किसान आंदोलन: एंकर ने शो में राकेश टिकैत से पूछा- क्या कोई बीच का रास्ता निकलेगा? मिला यह जवाब

राकेश टिकैत ने आगे कहा कि 'ये कह रहे हैं कि हम लिखित में दे देंगे कि एमएसपी खत्म नहीं होगी जैसी पहली थी वैसी ही चलती रहेगी...तो हमारा विरोध उसी का ही तो है..हमें वो नहीं चाहिए जैसी पहले चल रही थी..हमको कानूनन गारंटी चाहिए

farmers protest, delhiराकेश टिकैत ने कहा कि सरकार को बिल वापस लेने ही होंगे। फोटो सोर्स – Indian Expres

किसानों का आंदोलन जारी है। किसानों का कहना है कि जब तक केंद्र सरकार नये कृषि कानूनों को खत्म नहीं करती उनका आंदोलन जारी रहेगा। इसी मुद्दे पर ‘आज तक’ के डिबेट शो में राकेश टिकैत ने कहा कि सरकार को तीनों कानून रद्द करने ही होंगे। इस मुद्दे पर चर्चा के दौरान राकेश टिकैत ने किसानों की मांगों के बारे में पहले बताते हुए कहा कि ‘हमने यह कहा है कि बड़ी कंपनी आए, छोटी कंपनी आए या कोई आए…कोई एक पैरामीटर तो होगा…और हम कह रहे हैं कि न्यूनतम समर्थन मूल्य का एक गारंटी कार्ड हमें भी दे देते..तीन बिल अगर आप किसानों के पक्ष में कर रहे हैं तो यह भी क्लॉज डालते कि कोई भी प्लेयर आएगा तो वो तय मूल्य से कम पर नहीं खरीदेगा।’

राकेश टिकैत ने आगे कहा कि ‘ये कह रहे हैं कि हम लिखित में दे देंगे कि एमएसपी खत्म नहीं होगी जैसी पहली थी वैसी ही चलती रहेगी…तो हमारा विरोध उसी का ही तो है..हमें वो नहीं चाहिए जैसी पहले चल रही थी..हमको कानूनन गारंटी चाहिए..जब बिल बन रहे थे तो यह क्लॉज भी डाल देते।’

राकेश टिकैत ने कहा कि ‘मंडी बाहर बने या अंदर कोई फर्क नहीं पड़ता,,,एमएसपी की गारंटी कार्ड चाहिए..कम से कम जो 23 फसल हैं उसपर तो कानून बन जाए।’ इसपर एंकर अंजना ओम कश्यप ने राकेश टिकैत से पूछा कि लेकिन क्या कोई बीच का रास्ता निकलेगा? क्योंकि सरकार तीनों बिल वापस लेने को तैयार नहीं है।

इसपर राकेश टिकैत ने जवाब देते हुए कहा कि ‘बिल तो वापस लेने पड़ेंगे…पैनल में मौजूद कृषि विश्लेषक ने कहा कि सुधार की गुंजाइश है। तो अंजना ओम कश्यप ने राकेश टिकैत से पूछा कि क्या सुधार से आप मान जाएंगे? इसपर राकेश टिकैत ने फिर जवाब दिया कि ‘बिल वापस लेने पड़ेंगे..हम चाहते हैं कि एक न्यूनतम समर्थन की गारंटी सरकार की तरफ से मिल जाए ये कानून के जरिए आए।’

बहरहाल आपको बता दें कि किसानों ने अब अपनी मांग के समर्थन में आंदोलन को और तेज करने की बात कही है। किसान नेता बूटा सिंह ने कहा है कि ‘हमने 10 तारीख का अल्टीमेटम दिया हुआ था कि अगर PM ने हमारी बातों को नहीं सुना और कानूनों को रद्द नहीं किया तो सारे धरने रेलवे ट्रैक पर आ जाएंगे। आज की बैठक में ये फैसला हुआ कि अब रेलवे ट्रैक पर पूरे भारत के लोग जाएंगे। संयुक्त किसान मंच इसकी तारीख की जल्द घोषणा करेगा।’

Next Stories
1 एंकर ने पूछा – बिना हिंसा के चुनाव नहीं हो सकता? पैनल में शामिल TMC नेता से बोले राजनीतिक विश्लेषक “TMC ने क्या ग़दर मचा रखा है यह बंगाल की जनता जानती है”
2 ‘चड्डा, नड्डा, फड्डा, भड्डा सब यही हैं, BJP के पास काम नहीं’; पश्चिम बंगाल में जेपी नड्डा के काफिले पर हमले के बाद बोलीं CM ममता बनर्जी
3 दिल्ली: डिप्टी CM मनीष सिसोदिया का आरोप- BJP कार्यकर्ता जबरन घुस गए घर के अंदर, पुलिस ने 6 लोगों को किया गिरफ्तार
यह पढ़ा क्या?
X