ताज़ा खबर
 

केंद्रीय मंत्री अनिल माधव दवे का दिल का दौरा पड़ने से निधन, पीएम नरेंद्र मोदी ने जताया शोक

Anil Madhav Dave News: बताया जा रहा है कि वह कुछ समय से बीमार चल रहे थे।

Anil Madhav Dave, Anil Madhav, Anil Madhav Dave death news, Anil Madhav Dave death, Anil Madhav Dave passes away, Anil Madhav bjpकेंद्रीय पर्यावरण राज्य मंत्री अनिल माधव दवे का दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया।

केंद्रीय पर्यावरण मंत्री अनिल माधव दवे का दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया। वह कुछ समय से बीमार चल रहे थे। उन्होंने दिल्ली स्थित AIMS हॉस्पिटल में अंतिम सांस ली। पीएम नरेंद्र मोदी ने दवे के निधन पर दुख जताया है। मध्य प्रदेश के उज्जैन में जन्में दवे 61 वर्ष के थे। वह एक कमर्शियल पायलट भी थे। मध्य प्रदेश में शिवराज सिंह की जीत में उन्होंने अहम भूमिका निभाई थी। उनके निधन पर मध्य प्रदेश में दो दिन का शोक घोषित किया गया है। इसके अलावा उत्तर प्रदेश विधानसभा सत्र में भी निधन पर शोक व्यक्त किया गया। अनिल माधव दवे की अंत्येष्टि 19 मई को वसीयत में जताई गई उनकी इच्छा के मुताबिक होशंगाबाद जिले के बांद्राभान में नर्मदा नदी के तट पर होगी। दवे का गुरुवार की सुबह हृदय गति रुक जाने से दिल्ली में देहावसान हो गया। उसके बाद उनके द्वारा 23 जुलाई, 2012 को लिखी एक वसीयत सामने आई, जिसमें उन्होंने लिखा है, “संभव हो तो मेरा दाह संस्कार बांद्राभान में नदी महोत्सव वाले स्थान पर किया जाए।”

दवे का जन्म 6 जुलाई 1956 को उज्जैन के भदनगर में हुआ था। दवे शुरुआत से ही आरएसएस से जुड़े हुए थे और नर्मदा नदी बचाओ अभियान में काम कर रहे थे। पर्यावरण को बचाने के लिए उन्होंने कई किताबें भी लिखीं। पर्यावरण मंत्री के तौर पर उनके कार्यकाल को अभी एक वर्ष भी पूरा नहीं हुआ था। वह 2009 में राज्यसभा सांसद चुने गए थे। उस समय उन्हें जल संरक्षण समिति का मेंबर बनाया गया था। 2010 में मार्च से जून माह तक दवे ग्लोबल वॉर्मिंग और क्लाइमेट चेंज के संसदीय मंच के सदस्य भी थे।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्विटर पर लिखा, “मेरे दोस्त और एक बहुत ही सम्मानित सहयोगी के अचानक निधन से हैरान हूं। पर्यावरण मंत्री अनिल माधव दवे जी को मेरी संवेदना। अनिल माधव दवे जी को जन सेवक के रूप में याद किया जाएगा। वह पर्यावरण के संरक्षण के प्रति बहुत ही जागरुक थे। मैं अनिल माधव डेव जी के साथ कल शाम देर तक प्रमुख नीतिगत मुद्दों पर चर्चा कर रहा था। यह मौत व्यक्तिगत नुकसान है।”

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने लिखा, “आदरणीय श्री अनिल दवे के रूप में देश ने एक सच्चा देशभक्त और माँ नर्मदा का सपूत खो दिया है। इस क्षति की भरपाई कभी न हो सकेगी।”

देखिए अनिल माधव दवे से संबंधित कुछ वीडियोज:

Next Stories
1 कार्ति चिदंबरम पर कसा दोहरा शिकंजा, सीबीआई के बाद ईडी भी दर्ज करेगा केस
2 बोफोर्स के तीन दशक बाद भारतीय सेना को मिली नई तोपें, पोखरण में आज होगा परीक्षण, जानिए क्या है खूबी
3 तीन तलाक पर सुप्रीम कोर्ट ने आॅल इंडिया मुसलिम पर्सनल लॉ बोर्ड से पूछा- महिलाओं को ना कहने का विकल्प दिया जाए?
यह पढ़ा क्या?
X