ताज़ा खबर
 

”नरेंद्र मोदी सिर्फ प्रचार पीएम, 2019 में पक्‍का हारेगी भाजपा”

नायडू ने कहा कि घोटालों के कारण लोगों का बैंकिंग प्रणाली से भरोसा उठ गया है। ऐसा इस देश में पहले कभी नहीं हुआ था। एक सर्वे के मुताबिक, केंद्र सरकार में 61 फीसदी भ्रष्टाचार है, लेकिन ये लोग इसे भ्रष्टाचार मुक्त सरकार बताकर झूठा प्रचार कर रहे हैं।

Author May 28, 2018 11:16 AM
आंध्र प्रदेश के सीएम चंद्रबाबू नायडू और पीएम मोदी की फाइल फोटो।

आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री एन. चंद्रबाबू नायडू ने रविवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधते हुए कहा कि वह सिर्फ प्रचार पर ही बचे हुए हैं। उन्होंने भविष्यवाणी की कि अगले आम चुनाव के बाद क्षेत्रीय दल सत्ता में आएंगे और उनकी पार्टी राष्ट्रीय राजनीति में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगी। मोदी सरकार के चार साल का कार्यकाल पूरा होने के एक दिन बाद राजग से नाता तोड़ चुकी तेलुगू देशम पार्टी (तेदेपा) के प्रमुख ने इसे ‘बातें ज्यादा और काम कम करने वाली सरकार’ करार दिया। अपनी पार्टी के 34वें महानाडु को संबोधित करते हुए उन्होंने यह भी भविष्यवाणी कि अगले आम चुनाव के बाद क्षेत्रीय दल सत्ता में आएंगे और उनकी पार्टी राष्ट्रीय राजनीति में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगी।

आंध्र प्रदेश को विशेष राज्य का दर्जा देने से केंद्र के इनकार पर तेदेपा ने भाजपा नीत राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) का साथ छोड़ दिया था। राजग से अलग होने के बाद तेदेपा का यह पहला सम्मेलन था। तेदेपा नेता ने मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि मेक इन इंडिया, स्टार्टअप इंडिया और स्टैंड अप इंडिया जैसे मशहूर नारों ने वांछित परिणाम नहीं दिए। इनका सिर्फ जोर-शोर से प्रचार किया गया। पार्टी के तीन दिवसीय सम्मेलन के उद्घाटन संबोधन में तेदेपा प्रमुख ने जनसमूह से पूछा, “मोदी की योजनाओं से किसी भी व्यक्ति को फायदा हुआ?” जनसमूह से आवाज गूंजी, “नहीं! कोई फायदा नहीं हुआ।”

नायडू ने कहा, “नोटबंदी ने भारतीय बैंकिंग प्रणाली को धवस्त कर दिया और लोगों को अपनी मेहनत के पैसे पाने के लिए कई-कई दिन बैंकों के चक्कर लगाने पड़े, कतारों में धक्के खाने पड़े। मोदी ने कहा था कि नोटबंदी से भ्रष्टाचार खत्म हो जाएगा और तुरंत बैंकों में ही भ्रष्टाचार शुरू हो गया। रही-सही कसर नीरव मोदी एंड पार्टी ने पूरी कर दी।” उन्होंने आरोप लगाया कि जीएसटी ने आम आदमी की जेब पर अतिरिक्त बोझ डाल दी, सामान बेचने वाले व्यापारी तक परेशान हैं।

नायडू ने कहा कि घोटालों के कारण लोगों का बैंकिंग प्रणाली से भरोसा उठ गया है। ऐसा इस देश में पहले कभी नहीं हुआ था। एक सर्वे के मुताबिक, केंद्र सरकार में 61 फीसदी भ्रष्टाचार है, लेकिन ये लोग इसे भ्रष्टाचार मुक्त सरकार बताकर झूठा प्रचार कर रहे हैं। उन्होंने याद दिलाया कि कृषि क्षेत्र को सुधारने के लिए स्वामीनाथन समिति की रिपोर्ट को लागू करने का भाजपा के चुनावी वादे का क्या हुआ। नायडू ने कहा कि भाजपा का ‘ए पार्टी विद डिफरेंस’ का दावा हास्यास्पद है, क्योंकि कर्नाटक में उसके नेता विधायकों को खरीदने की कोशिश करते रंगे हाथ पकड़े गए।

आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री ने कहा कि मोदी को कावेरी जल विवाद का उपयोग कर राज्य की राजनीति में हस्तक्षेप करने की सूझी, मगर तमिलनाडु में सार्वजनिक विरोध का सामना करना पड़ा। नायडू ने यह भी आरोप लगाया कि केंद्र सरकार आंध्र प्रदेश से तेलंगाना राज्य को अलग करने के दौरान सरकार द्वारा किए गए वादों को पूरा करने की मांग का बदला ले रही है। उन्होंने यह भी दावा किया कि मोदी सरकार साजिश के तहत तिरुपति बालाजी मंदिर को हड़पने की कोशिश कर रही है।

तेदेपा प्रमुख ने चेतावनी दी कि इस तरह के कदम उठाने वाले किसी भी व्यक्ति को भारी कीमत चुकानी पड़ेगी। नायडू ने भविष्यवाणी करते हुए कहा कि 2019 के आम चुनाव के बाद भाजपा केंद्र की सत्ता खो देगी और केंद्र में क्षेत्रीय दल मिलकर सरकार बनाएंगे। पार्टी कार्यकर्ताओं की तालियों की गड़गड़ाहट के बीच उन्होंने कहा कि भाजपा का दोबारा सत्ता वापसी का सपना अधूरा ही रहेगा। नायडू ने कहा कि उनकी पार्टी के 70 लाख कार्यकर्ता नया आंध्र प्रदेश बनाएंगे और राष्ट्रीय राजनीति में भी बदलाव लाएंगे।

तेदेपा प्रमुख ने आंध्र और तेलंगाना, दोनों राज्यों से आए प्रतिनिधियों से कहा कि राज्य में पार्टी सत्ता में वापसी करेगी और राष्ट्रीय राजनीति में भी अहम भूमिका निभाएगी। सम्मेलन में 34 प्रस्ताव पारित किए गए। मुख्य राजनीतिक प्रस्ताव सम्मेलन के अंतिम दिन पारित होंगे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App