ताज़ा खबर
 

AAP विधायकों पर संकट, अब अन्‍ना बोले- मैंने पहले ही केजरीवाल से कहा था पार्टी मत बनाओ

अन्ना हजारे ने कहा है कि भ्रष्टाचार के खिलाफ किए गए आंदोलन में केजरीवाल उनके साथ थे, लेकिन जैसे ही उन्होंने पार्टी बनाने का फैसला किया, उनके रास्ते अलग हो गए। अन्ना ने बताया कि उन्होंने पहले ही केजरीवाल से कहा था कि वह पार्टी ना बनाएं।

अन्ना हजारे और अरविंद केजरीवाल (PTI फोटो/एक्सप्रेस फोटो)

चुनाव आयोग द्वारा दिल्ली की आप सरकार के 20 विधायकों को लाभ का पद मामले में अयोग्य घोषित किए जाने के बाद अब समाजसेवी अन्ना हजारे ने सीएम अरविंद केजरीवाल को लेकर बड़ी बात कही है। उन्होंने कहा है कि भ्रष्टाचार के खिलाफ किए गए आंदोलन में केजरीवाल उनके साथ थे, लेकिन जैसे ही उन्होंने पार्टी बनाने का फैसला किया, उनके रास्ते अलग हो गए। अन्ना ने कहा कि उन्होंने पहले ही केजरीवाल से कहा था कि वह पार्टी ना बनाएं। लोकपाल को लेकर आंदोलन करने वाले समाजसेवी अन्ना ने बताया, ‘हमारे रास्ते उसी दिन अलग हो गए थे, जिस दिन केजरीवाल ने पार्टी बनाई थी। हम लोग अब संपर्क में नहीं हैं। मैंने पहले ही केजरीवाल को पार्टी बनाने से मना किया था। पार्टी बनाकर देश के लिए काम नहीं किया जा सकता। अगर ऐसा होता तो आजादी के 70 सालों बाद आज देश की हालत कुछ और ही होती।’

दरअसल चुनाव आयोग ने आप के 20 विधायकों को ‘लाभ का पद’ मामले में अयोग्य घोषित करते हुए उनकी सदस्यता रद्द करने की सिफारिश राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को भेजी है। चुनाव आयोग की ओर से की गई इस कार्रवाई पर खुद आम आदमी पार्टी की ओर से भी प्रतिक्रिया दी गई है। पार्टी ने चुनाव आयोग को मोदी ‘कमीशन करार’ दिया है।

पार्टी की मध्य प्रदेश इकाई ने चुनाव आयोग पर बड़ा हमला बोलते हुए कहा है कि एमपी में 118 विधायक लाभ के पद पर हैं, लेकिन उनके खिलाफ कार्रवाई नहीं की गई। 20 आप विधायकों की सदस्यता रद्द करने की सिफारिश राष्ट्रपति कोविंद को भेजने पर आप की ओर से यह कहा गया है कि चुनाव आयोग हर फैसला मोदी सरकार के दबाव में कर रहा है। वहीं पार्टी के सदस्य कुमार विश्वास ने चुनाव आयोग की ओर से की गई इस कार्रवाई पर दुख जताते हुए सीएम अरविंद केजरीवाल पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि केजरीवाल ने उनकी सलाह नहीं मानी। विश्वास ने कहा कि उन्होंने सीएम को सुझाव दिया था कि पार्टी के पास आदर्श शास्त्री, संजीव झा और सरिता जैसे लोग हैं, तो उन्हें मंत्रिमंडल में शामिल किया जाना चाहिए, लेकिन उनकी सलाह नहीं मानी गई।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App