आंध्रप्रदेशः YSRCP वर्कर्स ने टीडीपी के सेंट्रल ऑफिस में की तोड़फोड़, प्रवक्ता के घर पर भी धावा बोला

वाईएसआरसीपी के कार्यकर्ताओं ने टीडीपी के सेंट्रल ऑफिस में तोड़फोड़ की है और टीडीपी के राष्ट्रीय प्रवक्ता पट्टाभि राम के घर पर भी हमला किया है।

Andhra Pradesh
वाईएसआरसीपी के कार्यकर्ताओं का आरोप है कि पट्टाभि राम ने मीडिया से बातचीत के दौरान मुख्यमंत्री के लिए अपशब्द कहे हैं। (फोटो सोर्स- ANI)

आंध्र प्रदेश के मंगलागिरी में वाईएसआरसीपी के कार्यकर्ताओं ने टीडीपी के सेंट्रल ऑफिस में तोड़फोड़ की है और टीडीपी के राष्ट्रीय प्रवक्ता पट्टाभि राम के घर पर भी हमला किया है।

वाईएसआरसीपी के कार्यकर्ताओं का आरोप है कि पट्टाभि राम ने मीडिया से बातचीत के दौरान मुख्यमंत्री वाईएस जगन मोहन रेड्डी के लिए अपशब्द कहे हैं।

वहीं इस मामले को लेकर आंध्र प्रदेश टीडीपी के अध्यक्ष अच्चननायडू ने वाईएसआरसीपी पर निशाना साधा है। नायडू ने कहा है कि वाईएसआरसीपी के गुंडों द्वारा किए गए हमले की हम निंदा करते हैं। हमें ये समझ नहीं आता कि हम लोकतांत्रिक देश में रह रहे हैं या फांसीवादी युग में। सीएम और डीजीपी को इन हमलों की जिम्मेदारी लेनी चाहिए।

उन्होंने ये भी कहा कि सीएम कानून व्यवस्था को कंट्रोल नहीं कर पा रहे हैं। उन्हें इस्तीफा देना चाहिए।

गौरतलब है कि एक महीने पहले ही आंध्रप्रदेश में सत्तारूढ़ वाईएसआर कांग्रेस ने राज्य में मंडल और जिला परिषदों के चुनावों में शानदार जीत हासिल की थी। वाईएसआर कांग्रेस ने टीडीपी को करीब 13 जिलों में हराया था।

वाईएसआर कांग्रेस ने जिला परिषद निर्वाचन क्षेत्रों (जेडपीटीसी) की 553 सीटों में से 547 पर जीत हासिल की थी और मंडल परिषद प्रादेशिक निर्वाचन क्षेत्रों (एमपीटीसी) की 8063 सीटों में से 7284 पर परचम लहराया था। इसके बाद से वाईएसआरसीपी के कार्यकर्ताओं का हौसला बढ़ा हुआ है और वह इस तरह तोड़फोड़ की घटनाओं को अंजाम दे रहे हैं।

जगनमोहन रेड्डी कौन हैं?

जगनमोहन रेड्डी आंध्र प्रदेश के वर्तमान मुख्यमंत्री हैं। वह पूर्व सीएम वाईएस राजशेखर रेड्डी के बेटे हैं, जिनका साल 2009 में एक हवाई दुर्घटना में निधन हो गया था।

जगन के बारे में कहा जाता है कि उन्होंने साल 2004 में कडप्पा से सांसद बनने की कोशिश की थी लेकिन कांग्रेस ऐसा नहीं चाहती थी, जिसके बाद जगन को अपना सपना पूरा करने के लिए साल 2009 तक इंतजार करना पड़ा।

हालांकि फिर कडप्पा सीट से कांग्रेस उम्मीदवार के रूप में जीत दर्ज कर उन्होंने राजनीति में कदम रखा, लेकिन इसी साल उनके पिता की हेलिकॉप्टर दुर्घटना में मौत ने उनका जीवन बदल दिया।

पिता की मौत के बाद कांग्रेस ने उन्हें नजरअंदाज कर दिया और श्रद्धांजलि यात्रा निकालने तक की अनुमति नहीं दी। कांग्रेस ने के रोसैय्या को राज्य का नया सीएम बनाया, जिससे नाराज होकर जगनमोहन रेड्डी ने नई पार्टी के गठन किया और कांग्रेस से अलग हो गए।

रेड्डी ने साल 2011 में अपने पिता के नाम पर वाईएसआर कांग्रेस नाम की पार्टी बनाई और आज वह इसी पार्टी से आंध्र प्रदेश के सीएम बने हैं। वह लगातार कांग्रेस और चंद्रबाबू नायडू की पार्टी टीडीपी को टक्कर देते रहे हैं, लेकिन इस बार उनकी पार्टी के कार्यकर्ताओं की हरकत की वजह से वह सवालों के घेरे में हैं।

पढें राष्ट्रीय समाचार (National News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट