ताज़ा खबर
 

नायडू के फोन टैप के मामले में फंस गए राव

तेलंगाना के मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव के खिलाफ वोट के बदले नोट विवाद की पृष्ठभूमि में आंध्रप्रदेश के अपने समकक्ष चंद्रबाबू नायडू के फोन कथित तौर पर गैरकानूनी तरीके से टैप करने के सिलसिले में एक मामला...

Author June 9, 2015 10:12 AM
तेलंगाना के मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 464, 647, 471, 166, 167 और 120बी के तहत मामला दर्ज किया गया है।

वोट के बदले नोट घोटाले में सोमवार को एक नया मोड़ आ गया, जब आंध्र प्रदेश पुलिस ने तेलंगाना के मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव के खिलाफ आंध्र प्रदेश में अपने समकक्ष चंद्रबाबू नायडू के फोन कथित तौर पर गैरकानूनी तरीके से टैप करने के सिलसिले में एक मामला दर्ज किया।

आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू और मनोनीत विधायक एल्विस स्टीफेंसन की एक कथित बातचीत का आडियो टेप स्थानीय टीवी चैनलों पर प्रसारित होने के संदर्भ में तेदेपा नेताओं ने राज्यपाल ईएसएल नरसिम्हन से हस्तक्षेप करने की मांग भी की है। इन नेताओं ने राव पर उनकी पार्टी की छवि खराब करने के लिए द्वेषपूर्ण प्रयास करने का आरोप लगाया है।

थ्री टाउन पुलिस थाने के निरीक्षक बी तिरुमला राव ने बताया कि एक स्थानीय वकील एनवीवी प्रसाद की शिकायत के बाद राव के खिलाफ एक मामला दर्ज किया गया है। शिकायत में यह भी आरोप लगाया गया है कि तेलंगाना में सत्तारूढ़ टीआरएस के नेता अपने तेदेपा समकक्षों की जासूसी कर रहे हैं। भारतीय दंड संहिता की धारा 464, 647, 471, 166, 167 और 120 बी के तहत मामला दर्ज किया गया है।

आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू और मनोनीत विधायक एल्विस स्टीफेंसन की एक कथित बातचीत का आडियो टेप स्थानीय टीवी चैनलों पर प्रसारित होने से वोट के बदले नोट विवाद में एक नया मोड़ आ गया। यह विवाद विधान परिषद चुनावों में पार्टी के उम्मीदवार के पक्ष में वोट देने के एवज में तेदेपा की ओर से विधायक को रिश्वत देने के कथित प्रयास से संबंधित है। आंध्र प्रदेश सरकार के सलाहकार (संचार) परकाला प्रभाकर ने रविवार को इन खबरों से कड़ाई से इनकार किया और कहा कि टेप गढ़े गए हैं और आंध्र प्रदेश सरकार मामले को गंभीरता से लेगी।

इस वीडियो की कथित बातचीत से लगता है कि आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री विधायक को तेलंगाना विधान परिषद चुनाव में तेदेपा उम्मीदवार को वोट देने के लिए हर तरह का आश्वासन दे रहे हैं। प्रभाकर ने आरोप लगाया कि तेलंगाना सरकार घटिया तरीकों का इस्तेमाल करके आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री की छवि धूमिल करने का प्रयास कर रही है।
उन्होंने कहा- यह मुख्यमंत्री की बातचीत नहीं है। वे बाहर कैसे उपलब्ध हो सकते हैं। तेलंगाना सरकार को इसका जवाब देना होगा। तेलंगाना के मुख्यमंत्री और गृह मंत्री को जवाब देना चाहिए। प्रभाकर ने कहा कि तेलंगाना के मुख्यमंत्री इस तरह की हरकतों से आंध्र प्रदेश की जनता को गुमराह करने की कोशिश कर रहे हैं।

तेलंगाना का भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो तेदेपा विधायक रेवांथ रेड्डी और दो अन्य से पूछताछ करने की प्रक्रिया में है, जिन्हें वोट के बदले नोट मामले में गिरफ्तार किया गया है। भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो ने 31 मई को रेड्डी को गिरफ्तार किया था। रेड्डी को तेलंगाना विधान परिषद के चुनाव में तेदेपा उम्मीदवार को वोट देने के लिए मनोनीत विधायक एल्विस स्टीफेंसन को कथित तौर पर रिश्वत देने की कोशिश के आरोप में गिरफ्तार किया गया।

स्टीफेंसन की शिकायत के आधार पर भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो के अधिकारियों ने रेवांथ, सेबेस्टियन हैरी और उदय सिन्हा को पकड़ा। इन तीनों को स्टीफेंसन को 50 लाख रुपए से अधिक की रकम कथित तौर पर देते हुए पकड़ा गया।

इस बीच, तेदेपा नेताओं ने राज्यपाल नरसिम्हन से चुप न रहने की अपील की है। तेदेपा के वरिष्ठ नेता पय्यावुला केशव ने कहा कि उन्हें केसीआर की इस द्वेषपूर्ण साजिश को रोकना चाहिए। नरसिम्हन के पास दोनों ही राज्यों का प्रभार है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App