणा के विधानसभा चुनावों में हार के सदमे से उबर नहीं पायी है।

बाद में पार्टी ने अपने नेताओं को मीडिया के माध्यम से सुझाव देने के बजाय सीधे नेतृत्व से बात करने को कहा था। दिग्विजय सिंह की टिप्पणी से इस मुद्दे के फिर सामने आने पर भाजपा नेता नलिन कोहली ने कहा, ‘‘यह उन्हें तय करना है कि क्या वे चाहते हैं कि पार्टी का नेतृत्व एक ही परिवार के हाथों में रहे या उसका विस्तार हो। असली मुद्दा यह है कि इस लोकतांत्रिक व्यवस्था में कांग्रेस पार्टी अपने को किस तरह देखती है?’’
उन्होंने कहा, ‘‘इससे प्रश्न उठता है कि क्या राहुल गांधी के नेतृत्व की प्रभावशीलता पर कांग्रेस के अंदर बहस चल रही है।’’

उन्होंने कहा कि हाल के चुनावों में हार के बाद यह तय करना कांग्रेस नेताओं का काम है कि उनकी पार्टी की अगुवाई कौन करे।
कोहली ने कहा, ‘‘कांग्रेस की अगुवाई कौन करता है, यह भाजपा का विषय नहीं है। यह पूरी तरह कांग्रेस का विशेषाधिकार है।’’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App